भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने कहा कि सेंचुरियन टेस्ट में परफौर्म नहीं करने पर भारतीय कप्तान विराट कोहली को भी टीम से बाहर हो जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि विराट कोहली गलत प्लेइंग इलेवन के साथ इस मैच में उतरे.

सहवाग के मुताबिक भुवनेश्वर कुमार को टीम से बाहर बिठाना भारतीय टीम को महंगा पड़ा. बता दें कि विराट कोहली ने पिच का हवाला देते हुए दूसरे टेस्ट मैच में भुवनेश्वर की जगह ईशांत शर्मा को टीम में शामिल किया था. सहवाग ने एक इंटरव्यू के दौरान मैच के पहले दिन अपनी बात रखते हुए कहा कि भुवनेश्वर कुमार ने केपटाउन में सबसे अधिक छह विकेट लिए थे.

sports

वह अभी लय में थे, ऐसे में उन्हें टीम से बाहर करने से उनका मनोबल भी गिरा होगा. उन्होंने कहा कि भुवनेश्वर के टीम में नहीं होने से दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज बेखौफ होकर भारतीय गेंदबाजों पर आक्रमण करने लगे. उन्होंने कहा कि गेंदबाजी के साथ-साथ भुवनेश्वर ने टीम के लिए अहम रन भी जोड़े. सहवाग ने कहा कि अगर खिलाड़ियों को टीम में चयन करने का यही मापदंड है तो ये सभी के साथ होना चाहिए.

सहवाग ने विराट कोहली को लेकर कहा कि अगर किसी मैदान पर उनका रिकौर्ड खराब है तो उन्हें भी वहां नहीं खेलना चाहिए. टीम के हर खिलाड़ी के साथ समान व्यवहार किया जाए, गेंदबाज और बल्लेबाज में फर्क नहीं होना चाहिए.

इससे पहले पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने भी विराट कोहली के फैसले पर नाराजगी जाहिर की थी. गावस्कर ने कहा कि विराट ने दक्षिण अफ्रीका को हल्के में लेने की भूल की. उन्होंने वहां टेस्ट मैच से पहले प्रैक्टिस करना जरूरी नहीं समझा.

उन्होंने कहा कि विराट कोहली मैच के लिए प्लेइंग इलेवन का चयन भी ठीक तरीके से नहीं कर पा रहे हैं. उल्लेखनीय है कि अभी तक भारतीय टेस्ट टीम के उपकप्तान अंजिक्य रहाणे को दोनों मैचों में खेलने का मौका नहीं मिला है. जिसकी काफी आलोचना भी की गई है. बता दें कि दक्षिण अफ्रीका ने सुपरस्पोर्ट पार्क मैदान पर खेले गए दूसरे टेस्ट मैच के आखिरी दिन बुधवार को भारत को 135 रनों से हरा दिया. इसी के साथ दक्षिण अफ्रीका ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त ले ली है.