श्रीलंका में खेली गई निडास ट्रौफी की सबसे बड़ी खोज टीम इंडिया के स्पिनर वाशिंगटन सुंदर कहे जा सकते हैं. सुंदर इस पूरी सीरीज के सबसे चमकते सितारे बने. भुवनेश्वर और जसप्रीत बुमराह की अनुपस्थिति में जब टीम इंडिया को दूसरे तेज गेंदबाज कामयाबी नहीं दिला पाए, उस समय पारी की शुरुआत में ही वाशिंगटन सुंदर ने अपनी टीम को कामयाबियां दिलाईं. इस सीरीज में वह सबसे किफायती गेंदबाज रहे.

वाशिंगटन सुंदर ने टी-20 जैसे फौर्मेट में 5.70 की स्ट्राइक रेट से रन दिए. उन्होंने 5 मैचों की 5 पारियों में सबसे ज्यादा 8 विकेट लिए. इसके लिए उन्हें मैन औफ द सीरीज का खिताब दिया गया. वह दुनिया में सबसे कम उम्र में मैन औफ द सीरीज का खिताब पाने वाले खिलाड़ी बन गए हैं.

सबसे कम उम्र में मैन औफ द सीरीज बनने वाले खिलाड़ियों में सबसे रोचक बात ये है कि अब तक तीनों ही बार ये रिकौर्ड एक गेंदबाज ने बनाया है. भारत की ओर से अब तक ये रिकौर्ड नरेंद्र हिरवानी के नाम था. दुनिया में सबसे कम उम्र में मैन औफ द सीरीज का खिताब पाकिस्तान के तेज गेंदबाज वकार यूनिस को मिला था. अब ये रिकौर्ड वाशिंगटन सुंदर के नाम है.

sports

  • 18 साल 164 दिन वाशिंगटन सुंदर    2018
  • 18 साल 169 दिन वकार यूनिस      1990
  • 19 साल 166 दिन    नरेंद्र हिरवानी      1988

खिताबी मुकाबले में भारत ने बांग्लादेश को दिनेश कार्तिक की शानदार पारी की बदौलत मात दी. वाशिंगटन सुंदर जब पुरस्कार लेने पहुंचे तो उन्होंने कहा कि दिनेश भाई ने उनका ये मैच हमेशा के लिए यादगार बना दिया.

सबसे कम उम्र में पहला ओवर फेंकने वाले दूसरे स्पिनर

दिसंबर 2017 में श्रीलंका के खिलाफ टी20 मैच में टीम इंडिया के कप्तान रोहित शर्मा ने चौंकाते हुए गेंदबाजी की शुरुआत तेज गेंदबाज की बजाए स्पिनर वाशिंगटन सुंदर से कराई. इस तरह से वह दुनिया के दूसरे सबसे युवा स्पिनर बन गए, जिसने किसी भी अंतरराष्ट्रीय मैच में पहला ओवर फेंका. सुंदर ने 18 साल और 80 दिन की उम्र में किसी भी अंतरराष्ट्रीय मैच में पारी का पहला ओवर फेंका. अभी तक सबसे कम उम्र में मैच का पहला ओवर फेंकने का रिकौर्ड अफगानिस्तान के स्पिन गेंदबाज मुजीब जादरान के नाम है. उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ वनडे मैच में 16 साल 254 दिन की उम्र में मैच का पहला ओवर फेंका था.

Tags: