शनिवार का दिन था. दोपहर के तकरीबन 2 बजे थे. उत्तर प्रदेश में जौनपुर जिले के शाहगंज कसबे की रहने वाली शीला खरीदारी करने बाजार जा रही थीं. वे अभी घर से कुछ ही दूर गई थीं कि तभी रास्ते में उन्हें 14-15 साल का एक लड़का मिला जिस ने उन्हें ‘माताजी’ कहते हुए पूछा, ‘‘आप लंगड़ा कर क्यों चल रही हैं? क्या आप घुटनों के दर्द से परेशान हैं?’’

उस लड़के के मुंह से इतना सुनना था कि शीला ने अपनी पीड़ा जाहिर करते हुए कहा, ‘‘हां बेटा, मैं काफी समय से घुटनों के दर्द से परेशान हूं. मेरे पति को भी इसी मर्ज ने जकड़ रखा है. वे तो खाट पर पड़े हुए हैं. उन को कहांकहां नहीं दिखाया लेकिन तमाम इलाज कराने के बाद भी मर्ज बढ़ता ही जा रहा है. समझ में नहीं आ रहा है कि कैसे ठीक होगा…’’

शीला की बात अभी पूरी भी नहीं हो पाई थी कि वह लड़का बोल पड़ा, ‘‘माताजी, मेरे मातापिता भी इसी तरह परेशान हुआ करते थे जिन्हें एक बाबाजी ने चंद दिनों में ही भलाचंगा कर दिया…’’

उस लड़के की बात अभी खत्म भी नहीं हो पाई थी कि एक आदमी उन्हीं की ओर आता दिखाई दिया. उस की ओर इशारा करते हुए वह लड़का बोला, ‘‘लीजिए, बाबाजी भी आ गए. मैं आप से इन्हीं की बातें कर रहा था.’’

तब तक वह आदमी भी उन के करीब आ चुका था. उस लड़के ने हाथ जोड़ कर उसे प्रणाम किया और देखते ही देखते वहां से गायब हो गया.

ऐसे फंसती चली गईं शीला

शीला ने उस आदमी की ओर उम्मीद भरी नजरों से देखते हुए कहा, ‘‘हमें भी कुछ उपाय बताएं, ताकि मैं और मेरे पति इस दर्द से छुटकारा पा लें.’’

शीला की बात सुन कर वह आदमी तपाक से बोला, ‘‘यह दर्द कोई मर्ज नहीं बल्कि शनिदेव का प्रकोप है जिस ने आप के पूरे परिवार को जकड़ रखा है. इस पर दवा और डाक्टर का कोई असर नहीं होने वाला है. इस से छुटकारा पाने का एक ही रास्ता है कि सोने के गहनों से शनिदेव की पूजा कर के इस बला से बचो.’’

उस आदमी ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, ‘‘अगर आप इस बाधा से अभी और हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहती हैं तो सिर्फ सोने के जेवर ले कर आएं…’’

उस आदमी ने जेवर लाने की विधि बताई और बोला, ‘‘यह काम सूरज डूबने से पहले करना होगा. और हां, इस बात का खयाल रखना कि इस बीच कोई आप को टोके नहीं, वरना आप का बुरा हो जाएगा.’’

अपने शब्दों के जरीए उस आदमी ने शीला को इस कदर भरमजाल में जकड़ लिया था कि वे उस पर यकीन करती चली गईं. वे बाजार जाने के बजाय सीधे घर गईं और अपने गहनों के साथ तीनों बेटियों के भी गहनों को एक पोटली में ले कर उस आदमी द्वारा बताई गई जगह पर पहुंच गईं.

वहां वह आदमी पहले से ही बैठा हुआ था. उस के आसपास 2-4 और लोग भी बैठे हुए थे. 2 औरतें भी बैठी हुई थीं. बगल में हवन वगैरह का सामान रखा हुआ था.

वहां पहुंच कर शीला ने अपने साथ लाए जेवर, जिन में सोने का एक हार, सोने की 4 चेन, सोने की  6 अंगूठियां, 2 झाले, 2 मांग टीके, 2 कंगन, 2 झुमके, एक नैकलैस वगैरह जिन की कीमत तकरीबन 7 लाख रुपए थी, उस आदमी को सौंप कर उसी के बगल में बैठ गईं.

शीला के हाथों से पोटली अपने हाथों में लेने के बाद वह आदमी उन्हें सामने बैठने के साथ आंखों को बंद कर ध्यान लगाने की बोल गया.

आंखें मूंद कर बैठने के बाद शीला को एक मंत्र भी पढ़ने के लिए कह गया और वह आदमी खुद भी मंत्र पढ़ने लगा.

मंत्र पढ़ने के साथ उस आदमी ने शीला की पोटली से गहने निकाल कर अपनी झोली में डाल दिए और एक डब्बे में मिट्टी वगैरह भर कर उसे धागे से बांध दिया और शीला को आंखें खोलने की बोल कर उन्हें वह डब्बा पकड़ाते हुए बोला, ‘‘अब आप घर जाएं और इस डब्बे को सोमवार की सुबह सूरज की किरणें निकलने से पहले थाली में फूल रख कर मेरे बताए सिद्ध मंत्र को पढ़ने के साथ खोलिएगा.’’

उस आदमी ने अगले हफ्ते उन के घर आने की कहते हुए अपनी बात पूरी की. शीला को पूरी तरह से भरोसा हो चला था कि अब उन को दर्द से छुटकारा मिलने वाला है.

हासिल हुआ पछतावा

यह अंधविश्वास शीला के लिए घातक साबित होने के लिए काफी था. उस आदमी ने उन्हें चेता रखा था कि उस के द्वारा बताए गए पूजापाठ में वे किसी को हमराज नहीं बनाएंगी वरना दुखों से छुटकारा नहीं मिलेगा.

डरीसहमी शीला ने भी कुछ ऐसा ही किया. सोमवार की सुबह उन्होंने गहनों से भरा डब्बा खोला तो उन के पैरों तले जमीन खिसक गई. डब्बे में गहनों की जगह मिट्टी वगैरह थी.

लाखों रुपए के गहनों को लुटा बैठने के बाद शीला को दर्द से छुटकारा तो क्या मिला उन की परेशानियां और बढ़ गईं. मारे शर्म के वे किसी से कुछ कह भी नहीं पा रही थीं.

देश में आज भी ऐसे लोगों की भरमार है जो अंधविश्वास जैसी अधकचरी बातों पर भरोसा करते चले आ रहे हैं. शीला जिस लड़के और उस के द्वारा बताए गए शख्स को जानती तक नहीं थीं, उन की बातों में आ कर वे परिवार वालों को बताए बगैर घर के 7 लाख रुपए के जेवरात को लुटा बैठीं.

औरतों को जागरूक कर रही बांदा की समाजसेविका छाया सिंह कहती हैं,

‘‘जब तक औरतें अधकचरी जानकारी से बाहर निकलते हुए खुद जागरूक होने और परिवार को जागरूक करने का काम नहीं करेंगी तब तक समाज में उन्हें बराबरी का हिस्सा मिलने वाला नहीं है.

‘‘बाबाओं के अलावा सड़कछाप चोलाधारियों की शरण में जाने और उन की अधकचरी बातों में आने से नुकसान ही होता है. ऐसे में लोगों को बेखौफ हो कर ऐसे मामलों की पुलिस को सूचना देनी चाहिए.’’

* ऐसे लोगों के चक्कर में पड़े ही नहीं.

परिवार के लोगों को पूरी बात बताएं.

* ऐसे मामलों में बिना देर किए पुलिस को सूचना दें, ताकि कार्यवाही हो सके.

* परेशानी, बीमारी की हालत में माहिर डाक्टर की सलाह लें न कि ऐसे बाबाओं और फकीरों की जो आप को लूट कर चलते बनें.

* एक डाक्टर के बताए इलाज से आराम न मिले तो दूसरे को दिखाएं. देश में माहिर डाक्टरों की कमी नहीं है.

Tags: