एक तरफ भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली नया कीर्तिमान रच रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को चयनकर्ता बाहर का रास्ता दिखा रहे हैं. शायद इसलिए क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल माना जाता है. आज समय विराट कोहली का है, एम एस धौनी का नहीं.

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को भारतीय टी 20 टीम से चयनकर्ताओं ने बाहर कर दिया है यानी 2 शृंखलाओं वैस्टइंडीज और आस्ट्रेलिया के खिलाफ धौनी नहीं खेल पाएंगे.

चयनकर्ताओं के इस फैसले से इस प्रारूप में एक तरह से माना जा रहा है कि धौनी के कैरियर का अंत है. चयनकर्ताओं का कहना है कि धौनी को आराम दिया गया है, क्योंकि टीम दूसरे विकेटकीपरों को मौका देना चाहती है. दूसरे विकेटकीपरों यानी दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत को यह मौका दिया गया है.

धौनी के दिन इन दिनों ठीक नहीं चल रहे हैं. टी 20 मैचों में अपनी 5 पारियों में उन्होंने 32,11,12,52 और 16 रन बनाए हैं. आखिरी 5 एकदिवसीय मैचों की बात करें तो धौनी 20, 36, 8, 33 और जीरो रन ही बना पाए.

धौनी पिछले कुछ महीनों से खराब फौर्म में चल रहे थे. न तो उन के बल्ले से रनों की बौछार हो रही थी और न ही धौनी फुरती से स्टंपिंग कर पा रहे थे. चयनकर्ताओं का निर्णय अच्छा इसलिए माना जा सकता है कि जब तक धौनी इस प्रारूप में खेलते तो तय था कि दूसरे विकेटकीपरों को यह मौका नहीं मिलता.

धौनी की उम्र हो चुकी है. यदि भविष्य में ऐसा नहीं किया गया तो भारतीय टीम में विकेटकीपर का अकाल पड़ जाएगा. दिनेश कार्तिक इन दिनों अच्छे फौर्म में चल रहे हैं. ऋषभ पंत युवा खिलाड़ी हैं. ऐसे में उन्हें यह मौका मिला है तो उन्हें अपने को धौनी जैसा साबित करना होगा, नहीं तो चयनकर्ताओं को यह मलाल रहेगा कि धौनी को आराम या यों कह लें कि विराम नहीं देना चाहिए था.

Tags:
COMMENT