भारतीय फर्राटा धाविका दुती ने 18वें एशियाई खेलों में महिला 100 मीटर दौड़ में सिल्वर जीता. जो देश का इन खेलों में 20 साल में पहला पदक है. भारत ने एशियाई खेलों की 100 मीटर महिला दौड़ में पिछली बार 1998 में पदक जीता था, जब ऋचा मिस्त्री कांस्य पदक जीतने में सफल रही थीं.

बता दें कि आईएएएफ ने 2014 में अपनी हाइपरएंड्रोगेनिजम नीति के तहत दुती को निलंबित कर दिया था जिस वजह से उन्हें उस साल के कौमनवेल्थ गेम्स के भारतीय दल से बाहर कर दिया गया था. ओडिसा की रहने वाली 22 साल की दुती ने आईएएएफ के फैसले के खिलाफ खेल पंचाट में अपील दायर की और इस मामले में जीत दर्ज करते हुए वापसी की. दुती ने कहा, ‘2014 मेरे लिए बहुत बुरा साल था. लोग मेरे बारे में कई तरह की बात कर रहे थे. उसी लड़की ने आज वापसी की और देश के लिए पदक जीतने में सफल रही. यह मेरे लिए बड़ी सफलता है.’

उन्होंने कहा, ‘सेमीफाइनल के शुरुआती 20 मीटर में मैं तेज नहीं दौड़ी थी. मेरे कोच ने मुझे इस बारे में बताया और कहा कि मुझे तेज शुरुआत करनी होगी. फाइनल में शुरुआती 40 मीटर में मैं काफी तेज दौड़ी. मैं आंखे बंद करके दौड़ रही थी. पदक के बारे में सोचे बिना मैं अपने समय को बेहतर करना चाह रही थी.’

दुती ने कहा, ‘जब मैंने आंखें खोलीं, दौड़ पूरी हो चुकी थी. मुझे नहीं पता था कि क्या हुआ. लोगों ने कहा कि मैं पदक जीत गई हूं लेकिन मुझे विश्वास नहीं हुआ, मैंने स्क्रीन पर नतीजा देखने के बाद ही झंडा उठाया.’

गौरतलब है कि सातवें नंबर की लेन में दौड़ रहीं दुती ने 11.32 सेकेंड का समय लिया, जो 11.29 सेकेंड के उनके राष्ट्रीय रिकौर्ड से मामूली रूप से कम है. बहरीन की ओडियोंग एडिडियोंग ने करीबी मुकाबले में 11 .30 सेकेंड के समय के साथ सोने का तमगा जीता जबकि चीन की वेई योंगली ने 11 .33 सेकेंड के समय से कांस्य पदक हासिल किया. भारत ने एशियाई खेलों की 100 मीटर महिला दौड़ में पिछली बार 1998 में पदक जीता था जब रिचा मिस्त्री ब्रॉन्ज पदक जीतने में सफल रही थी.