सरिता विशेष

2018 में तुर्की में आयोजित ‘इंटरनैशनल स्कीइंग कंपीटिशन’ में कांस्य पदक जीतने वाली आंचल ठाकुर हिमाचल प्रदेश के मनाली शहर की रहने वाली हैं. 21 वर्षीय आंचल यह कारनामा करने वाली पहली भारतीय हैं. उन्होंने अल्पाइन एज्दर 3200 कप में इस पदक को जीत कर इतिहास रचा है. भारत में विंटर खेल को अधिक महत्त्व नहीं दिया गया. ऐसे में आंचल ने अपनी मेहनत और लगन के बल पर अपना मुकाम हासिल किया है.

आंचल ने यह मैडल स्लालम अर्थात सांप के आकार के रास्ते पर ‘स्की’ करते हुए जीता. इस खेल  का आयोजन फैडरेशन इंटरनैशनल स्की रेस (एफआईएस) करता है. इस पदक के अलावा आंचल को 2017 के नैशनल गेम्स में 2 मैडल, कई सम्मान व प्रशस्ति पत्र भी मिल चुके हैं.

ऐसे हुई शुरुआत

इस खेल की प्रेरणा कहां से मिली? पूछे जाने पर वे बताती हैं, ‘‘मेरे पिता रोशन ठाकुर अपने समय में नैशनल चैंपियन थे और मेरा बड़ा भाई हिमांशु ठाकुर भी चैंपियन है. ऐसे में मैं ने बचपन से इस खेल को नजदीक से देखा है. मैं ने 5 साल की उम्र से इस खेल को सीखना शुरू कर किया था. मैं उत्साहित हो जाती थी और थोड़ाथोड़ा करती थी. असल ट्रेनिंग 11 साल की उम्र से शुरू  की. ‘‘इस की ट्रेनिंग विंटर में ही होती है, तब तापमान-30 डिग्री होता है. ऐसे में अंदर से स्ट्रैंथ की आवश्यकता होती है. गरमियों में शारीरिक ट्रेनिंग होती है, जबकि ठंड में तकनीकी अभ्यास किया जाता है, क्योंकि इस में सही संतुलन के साथसाथ थाई मसल्स भी स्ट्रौंग होनी आवश्यक है. यह एक एडवैंचर खेल है, जिस में खूब मजा आता है.’’ शुरू में आंचल को ऊपर से नीचे उतरने में डर लगता था, पर अब नहीं. उन के हिसाब से शुरूशुरू में वे 2 हजार मीटर की हाइट के नीचे उतरती थीं. उस के बाद 4 हजार मीटर की बर्फीली पहाड़ियों से उतरने लगीं.

फिटनैस का महत्त्व

आंचल का मानना है कि महिलाएं किसी भी क्षेत्र में हों, उन का फिट रहना जरूरी है. वे परिवार की धुरी होती हैं और सब से जरूरी बात यह कि फिटनैस से आत्मविश्वास बढ़ता है. असफलता मिलने पर आंचल को मायूसियों से भी गुजरना पड़ता है. ऐसे में उन की मां उन्हें हमेशा सपोर्ट करती है. आंचल कहती हैं, ‘‘इस खेल में आक्रामकता और आत्मविश्वास से ही प्रतिद्वंद्वी को हराया जाता है. इस के लिए खिलाड़ी को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत होने की जरूरत होती है.’’ समय मिले तो आंचल वू शु, किक बौक्सिंग, पेंटिंग, डांस आदि करती हैं. तकनीक सीखने के लिए आंचल अधिकतर स्विटजरलैंड, आस्ट्रिया और न्यूजीलैंड जाती हैं. वहां के कोचों से नईनई तकनीक सीखती है. उन्हें वहां के कोच हायर करने पड़ते हैं, जिस के लिए विंटर गेम फैडरेशन वित्तीय सहयोग करती है. आंचल 2022 में चीन के बीजिंग शहर में आयोजित होने वाली ओलिंपिक गेम्स में गोल्ड मैडल के लिए कड़ी मेहनत कर रही है. वे कहती हैं कि इस खेल में अधिक से अधिक प्लेयर्स को आना चाहिए. इस के अलावा सरकार को इस खेल को ‘प्रायौरिटी कैटेगरी’ में रखना चाहिए ताकि खिलाड़ियों को नए अवसर मिल सकें. इस से इस खेल में अधिक संख्या में खिलाड़ी आ सकेंगे.

VIDEO : हेयरस्टाइल स्पेशल

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.