रियो ओलंपिक की सिल्वर मेडल विजेता और स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु कौमनवेल्थ गेम्स 2018 की ओपनिंग सेरिमनी में तिरंगा लेकर भारतीय दल की अगुवाई करेंगी. इस बार कौमनवेल्थ गेम्स 2018 गोल्ड कोस्ट में आयोजित होने हैं. बता दें भारतीय ओलिंपिक संघ (IOA) ने इस संबंध में बैठक की थी, जिसमें यह निर्णय लिया गया कि कौमनवेल्थ खेलों में राष्ट्र ध्वज लेकर भारतीय दल का नेतृत्व यह बैडमिंटन स्टार करेंगी.

हैदराबाद की इस स्टार शटलर को उनकी नई भूमिका के बारे में जानकारी दे दी गई है. सिंधु को कौमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिए पदक जीतने का सबसे प्रमुख दावेदारों में से एक माना जा रहा है. इसलिए इस बार के कौमवेल्थ खेलों में देशवासियों को उनसे उम्मीद है कि वह इस बार कौमनवेल्थ खेलों में पहले के प्रदर्शन को और बेहतर बनाते हुए यहां महिला एकल में स्वर्ण पदक अपने नाम करेंगी.

मालूम हो कि शुक्रवार को सिंधु पिछले सप्ताह औल इंग्लैंड चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंची थीं. इससे पहले वर्ष 2014 में ग्लासगो में आयोजित हुए कौमनवेल्थ खेलों में उन्होंने ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कौमनवेल्थ खेलों के पिछले तीन संस्करणों के बाद ऐसा पहली बार होगा जब कोई बैडमिंटन खिलाड़ी इन खेलों में भारतीय दल का नेतृत्व करेगा. इससे पहले साल 2006 में मेलबर्न में आयोजित कौमनवेल्थ खेलों में ऐथेन्स ओलिंपिक में रजत पदक विजेता शूटर राज्यवर्धन सिंह राठौर ने ध्वज लेकर भारतीय दल का नेतृत्व किया था. राठौर वर्तमान में केंद्रीय खेल मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं.

2010 में दिल्ली कौमनवेल्थ खेलों के दौरान बीजिंग ओलिंपिक में गोल्ड मेडल अपने नाम करने वाले शूटर अभिनव बिंद्रा ने भारतीय दल की अगुवाई की थी. इसके बाद साल 2014 में ग्लासगो कौमनवेल्थ खेलों के दौरान लंदन ओलिंपिक में शूटिंग में रजत पदक अपने नाम करने वाले विजय कुमार ने यह जिम्मेदारी निभाई थी.

Tags: