सरिता विशेष

अपने बेहतरीन हरफनमौला खेल के दम पर भारत ने रविवार को वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए तीसरे और आखिरी टी-20 मैच में श्रीलंका को पांच विकेट से हरा दिया. इसी के साथ भारत ने तीन टी-20 मैचों की सीरीज पर 3-0 से कब्जा जमा लिया है. इसी जीत के साथ टीम इंडिया ने देश को क्रिसमस और नए साल का शानदार तोहफा दिया. मैच और सीरीज अपने नाम करने के बाद टीम इंडिया के खिलाड़ी मैदान पर क्रिसमस मस्ती करते नजर आए. सभी खिलाड़ी मैच के बाद मैदान पर सांता की टोपी पहने नजर आए, लेकिन इन सब के बीच धोनी सबसे अलग ही दिख रहे थे.

दरअसल, विकेटकीपर-बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी की सांता वाली टोपी बाकी खिलाड़ियों से अलग थी. एक बार फिर से जब मैच फंसने की स्थिति में पहुंच गया, तब धोनी ‘सांता’ बनकर आए और जीत को भारत की झोली में डाल दिया.

एक वक्त पर मैच फंसता नजर आ रहा था, लेकिन दिनेश कार्तिक (नाबाद 18) और महेंद्र सिंह धोनी (16) ने अपने अनुभव का इस्तेमाल करते हुए मैच को भारत के खाते में डाला दिया.

बता दें कि मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम से धोनी की खास यादें जुड़ी हुई हैं. इसी मैदान पर श्रीलंका के खिलाफ ही 2011 में धोनी ने मैच विनिंग छक्का जड़कर भारत को वर्ल्ड चैंपियन बनाया था. इस बार भी धोनी ने उसी छोर से बल्लेबाजी करते हुए इस मैच में भी विनिंग बाउंड्री जड़ी और श्रीलंका के खिलाफ सीरीज पर क्लीन स्वीप की.

खिलाड़ियों ने सांता टोपी पहनकर ही ट्रौफी के साथ फोटो खिंचवाई. इसके बाद ज्यादातर क्रिकेटरों ने अपनी टोपी निकाल दी थी, लेकिन धोनी ने इसे पहने रखा. जिसे देखकर कुछ खिलाड़ियों ने दोबारा टोपी लगा ली.

चौका जड़ भारत को जीत दिलाने वाले धोनी ने मैच के बाद मैदान पर साथी खिलाड़ियों के साथ जमकर मस्ती की. कुलदीप यादव और हार्दिक पांड्या भी धोनी की टोपी के साथ मस्ती करते नजर आए.

टि्वटर पर भी धोनी के ‘सांता’ लुक की जमकर तारीफ हुई. सोशल मीडिया पर भी धोनी की सांता वाली टोपी छा गई. लोगों ने इसको लेकर कई ट्वीट्स किए हैं.

कुछ ऐसा रहा मैच का रोमांच

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने टौस जीतकर श्रीलंकाई टीम को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया और अपने गेंदबाजों के दम पर उसे निर्धारित 20 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर 135 रनों पर ही सीमित कर दिया. इस आसान से लक्ष्य को हासिल करने के लिए हालांकि मेजबान टीम को आखिरी ओवर की दूसरी गेंद तक का इंतजार करना पड़ा. भारत ने पांच विकेट खोकर लक्ष्य हासिल करते हुए श्रीलंका के जीत के साथ दौरे का अंत करने के सपने को तोड़ दिया.