दुनिया में सबसे तेज गेंदबाजों का जब भी जिक्र होता है तो दो नाम जरूर लिए जाते हैं एक पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर और दूसरा पूर्व आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ब्रेट ली का.

ब्रेट ली का खौफ बल्लेबाजों में हमेशा रहा है. मैदान पर आने वाले बल्लेबाज इसी कोशिश में रहते थे कि उन्हें ब्रेट ली की कम से कम गेंदों का सामना करना पड़े. ब्रेट ली की गेंदों की रफ्तार इतनी होती थी कि वह पलक झपकते ही बल्लेबाज की गिल्लियां उड़ा देते थे. ब्रेट ली अपने बाउंसर्स के लिए जाने जाते थे.

अगर कोई बल्लेबाज उनकी गेंदों पर चौका या छक्का जड़ता तो वह बाउंसर्स से उसका जवाब देते थे. लेकिन उनके बाउंसर्स कई बार इतने खतरनाक साबित होते थे कि अच्छे-अच्छे बल्लेबाजों को मैदान छोड़कर बाहर जाना पड़ता था. आज ही के दिन इस दिग्गज गेंदबाज का जन्म 1976 के न्यू साउथ वेल्स में हुआ था. ब्रेट ली आज 41 साल के हो गए हैं.

ब्रेट ली ने अपने क्रिकेट करियर में कुछ ऐसे बाउंसर्स डाले जिसने अच्छे-खासे बल्लेबाजों को पवेलियन भेजने का काम किया. इन बल्लेबाजों की लिस्ट में केन्या, वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड, साउथ-अफ्रीका के साथ-साथ भारत के खिलाड़ी भी शामिल हैं.

भारतीय क्रिकेट टीम में सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, सौरव गांगुली से लेकर महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली जैसे दिग्गज बल्लेबाजों को ली अपनी गेंदबाजी से परेशान कर चुके हैं. ब्रेट ली ने अपने बाउंसर से तेंदुलकर को परेशान किया है तो उन्होंने अपने कवर ड्राइव से ली को शानदार जवाब भी दिया है. ब्रेट ली की एक खतरनाक गेंद हर भारतीय फैन को याद होगी, जब उन्होंने राहुल द्रविड़ के कान से खून निकाल दिया था.

दरअसल, सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर 2004 में बार्डर-गावस्कर सीरीज का मैच खेला जा रहा था. पहली पारी में भारत ने 705 रन बनाए थे और आस्ट्रेलियाई पारी 474 रनों पर सिमट गई थी. दूसरी पारी में टीम इंडिया ने 2 विकेट पर 211 रन बना लिए थे और राहुल द्रविड़ 91 रन बनाकर खेल रहे थे. तभी ब्रेट ली ने एक बाउंसर करवाया, जो द्रविड़ के कान पर जा लगी और कान से खून निकलने लगा.

इसके आलावा एक तेज बाउंसर द्रविड़ के सिर पर लगा इसके बाद द्रविड़ ने तुरंत हेलमेट खोला और सिर दबाना शुरू किया और बिना देरी किए मैदान से बाहर चले गए. तभी कप्तान सौरव गांगुली ने उस समय पारी घोषित कर दी थी. अंत में यह मैच ड्रा पर खत्म हुआ था.

ब्रेट ली का क्रिकेट करियर

ब्रेट ली ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत पाकिस्तान के खिलाफ 1999 में की थी. उन्होंने अपने क्रिकेट करियर के दौरान कई ऐतहासिक रिकार्ड अपने नाम किए. साथ ही आस्ट्रेलिया के साथ-साथ दुनिया के भी सबसे घातक गेंदबाजों की फेहरिस्त में खुद को शामिल किया. पाकिस्तान के शोएब अख्तर के बाद तेज गेंदबाजी में दूसरे नंबर पर ब्रेट ली का नंबर ही आता है.

बता दें कि ब्रेट ली ने 76 टेस्‍ट में 310 विकेट हासिल किए हैं, वहीं 221 वनडे में उनके नाम 380 विकेट दर्ज हैं. इसके अलावा ब्रेट ली ने 25 टी20 मैच भी खेले हैं जिसमें उन्‍होंने 28 विकेट लिए हैं. ब्रेट ली 2012 में वनडे जबकि 2015 में टी-20 क्रिकेट से संन्यास ले लिया था.

Tags: