30 जनवरी, 2018 की बात है. झारखंड के जिला हजारीबाग के थाना बड़ा बाजार के थानाप्रभारी नथुनी प्रसाद शाम के समय अपने औफिस में बैठे थे तभी एक व्यक्ति उन के पास आया. थानाप्रभारी ने उसे कुरसी पर बैठने का इशारा करते हुए आने का कारण पूछा तो उस ने बताया, ‘‘सर, मेरा नाम विनोद पाठक है.’’ मैं जयप्रभा नगर कालोनी में किराए के मकान में बीवीबच्चों के साथ रहता हूं. आज मेरी बीवी अन्नू पाठक सुबह किसी काम से बाहर गई थी. वह अभी तक नहीं लौटी है. मैं ने अपने स्तर पर उसे सब जगह तलाशा लेकिन उस का कहीं पता नहीं चला. मैं बहुत परेशान हूं, प्लीज मेरी मदद कीजिए.’’

‘‘क्या? बीवी कहीं चली गई?’’ नथुनी प्रसाद आश्चर्य से बोले, ‘‘पर कहां चली गई?’’

‘‘नहीं जानता सर, कहां चली गई.’’ विनोद बोला.

‘‘कहीं पत्नी से झगड़ा वगैरह तो नहीं हुआ था. जिस से वह नाराज हो कर कहीं चली गई.’’ थानाप्रभारी ने पूछा.

‘‘नहीं सर, ऐसी कोई बात नहीं है. मेरे और पत्नी के बीच कोई झगड़ा नहीं हुआ था.’’ विनोद ने बताया.

‘‘एक काम करिए. पत्नी की गुमशुदगी की एक तहरीर लिख कर दे दीजिए. मैं दिखवाता हूं कि मामला क्या है?’’ थानाप्रभारी ने कहा.

‘‘मैं एक दरख्वास्त लिख कर लाया हूं सर.’’ थानाप्रभारी की ओर एक पेपर बढ़ाते हुए वह बोला.

थानाप्रभारी ने उस की दी हुई दरख्वास्त पर एक नजर डाली और वह मुंशी को गुमशुदगी दर्ज कराने के लिए दे दी. इस के बाद उन्होंने विनोद को आश्वस्त कर घर जाने के लिए कह दिया.

पत्नी की गुमशुदगी की सूचना दे कर विनोद पाठक जैसे ही थाने से निकल कर कुछ दूर गया होगा. तभी एक गोरीचिट्ठी, बेहद खूबसूरत लड़की जिस की उम्र यही कोई 16-17 साल के करीब रही होगी. थानाप्रभारी के पास पहुंची. उस के साथ मोहल्ले के कई संभ्रांत लोग भी थे.

उस लड़की ने अपना नाम कीर्ति पाठक पुत्री विनोद पाठक निवासी जयप्रभा नगर बताया. उस ने थानाप्रभारी नथुनी प्रसाद को बताया कि उस की मां अन्नू पाठक आज सुबह से घर से गायब है. उन का अब तक कहीं पता नहीं चला है. उसे आशंका है कि कहीं उस के पापा विनोद पाठक ने ही मां के साथ कोई अनहोनी न कर दी हो.

कीर्ति के मुंह से इतना सुनते ही थानाप्रभारी उस लड़की की तरफ गौर से देखने लगे. क्योंकि अभी कुछ देर पहले ही उस के पिता भी पत्नी की गुमशुदगी लिखाने आए थे. अब बेटी ही पिता पर मां को गायब करने का शक कर रही है. इस से यह मामला तो बड़ा गंभीर और पेचीदा लगने लगा.

थानाप्रभारी ने कीर्ति से पिता पर लगाए जाने वाले आरोप की वजह पूछी तो उस ने विस्तार से मां और पिता के बीच के संबंधों के बारे में और उन के बीच सालों से चले आ रहे झगड़े के बारे में बता दिया. कीर्ति की बात सुन कर थानाप्रभारी चौंक गए कि एक महिला पुलिस इंसपेक्टर के साथ बने अवैध संबंधों की वजह से विनोद पाठक अपनी पत्नी को मारतापीटता था.

थानाप्रभारी ने एसआई श्याम कुमार को विनोद पाठक के घर मामले की जांच के लिए भेज दिया. एसआई श्याम कुमार जांच के लिए विनोद पाठक के यहां पहुंच गए. उन्होंने विनोद के बच्चों के अलावा पड़ोसियों से भी पूछताछ की.

प्रारंभिक जांच कर के एसआई श्याम कुमार ने थानाप्रभारी को बता दिया कि विनोद पाठक की पत्नी अन्नू पाठक वास्तव में गायब है. इस के अलावा विनोद पाठक भी थाने में सूचना देने के बाद से लापता है. उस का मोबाइल फोन भी स्विच्ड औफ आ रहा है.

socity

अगले दिन 31 जनवरी की सुबह 10-11 बजे के करीब थानाप्रभारी नथुनी प्रसाद विनोद पाठक के घर पहुंच गए. पुलिस को देख कर मोहल्ले के लोग वहां जमा हो गए. अन्नू के साथसाथ विनोद पाठक घर पर नहीं था. घर में उन के तीनों बच्चे कीर्ति, वाणी और वंश ही थे. पूछने पर बच्चों ने पुलिस को बताया कि पापा बीती रात से ही घर नहीं लौटे हैं.

यह जान कर थानाप्रभारी को विनोद पर ही शक हो गया कि जरूर पत्नी के गायब होने में उस का हाथ रहा होगा. तभी वह फरार है. जैसे ही वह उस के घर में घुसे तभी हल्कीहल्की बदबू आती हुई महसूस हुई. पुलिस ने घर का कोनाकोना छान मारा लेकिन बदबू कहां से आ रही थी पता नहीं चला. एक कमरे में दरवाएजे पर ताला लटका मिला. पुलिस ने कीर्ति से तालाबंद होने की वजह पूछी तो उस ने बताया कि वह कमरा मां का है. उस में मां रहती हैं. जब से वह गायब हैं तब से उस कमरे पर नया ताला लगा है. पापा ने उसे बताया था कि अन्नू मायके जाते समय कमरे में ताला लगा कर चाबी अपने साथ ले गई है.

कीर्ति की यह बात थानाप्रभारी के गले नहीं उतरी क्योंकि जब घर में पहले से सभी कमरों के ताले और उस की 2-2 चाबियां थीं तो मां ने नया ताला क्यों खरीदा. शंका होने पर उन्होंने उस कमरे का ताला तोड़ने के निर्देश साथ आए पुलिसकर्मियों को दिए.

ताला टूटने के बाद पुलिस जैसे ही कमरे में घुसी तो महसूस हुआ कि बदबू इसी कमरे से आ रही है. पुलिस कमरे में वह चीज ढूंढने लगी जहां से वह बदबू आ रही थी. ढूंढतेढूढते पुलिस जैसे ही दीवान के करीब पहुंची तो बदबू और तेज हो गई. मतलब साफ था कि बदबू दीवान के भीतर से आ रही थी. पुलिस ने दीवान को खोला तो भीतर का नजारा देख कर आंखें फटी की फटी रह गईं.

दीवान में काफी खून फैला था जो सूख चुका था. वहां एक काले रंग की पौलीथिन थैली और एक प्लास्टिक का बोरा रखा था. उन पर भी खून लगा था जो सूख चुका था. थानाप्रभारी को समझते देर न लगी कि विनोद ने पत्नी की हत्या कर के उस की लाश दीवान में छिपा दी है.

उन्होंने प्लास्टिक का बोरा खुलवाया तो खोलते ही सब के होश उड़ गए. काली पौलीथिन में अन्नू का कटा हुआ सिर और बोरे में धड़ था. उस के हाथों को पीछे की ओर कर के प्लास्टिक की रस्सी से बांध दिया गया था. उस के पैर घुटनों से मोड़ कर पेट से बांध दिए थे.

पिछले 2 दिनों से रहस्यमय तरीके से गायब अन्नू पाठक की उस के ही बेडरूम में लाश पाए जाने के बाद रहस्य से परदा उठ गया. मां की लाश मिलते ही तीनों बच्चे दहाड़ें मार कर रोने लगे. उन के रोने की आवाज सुन कर पड़ोसी भी वहां आ गए, बच्चों को ढांढ़स बंधाने लगे. विनोद का अभी कुछ पता नहीं था कि वह कहां है.

अन्नू पाठक की लाश बरामद किए जाने की सूचना थानाप्रभारी ने डीएसपी चंदनवत्स और एसपी अनीश गुप्ता को दे दी. कुछ ही देर बाद एसपी और डीएसपी भी मौके पर पहुंच गए थे.

तलाशी के दौरान पुलिस को रसोई घर में रखी डस्टबिन से एक चाकू बरामद हुआ. चाकू के ऊपर खून लगा हुआ था, जो सूख चुका था. लग रहा था कि शायद इसी चाकू से अन्नू की हत्या की गई होगी. पुलिस ने चाकू अपने कब्जे में लिया. अन्नू की हत्या की सूचना उस के मायके वालों को भी दे दी गई थी. फिर जरूरी काररवाई कर के लाश पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दी.

अगले दिन यानी पहली फरवरी, 2018 को थानाप्रभारी ने अन्नू के घर पहुंच कर उस की बड़ी बेटी कीर्ति से विस्तार से पूछताछ की. कीर्ति ने कहा कि उस के पापा उसे और मम्मी को पिछले 5 सालों से प्रताडि़त करते चले आ रहे हैं. जिस मंजू ठाकुर नाम की महिला से उन के गलत संबंध हैं वह इसी शहर में पुलिस इंसपेक्टर है. थानाप्रभारी ने यह जानकारी एसपी अनीश गुप्ता को दे दी.

कीर्ति ने जिस हौसले के साथ अपने पिता के चरित्र पर आरोप लगाया था. वह ऐसे ही नहीं लगाया था. उस के पास प्रत्यक्ष तौर पर कई प्रमाण भी थे. इंसपेक्टर मंजू ठाकुर के उस के पापा विनोद पाठक से वर्ष 2013 से संबंध थे. वह उस के पापा से मिलने अकसर घर आती रहती थी.

यही नहीं कई बार तो अन्नू के रहते हुए मंजू ठाकुर विनोद के साथ उस के बिस्तर पर एक साथ सोए भी थे. इस से नाराज हो कर अन्नू अपने मायके रांची चली जाती थी और महीनों वहीं रुक जाती थी. बच्चों के विरोध करने पर विनोद उन्हें निर्दयतापूर्वक पीटता था.

केस में महिला पुलिस इंसपेक्टर मंजू ठाकुर का नाम सामने आने की जानकारी मीडिया वालों को हुई तो मीडिया ने इस मामले को खूब उछाला. इंसपेक्टर मंजू ठाकुर के खिलाफ पुलिस को ठोस सबूत नहीं मिले थे. इसलिए एसपी अनीश गुप्ता ने डीएसपी चंदन वत्स को उस पर नजर रखने के निर्देश दिए.

उधर पुलिस विनोद पाठक को भी सरगर्मी से तलाश रही थी.  6 दिन बीत जाने के बाद भी विनोद पाठक की गिरफ्तारी नहीं हुई और न ही मंजू ठाकुर के खिलाफ पुलिस ने कोई एक्शन लिया था. इस कारण लोग पुलिस का विरोध करने पर उतर आए थे.

4 फरवरी, 2018 की रात हजारीबाग स्टेडियम से झंडा चौक तक एंजेल्स हाईस्कूल, डीपीएस, होली क्रौस वीटीआई, डीएवी पब्लिक स्कूल,संत रोबर्ट बालिका विद्यालय सहित अन्य कई स्कूलों के सैकड़ों छात्रछात्राओं, शिक्षकों ने कैंडल जुलूस निकाला. सदर विधायक मनीष जायसवाल, उपमहापौर आनंद देव, ब्रजकिशोर जायसवाल सहित कई गणमान्य लोग भी जुलूस में शामिल रहे.

6 फरवरी को जदयू के वरिष्ठ नेता बटेश्वर प्रसाद मेहता न्याय दिलाने के लिए एसपी अनीश गुप्ता से मिले. उन्होंने हत्या के आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग की. एसपी से मिले प्रतिनिधिमंडल में जिला सचिव कृष्णा सिंह, नगर महासचिव सतीश कुमार सिन्हा, दीपक कुमार मेहता आदि शामिल थे.

घटना के विरोध में स्कूलों के अलावा विभिन्न सामाजिक संगठन भी उतर आए. उन्होंने कैंडल मार्च निकाल कर मृतका को श्रद्धांजलि दी और दोषी को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की.

इस बीच डीएसपी चंदनवत्स और थानाप्रभारी नथुनी प्रसाद घटना की जांच में जुटे रहे. उधर पुलिस ने मंजू ठाकुर और विनोद ठाकुर के फोन नंबरों की काल डिटेल्स निकलवाई.

काल डिटेल्स की जांच करने पर पता चला कि घटना वाले दिन दोनों के बीच 32 बार बातचीत हुई थी. पुलिस के लिए विनोद या मंजू ठाकुर से पूछताछ करने का यह अच्छा आधार था.

इसी साक्ष्य के आधार पर डीएसपी ने 6 फरवरी को पीटीसी इंसपेक्टर मंजू ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ के लिए उसे थाने लाया गया. पूछताछ में पहले तो वह अन्नू की बेटी कीर्ति  द्वारा उस पर लगाए गए सभी आरोपों को सिरे से नकारती रही. चूंकि मंजू खुद कानून की मंजी हुई खिलाड़ी थी. वह कानून की एकएक बारीकी को अच्छी तरह जानती थी. इसलिए अपने बचाव में वह सभी हथकंडों को इस्तेमाल करती रही.

लेकिन डीएसपी चंदन वत्स भी उस से मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ करते रहे. आखिर वह उन के सवालों के घेरे में फंसती चली गई. अंत में उस ने कानून के आगे घुटने टेक दिए और अपना जुर्म स्वीकार कर लिया. फिर उस ने अपने प्रेमसंबंधों से ले कर अन्नू पाठक की हत्या तक की जो कहानी बताई वह बड़ी दिलचस्प निकली.

45 वर्षीय विनोद पाठक मूलरूप से झारखंड राज्य के हजारीबाग का रहने वाला था. वह हजारीबाग के थाना बड़ा बाजार स्थित पौश कलोनी जयप्रभा नगर में एक किराए के मकान में परिवार के साथ रहता था. उस का परिवार खुशहाल था.

परिवार खुशहाल क्यों न हो, विनोद पाठक भारतीय खनन विभाग-कोल विभाग के सेंट्रल माइन प्लानिंग एंड डिजाइन इंस्टीट्यूट (सीएमपीडीआई) की हजारीबाग जिले की बड़कागांव शाखा में हेड क्लर्क के पद पर नौकरी करता था. वहां उस की अच्छीखासी तनख्वाह थी.

खानेपीने और अन्य खर्च के बावजूद वह अपनी तनख्वाह में से प्रति माह अच्छी रकम बचा लेता था. नौकरी करने के साथसाथ वह एक योग संस्था का जिलाध्यक्ष भी था. विनोद जीवन की नैया बड़े मजे से खे रहा था.

बात सन 2013 की है. विनोद पाठक पतंजलि योग पीठ, हरिद्वार गया था. वहीं पर उस की मुलाकात हजारीबाग जिले के पीटीसी की इंसपेक्टर मंजू ठाकुर से हुई. मंजू ठाकुर पतंजलि योग पीठ के काम से वहां गई हुई थी. दरअसल, इंसपेक्टर मंजू ठाकुर बाबा रामदेव के प्रोडक्ट से इतनी प्रभावित थी कि उस ने उस की एजेंसी ले ली थी.

बातचीत के दौरान जब यह पता चला कि दोनों एक ही प्रांत के ही नहीं बल्कि एक ही जिले के रहने वाले हैं तो उन की खुशियों का ठिकाना नहीं रहा. वैसे भी दूर परदेश में अपने इलाके का कोई मिल जाए तो अपनेपन सा लगता है. इतना ही नहीं उस से दिल का रिश्ता जुड़ जाता है. ऐसा ही कुछ उन के साथ भी हुआ था.

socity

एक ही मुलाकात और एक ही बातचीत में वे एकदूसरे से घुलमिल गए. उन्होंने अपनेअपने पेशे के बारे में भी बता दिया था. उस के बाद काफी देर तक एकदूसरे से बातचीत करते रहे. पतंजलि योग पीठ से वापस लौटते समय दोनों ने अपने फोन नंबर एकदूसरे को दे दिए थे.

मंजू और विनोद दोनों ही सरकारी पेशे से जुड़े हुए थे और हमउम्र थे. मंजू बात करने में काफी चतुर और मृदुभाषी किस्म की औरत थी. विनोद जब से मंजू से मिला था. उस की ओर आकर्षित हुए जा रहा था. इस बात को वह खुद भी नहीं समझ पा रहा था. जब तक दिन में एक-दो बार उस से बात नहीं कर लेता या उस से मिल नहीं लेता था उस के दिल को चैन नहीं मिलता था.

जबकि विनोद जानता था कि उस के परिवार में पत्नी के अलावा 3 बच्चे भी हैं. इतना ही नहीं बेटी भी सयानी हो चुकी है. पत्नी को जब ये बात पता चलेगी तो घर मे वह कितना कोहराम मचाएगी. फिर बच्चे भी उस के बारे में क्या सोचेंगे.

यह सोच कर कुछ पल के लिए उस के कदम जड़ गए थे लेकिन दिल की पुकार के आगे वह नतमस्तक हो गया और मंजू को पाने की हसरत में वह अपने बीवीबच्चों को भूल गया.

मंजू का सान्निध्य पाने के लिए विनोद उस का व्यवसाय पार्टनर बन गया और मटवारी में औफिस और दुकान खोल ली. विनोद ने सोचा कि अब उस पर न तो किसी को शक होगा और न ही कोई उंगली उठा पाएगा.

मंजू भी विनोद पर मर मिटी थी. जबकि वह भी शादीशुदा थी. उस ने भी विनोद से अपने प्यार का इजहार कर दिया था. उस के बाद दोनों भारत स्वाभिमान ट्रस्ट से जुड़ कर काम करते रहे. मंजू कंपनी की ओर से राजस्थान टूर पर गई थी. तब विनोद भी उस के साथ था.

मंजू का विनोद के दिल के साथसाथ उस के परिवार पर भी दबदबा बन गया था. वह जब चाहे तब बिजनैस के बहाने विनोद के घर आ धमकती थी. उस के साथ घंटों बैठे गप्पें लड़ाती और ठहाके मारती. अन्नू कोई दूध पीती बच्ची तो थी नहीं जो  पति की इन हरकतों को न समझती. बात 1-2 दिन की या फिर कभीकभार की होती तो चल सकती थी लेकिन यहां तो लगभग रोज ही वह विनोद के पास चली आती थी.

अन्नू को मंजू का रोजरोज उस के घर आना बरदाश्त से बाहर हो गया था. अब पानी सिर के ऊपर से बह रहा था. जब सब्र का बांध टूट गया तो एक दिन अन्नू पति विनोद से पूछ ही बैठी, ‘‘मैं तुम से एक बात पूछना चाहती हूं पूछ सकती हूं क्या?’’

‘‘हां…हां… क्यों नहीं, बिलकुल पूछ सकती हो. तुम्हारा तो अधिकार है.’’ विनोद संजीदगी के साथ बोला.

‘‘तो ठीक है ये बताइए कि ये पुलिस वाली मंजू यहां रोजरोज क्यों आती है?’’

‘‘बिजनेस के सिलसिले में और क्या?’’ पति ने बताया.

‘‘लेकिन उस का यहां रोजरोज का आना, मुझे पसंद नहीं है. बड़ी बेटी कीर्ति भी नाराज होती है.’’ अन्नू बोली.

‘‘ये कैसी बेतुकी बातें कर रही हो. तुम?’’ विनोद पत्नी के ऊपर नाराज हुआ, ‘‘वो यहां आती हैं तो बिजनैस के बारे में बात करने के लिए ही आती हैं. कोई गप्पें लड़ाने के लिए नहीं और तुम क्या समझती हो कि मैं उन के साथ बैठे क्या कोई गुलछर्रे उड़ाता हूं. समझी तुम ने उन के बारे में आज तो कह दिया आइंदा फिर ऐसा मत कहना. नहीं तो मुझ से बुरा कोई नहीं होगा. मैं उन की बेइज्जती बरदाश्त नहीं कर सकता.’’

झल्लाता हुआ विनोद पत्नी से नजरें चुराते कमरे से बाहर निकल गया. जैसे उस की चोरी पत्नी ने पकड़ ली हो. बाहर निकल कर विनोद ने एक लंबी सांस ली. वह समझ गया कि मंजू को ले कर पत्नी को शक हो गया है.

जिस दिन से अन्नू ने मंजू ठाकुर को ले कर पति विनोद को टोका था उस दिन से पतिपत्नी के रिश्तों में थोड़ी खटास आ गई. विनोद को पत्नी की यह बात बुरी लगी थी कि उस ने मंजू के बारे में उस से पूछ ने की हिम्मत कैसे की. यह पूछ कर उस ने बहुत बड़ी भूल की है. इस भूल का उसे दंड जरूर मिलेगा.

उस दिन के बाद विनोद ने रोजाना ही मंजू को घर बुलाना शुरू कर दिया. इतना ही नहीं अब वह मंजू को अलग कमरे में बुला कर एकांत में बात करता.

यह देख कर अन्नू को गुस्सा आता. यह सब उस की बरदाश्त से बाहर होता जा रहा था. अन्नू ने इस का पुरजोर विरोध शुरू कर दिया. नतीजा विनोद पत्नी की पिटाई करने लगा. अपने सिंदूर का बंटवारा होते हुए अन्नू नहीं देख सकती थी इसलिए वह बच्चों को ले कर मायके रांची चली जाती थी.

जब गुस्सा शांत होता तो लौट कर घर आ जाती. इस तरह अन्नू कई बार मायके जा चुकी थी. लेकिन विनोद पर इस का कोई असर नहीं पड़ा था बल्कि पत्नी के आने के बाद उसे और ज्यादा आजादी मिल जाती थी. वह मंजू के साथ बिना किसी डर के गुलछर्रे उड़ाता.

धीरेधीरे विनोद और मंजू के अनैतिक संबंधों की जानकारी अन्नू के पूरे नातेरिश्तेदारों तक फैल गई थी. विनोद की चारों ओर बदनामी हो रही थी. उसे शक हो गया था कि अन्नू ही उस की बदनामी करा रही है. इसलिए अब वह उस पर पहले से ज्यादा सितम ढाने लगा.

पत्नी के साथसाथ वह बच्चों की भी पिटाई करने लगा. वह अपनी बड़ी बेटी कीर्ति को ज्यादा मारता था. क्योंकि कीर्ति भी मंजू का विरोध करती थी. वह अपनी मां का पक्ष लेती थी.

बच्चों को बेदर्दी से पिटता देख अन्नू की जैसे जान ही निकल जाती थी. अन्नू ने एक दिन दुखी हो कर मंजू को फोन कर के कहा, ‘‘तुम दोनों अगर शादी करना चाहते हो तो कर लो. मैं कुछ नहीं बोलूंगी. तुम्हारे रास्ते से मैं हमेशा के लिए हट जाऊंगी. लेकिन मेरे बच्चों को मत सताओ.’’

अन्नू की याचना इतनी दर्दभरी थी कि उस की आंखों से आंसू टपकने लगे. लेकिन मंजू पर उस की याचना का रत्ती भर भी असर नहीं हुआ था. बल्कि वह भी तो यही चाहती थी कि अन्नू उस के रास्ते से हमेशाहमेशा के लिए हट जाए.

उसी समय मंजू की दिमाग में एक विचार आया कि क्यों न अन्नू को रास्ते से हटा दिया जाए. एक दिन मंजू ने विनोद को विश्वास में ले कर उकसाया कि अन्नू को रास्ते से हटा दो. ताकि हमें फिर किसी का डर नहीं रहे.

प्रेम में अंधे विनोद को प्रेमिका मंजू की बातें जंच गईं. पत्नी को रास्ते से हटाने के लिए वह उपाय सोचने लगा. तब मंजू ने उसे टेलीविजन पर प्रसारित होने वाले सच्ची घटनाओं पर आधारित क्राइम सीरियल देखने की सलाह दी और कहा कि वहां से नएनए आइडिया मिल जाएंगे.

उस दिन के बाद से विनोद ड्यूटी से जब भी घर आता, नाश्ता वगैरह कर के टीवी पर क्राइम स्टोरी पर आधारित सीरियल देखने बैठ जाता. सीरियल से वह अपराध की उन बारीकियों को समझने की कोशिश करता था कि कैसे अपराधी अपराध कर के पुलिस के चंगुल से बच निकलने की कोशिश करते हैं.

योजना के अनुसार उस ने 20 जनवरी, 2018 को ही अन्नू पाठक को मार कर लाश को ठिकाने लगाने का मन बना लिया था. इस के लिए उस ने 16 जनवरी को पूरी योजना तैयार कर ली.

विनोद ने हत्या के लिए एक चाकू खरीदा और फुटपाथ से काले रंग की एक पोलीथिन थैली व रस्सी. यहां तक कि उस के घर के सभी तालों की 2-2 चाबियां थीं. इस के बावजूद भी उस ने एक नया ताला भी खरीदा. ताकि लाश को कमरे में बंद कर के यह अफवाह उड़ा देगा कि अन्नू नाराज हो कर घर पर ताला बंद करके मायके चली गई.

योजना के अनुसार, विनोद ने अपने तीनों मोबाइल फोन 20 जनवरी को स्विच्ड औफ कर दिए थे. वह नए नंबर से मंजू से बात करता था. ताकि किसी को शक न हो. मंजू से विनोद की आखिरी बात पीसीओ से 2 दिन पहले यानी 27 जनवरी को हुई थी.

28 जनवरी, 2018 को मंजू ठाकुर को ले कर अन्नू और विनोद में जम कर विवाद हुआ. योजनानुसार 29 को विनोद सवा 10 बजे सुबह अपने औफिस में हाजिरी लगा कर वापस घर आ गया. यह उस ने इसलिए किया ताकि 29 जनवरी को उस का औफिस में रहने का सबूत बन जाए.

जब वह घर आया तो उस समय तीनों बच्चे स्कूल गए हुए थे. तब बिना किसी गलती के उस ने पत्नी को पीटना शुरू कर दिया. पति की बेरहमी पिटाई से अन्नू टूट चुकी थी. वह जान रही थी कि इस समय पति के सिर पर इश्क का ऐसा भूत सवार है कि उन्हें फिलहाल अच्छेबुरे का ज्ञान नहीं रह गया है. पराई औरत के चलते वह अपने ही हाथों घर में आग लगाने पर लगे हैं. ऐसे में उन से कुछ भी कहना बेअसर होगा. लिहाजा वह कुछ नहीं बोली.

पत्नी की पिटाई करने के बाद विनोद कहीं चला गया. करीब सवा 12 बजे वह लौट कर घर आया. उस समय अन्नू मंजू से बात कर रही थी. पति के लौटने का अन्नू को पता नहीं चला. विनोद कान लगा कर पत्नी द्वारा फोन पर की जा रही बातचीत को सुनता रहा.

उस बातचीत से वह यह बात समझ गया कि अन्नू इस समय मंजू से बात कर रही है. उस समय अन्नू मंजू से पति की शिकायत कर रही थी. अपनी शिकायत सुन कर विनोद अपना आपा खो बैठा. फिर क्या था उस ने अन्नू के पीछे जा कर एक हाथ से उस का मुंह बंद किया और दूसरे हाथ से तेज धार वाले चाकू से गला रेत दिया.

खून का फव्वारा फूट पड़ा और अन्नू फर्श पर गिर कर तड़पने लगी. कुछ ही देर में वह शांत हो गई. इस के बाद प्रेमिका मंजू ठाकुर को फोन कर विनोद ने पत्नी की हत्या करने की जानकारी दे दी. यह सुन कर मंजू पहले तो घबरा गई फिर बाद में खुश भी हुई कि अब हमारे बीच का अन्नू नाम का कांटा सदा के लिए निकल गया.

मंजू ने उसे सलाह दी कि वह वहां पर कोई भी सबूत न छोड़े. उस का सिर धड़ से काट कर अलग कर दे. सिर और धड़ दोनों को 2 अलगअलग पौलीथिन की थैलियों में भर कर उसे दीवान में छिपा दे.

मति के मारे विनोद ने वैसा ही किया. जैसा उस की प्रेमिका इंसपेक्टर मंजू ने करने को कहा. कमरा बंद कर के वह सबूत मिटाने में जुट गया. उसे डर था कि जल्दी से लाश ठिकाने नहीं लगाई और सबूत नहीं मिटाए तो बच्चों के स्कूल से घर आने पर सारा भेद खुल जाएगा.

सबूत मिटाने और लाश ठिकाने लगाने में उसे ढाई घंटे से ज्यादा लगे. सिर और धड़ को अलगअलग कर के पौलीथिन थैली और प्लास्टिक बैग में पैक कर दीवान के बौक्स में डाल दिया. फिर कमरे में नया ताला लगा कर चाबी अपनी जेब में रख कर दोबारा औफिस चला गया. शाम 4 बजे तीनों बच्चे स्कूल से घर लौटे तो कमरे पर ताला बंद देख हैरान रह गए. कीर्ति पड़ोस में आंटी के यहां मां के बारे में पता लगाने गई. लेकिन वहां से कुछ पता नहीं चला.

बच्चे जब स्कूल गए थे तो उन की मां अन्नू घर में ही थी. अचानक कहां चली गई ये सोच कर वे परेशान हो गए. शाम करीब 5 बजे विनोद जब ड्यूटी से घर लौटा तो कीर्ति ने उससे मां के बारे में पूछा, इधरउधर का बहाना बनाते हुए विनोद ने कहा कि बेटा तुम्हारी मां नाराज हो कर अपने मायके चली गई है.

तब कीर्ति ने अपनी ननिहाल फोन किया तो पता चला कि उस की मां वहां आई ही नहीं है. ये सुन कर कीर्ति का माठा ठनक गया. उसे लगने लगा कि कहीं पापा ने मां के साथ कोई अनहोनी घटना तो न कर दी. कीर्ति बारबार पिता से मां के बारे में पूछ ने लगी तो विनोद घबरा गया. उसे लगा कि कहीं भेद न खुल जाए, तभी उस के दिमाग में आया कि क्यों न इसे भी मार दे न रहेगा बांस और न बजेगी बांसुरी.

ये सोच कर विनोद उसे पकड़ने के लिए उस की ओर लपका. लेकिन पिता की बुरी मंशा भांप कर कीर्ति तेजी से भाग कर पड़ोस वाली आंटी के घर चली गई. जबकि उस के छोटे भाईबहन घर में भीगी बिल्ली बने दुबके रहे. कीर्ति रात को भी अपने घर नहीं आई. विनोद रात में उसी दीवान पर सोया जिस में अन्नू की लाश छिपा रखी थी.

बहरहाल, 18 फरवरी, 2018 को पुलिस ने फरार विनोद पाठक को कोडरमा के रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया. विनोद ने अपने औफिस के सिक्योरिटी सुपरवाइजर को फोन कर के कहा था कि वह अपनी कार से उस के पास आ जाए. उसे अभी डोभी जाना है. तब सुपरवाइजर अपनी इंडिगो कार ले कर विनोद के घर पहुंच गया था.

आरोपी विनोद ने पुलिस को बताया कि हत्या करने के बाद वह अपने ही औफिस के सिक्योरिटी सुपरवाइजर की इंडिगो कार से डोभी तक गया था. इस मामले में सिक्योरिटी सुपरवाइजर और उस की पत्नी से भी पुलिस ने पूछताछ की.

विनोद पाठक ने यह भी कबूल किया कि पत्नी की हत्या करने के बाद वह सीधा प्रेमिका मंजू ठाकुर के पास खून से लथपथ पहुंचा था और हत्या के बारे में पूरी जानकारी दी. पुलिसिया पूछताछ में मंजू ने यह भी बताया था कि अन्नू का सिर से धड़ अलग करने का आइडिया उस ने ही दिया था.

मंजू ने विनोद पाठक को हत्या करने के बाद अलगअलग जगहों पर लाश छिपाने का तरीका भी बताया था. घटना के बाद मंजू ठाकुर और विनोद पाठक के बीच 32 बार फोन पर बातचीत हुई थी. मंजू विनोद के कौन्टेक्ट में लगातार रही.

वह नए नंबर से मंजू से बात करता था ताकि किसी को शक न हो. मंजू से विनोद की आखिरी बात पीसीओ से 27 जनवरी को हुई थी. पुलिस इस बात की जांच भी कर रही है कि विनोद जिस वक्त अपनी पत्नी की गला रेत कर हत्या कर रहा था, तब किस शख्स ने उस की मदद की.

पुलिस ने आरोपी इंसपेक्टर मंजू ठाकुर और विनोद कुमार को सीजेएम की अदालत में पेश किया. अदालत ने दोनों को जेपी केंद्रीय कारागार भेज दिया.

कथा लिखे जाने तक आरोपी विनोद पाठक और मंजू ठाकुर जेल सलाखों के पीछे कैद थे. पुलिस सनसनीखेज तरीके से की गई हत्या के दोनों आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल करने की तैयारी कर रही थी. मंजू ठाकुर की ओर से जमानत के लिए अदालत में अर्जी दाखिल की गई थी, जो न्यायाधीश सत्येंद्र सिंह ने खारिज कर दी थी.

– कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित