सरिता विशेष

पूर्व भारतीय क्रिकेटर और कप्तान अजित वाडेकर का बुधवार को निधन हो गया. वह 77 साल के थे और काफी समय से बीमार चल रहे थे. 1 अप्रैल, 1941 को मुंबई में जन्मे अजित वाडेकर ने करीब 25 साल की आयु में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट करियर शुरू किया था.

वाडेकर की कप्तानी में भारत ने पहली बार विदेश में जीत हासिल की थी. यह कारनामा उन्होंने 1971 में किया, जब टीम वेस्टइंडीज और इंग्लैंड दौरे पर गई थी. भारतीय टीम ने 6 मार्च को पोर्ट ऑफ स्पेन में वेस्टइंडीज को सात विकेट से हराकर विदेशी धरती पर पहली जीत दर्ज की थी.

इसके बाद भारत ने इंग्लैंड को उसके घर में पहली बार शिकस्त दी.लॉर्ड्स और ओल्ड ट्रैफर्ड में खेले गए पहले दो टेस्ट मैच ड्रॉ हो जाने के बाद भारत ने ओवल टेस्ट में ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी. इसके अलावा उन्हें पहली बार भारतीय वनडे टीम का कप्तान भी बनाया गया था. उन्होंने 1966 से 1974 तक क्रिकेट खेला और उसके बाद संन्यास लिया. अजित वाडेकर ने 37 टेस्ट मैचों में 31.07 की औसत से 2,113 रन बनाए थे. वह 90 के दशक में भारतीय टीम के मैनेजर भी रहे.

इसके अलावा इन्होंने 2 वनडे मैचों में भी शिरकत की जिसमें इनके नाम 73 रन दर्ज हैं. टेस्ट मैचों में इन्होंने एक शतक और 14 अर्धशतक जमाए थे. उन्होंने 1974 जुलाई में इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी टेस्ट और वनडे खेला.