सरिता विशेष

“मैम साहब, दरवाजा खोलिए, मैं आप के लिए चाय लाई हूं.’’ नौकरानी टीला ने शुभांगना के कमरे का दरवाजा खटखटाते हुए कहा. कमरे से कोई आवाज नहीं आई तो टीला ने दोबारा दरवाजा खटखटाते हुए कहा, ‘‘मैम साहब, सुबह के 6 बज गए हैं, दरवाजा खोलिए.’’

इस बार भी न तो दरवाजा खुला और न ही कमरे के अंदर से हलचल की कोई आवाज आई. चिंतित हो कर टीला सोचने लगी कि मैम साहब आज उठ क्यों नहीं रही हैं? उस ने दरवाजे को धक्का दिया तो वह खुल गया. उस ने कमरे के अंदर जो देखा, उसे देख कर हैरान रह गई. शुभांगना कमरे में लगे पंखे से लटक रही थी. उसे इस हालत में देख कर उस की समझ में नहीं आया कि वह क्या करे. थोड़ी देर में होश ठिकाने आए तो उस ने चाय की ट्रे मेज पर रखी और तेजी से सीढि़यां उतरते हुए पहली मंजिल पर पहुंच कर अपने कमरे में सो रहे शुभांगना के 15-16 साल के बेटे मिहिर को झिंझोड़ कर जगाया.

मिहिर आंखें मलते हुए उनींदा सा उठा तो घबराई हुई टीला ने कहा, ‘‘बेटा, मैम साहब को पता नहीं क्या हो गया है? वह अपने कमरे में पंखे से लटकी हुई हैं.’’

टीला की बात सुन कर मिहिर चौंका. वह तेजी से कमरे से निकला और घर में लगी लिफ्ट से दूसरी मंजिल पर मम्मी के कमरे में पहुंचा. टीला भी उस के साथ थी. मिहिर ने मम्मी को पंखे से लटकी देखा तो उस की भी कुछ समझ में नहीं आया. उस ने ‘मम्मीमम्मी’ 2-3 बार आवाज लगाई. मम्मी जीवित होतीं तब तो जवाब देतीं. मिहिर रोने लगा. उसे रोता देख कर टीला भी रोने लगी. उस ने रोतेरोते ही कहा, ‘‘मेरी समझ में नहीं आ रहा कि क्या करूं?’’

‘‘मैं पापा और नानाजी को फोन करता हूं.’’ रोते हुए मिहिर ने कहा.

नाना को बताई हकीकत

इस के बाद मिहिर ने रोतेरोते नानाजी प्रेम सुराणा और पापा राजकुमार सावलानी को फोन कर के बताया कि मम्मी अपने कमरे में पंखे से लटकी हुई हैं. घर में कोई बड़ा और समझदार आदमी नहीं था. मिहिर अभी किशोर था, और टीला नौकरानी. उन की समझ में कुछ नहीं आया तो दोनों प्रेम सुराणा और राजकुमार सावलानी के आने का इंतजार करने लगे.

society

कुछ ही देर में प्रेम सुराणा बेटी शुभांगना के बंगले पर पहुंच गए. वह लिफ्ट से सीधे दूसरी मंजिल पर स्थित शुभांगना के कमरे में पहुंचे. नाना को देख कर मिहिर उन से लिपट कर जोरजोर से रोते हुए बोला, ‘‘नानाजी, मम्मी को क्या हो गया है?’’

बेटी को पंखे से लटकी और नाती को इस तरह रोते देख कर प्रेम सुराणा को जैसे लकवा मार गया. मुंह से कोई शब्द नहीं निकला. उन की आंखें पथरा सी गईं. पल, दो पल बाद वह थोड़ा संयमित हुए तो उन की आंखों से भी आंसू टपक पडे़े.

यह कैसे और क्या हो गया, यह सब सोचने और समझने का समय प्रेम सुराणा के पास नहीं था. शुभांगना ने जींस और टौप पहन रखी थी, साथ ही वह पूरे गहने भी पहने हुए थी. प्रेम सुराणा ने शुभांगना के कमरे में रखी सैंटर टेबल पर टिके पैरों को पकड़ कर ऊपर उठाया और उस के गले में पड़े चुन्नी के फंदे को निकाला. उन की इस कोशिश में वह नीचे गिर पड़ी. उन्होंने शुभांगना की नब्ज टटोली तो वह शांत थी. लेकिन वह पिता थे, इसलिए उन का मन नहीं माना और वह उसे सवाई मान सिंह अस्पताल ले गए. अस्पताल के डाक्टरों ने प्राथमिक जांच के बाद शुभांगना को मृत घोषित कर दिया. प्रेम सुराणा फफकफफक कर रोने लगे. शुभांगना की मौत स्वाभाविक नहीं थी, इसलिए उन्होंने इस घटना की सूचना पुलिस को दे दी.

इंस्टीट्यूशंस की चेयरपर्सन थीं शुभांगना

यह इसी 26 अगस्त, 2017 की सुबह की बात है. शुभांगना गोखले मार्ग, जयपुर की पौश कालोनी सी स्कीम में बने अपने बंगले में रहती थी. वह राजस्थान के प्रतिष्ठित दीपशिखा एजुकेशन इंस्टीट्यूट समूह के मालिक प्रेम सुराणा की बेटी थी. वह खुद जसोदा देवी कालेजेज एंड इंस्टीट्यूशंस चलाती थी और इन इंस्टीट्यूशंस की चेयरपर्सन भी थी.

सुराणा की सूचना पर थाना अशोक नगर के एसआई कृष्ण कुमार सहयोगियों के साथ शुभांगना के बंगले पर पहुंच गए. पुलिस ने शुभांगना के कमरे से वह चुन्नी जब्त कर ली थी, जिस के फंदे में वह लटकी मिली थी. पुलिस सवाई मान सिंह अस्पताल भी गई, जहां शुभांगना की लाश को कब्जे में ले कर उस का पोस्टमार्टम करवाया. पोस्टमार्टम के बाद लाश घर वालों को सौंप दी गई.

शुभांगना की मौत जयपुर के अमीर घरानों में चर्चा का विषय बन गई. इस की वजह यह थी कि वह डेढ़, दो सौ करोड़ रुपए की संपत्ति की मालकिन थी. ऐसे में उस की इस तरह हुई मौत पर तरहतरह के सवाल उठने लगे. सब से बड़ा सवाल यह था कि शुभांगना ने फंदा लगा कर खुद जान दी या उसे मार कर इस तरह लटका कर आत्महत्या का रूप दिया गया था. कहानी आगे बढ़ने से पहले शुभांगना के बारे में जान लेना जरूरी है.

प्रेम सुराणा की बेटी शुभांगना शादी से पहले अपना नाम रुचिरा सुराणा लिखती थी. सुराणा परिवार जयपुर की पौश कालोनी बनीपार्क में रहता था. रुचिरा तब 16-17 साल की थी, जब उसे फिल्में देखने और गाने सुनने का शौक लगा. राजकुमार सावलानी बनीपार्क की सिंधी कालोनी में वीडियो लाइब्रेरी चलाता था. यह उस समय की बात है, जब फिल्में या तो थिएटर में या वीसीआर द्वारा देखी जाती थीं. वीसीआर में वीडियो कैसेट लगती थी.

राजकुमार के हाथ लगी स्वर्णमृगी

रुचिरा वीडियो कैसेट्स लेने अकसर राजकुमार की वीडियो लाइब्रेरी जाती रहती थी. धीरेधीरे रुचिरा का राजकुमार के यहां आनाजना बढ़ता गया. राजकुमार भी उस समय 18-19 साल का था. जवानी की दहलीज पर खड़ी रुचिरा की उम्र नाजुक दौर से गुजर रही थी. ऐसे में कब वह पारिवारिक और सामाजिक मर्यादाओं को ताक पर रख कर फिसल गई, किसी को पता नहीं लगा.

कहा जाता है कि नौवीं तक पढ़ा राजकुमार वीडियो लाइब्रेरी चलाने से पहले अंडे का ठेला लगाता था. लेकिन अपने नाम के अनुसार, वह खूबसूरत था. शायद यही वजह थी कि उम्र के नाजुक दौर से गुजर रही रुचिरा उस के आकर्षण में खिंचती चली गई. रुचिरा नाबालिग थी, लेकिन राजकुमार बालिग था. रुचिरा पैसे वाले बाप की बेटी थी, इसलिए राजकुमार उस से प्रेम की पींगे बढ़ाता गया. उस के मोहपाश में बंधी रुचिरा न अपना भलाबुरा सोच पाई न ऊंचनीच.

कहा जाता है कि राजकुमार ने रुचिरा को मानसिक रूप से इतना इमोशनल बना दिया था कि वह उस के कहने पर अपना सब कुछ गंवाने को तैयार थी. आखिर सारे बंधन तोड़ कर रुचिरा ने घर वालों की मर्जी के खिलाफ जा कर सन 1997 में दिल्ली जा कर आर्यसमाज मंदिर में राजकुमार सावलानी से शादी कर ली. शादी के बाद उस ने नाम बदल कर शुभांगना सावलानी रख लिया.

शुभांगना ने भले ही घर वालों की मर्जी के खिलाफ जा कर दूसरी जाति के अपनी हैसियत से कम वाले राजकुमार से शादी कर ली थी, लेकिन पिता प्रेम सुराणा ने उस का साथ नहीं छोड़ा. वह उसे पहले की तरह ही लाड़प्यार करते रहे. शुभांगना पढ़ीलिखी थी, उसे पिता के व्यवसाय की भी अच्छी समझ थी. इसलिए राजकुमार से शादी के बाद उस ने शिक्षा के क्षेत्र में अपना भाग्य आजमाया.

पिता प्रेम सुराणा से जो भी हो सका, मदद की. धीरेधीरे उस ने एजुकेशन इंस्टीट्यूशंस स्थापित कर लिए. वहीं, राजकुमार ने भी अन्य व्यवसाय कर लिए. दोनों ने मेहनत से पैसा कमाया. धीरेधीरे परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी होती चली गई. इस बीच राजकुमार और शुभांगना के 2 बच्चे हुए. पहली बेटी वृद्धि, उस के बाद बेटा मिहिर.

society

बढ़ता व्यवसाय

पैसा आया तो राजकुमार ने अपने छोटेमोटे धंधे छोड़ कर इंपोर्टएक्सपोर्ट का काम शुरू कर दिया. अब उस की गिनती बडे़ बिजनैसमैनों में होने लगी. प्रेम सुराणा ने शुभांगना को जयपुर के गोखले मार्ग की पौश कालोनी की सी स्कीम में एक बंगला गिफ्ट कर दिया. शुभांगना और राजकुमार बच्चों के साथ उसी बंगले में रहते थे. बाद में राजकुमार और शुभांगना ने अन्य व्यवसाय के साथ जैसलमेर में एक रिसौर्ट भी शुरू किया, लेकिन फिलहाल वह घाटे में चल रहा है.

शुभांगना और राजकुमार के जसोदा देवी कालेजेज एंड इंस्टीट्यूशंस के तहत जयपुर में 4 पौलिटैक्निक, एक बीएड, एक आईटीआई, बीबीए, बीसीए एवं पीसीडीसीए कालेज चल रहे हैं. इन के अलावा उन्होंने कई बेशकीमती फ्लैट और चलअचल संपत्तियां भी खरीदीं. राजकुमार और शुभांगना की गिनती जयपुर के धनीमानी लोगों में होने लगी थी.

शुभांगना तो बचपन से ही अमीर घर में पलीबढ़ी थी, इसलिए उसे घूमनेफिरने, पार्टियों में जाने आदि के महंगे शौक थे. पैसा आया तो शुभांगना अपने शौक पूरे करने लगी. हाईप्रोफाइल जिंदगी जीने वाली शुभांगना जयपुर में पेज थ्री का जानामाना चेहरा और सोशलाइट थी. रोजाना लाखों रुपए में खेलने वाले राजकुमार को भी महंगे शौक लग गए थे. उसे महंगी कारों का शौक था. उस के पास एक करोड़ रुपए की कीमत की जगुआर एक्सजे, 42 लाख रुपए की औडी ए4, 60 लाख रुपए की लैंड रोवर और 78 लाख की बीएमडब्ल्यू जेड 4 जैसी महंगी कारें थीं. दोनों को अकसर जयपुर में होने वाली हाईप्रोफाइल पार्टियों में देखा जाता था. राजकुमार को भी घूमनेफिरने, महंगे होटलों में एंज्वौय करने, हवाई यात्राएं करने और ऐशोआराम की जिंदगी जीना आ गया था.

राजकुमार और शुभांगना की गृहस्थी बढि़या चल रही थी. सन 2014 में दोनों गोवा घूमने गए, वहीं किसी बात को ले कर दोनों के बीच पहली बार विवाद हुआ. धीरेधीरे यह विवाद बढ़ता गया. शुभांगना ने राजकुमार के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी की. इस के बाद शुभांगना ने तलाक का मुकदमा दायर कर दिया. 8 महीने पहले शुभांगना ने पिता द्वारा गिफ्ट किए गए बंगले पर और सीतापुरा स्थित कालेज में राजकुमार के आने पर रोक लगा दी. इस के बाद वह बंगले में बेटे मिहिर और नौकरानी टीला के साथ रहने लगी.

गोखले मार्ग पर बने जिस बंगले में शुभांगना रहती थी, वह 4 मंजिला है. इस बंगले में 3 ही लोग रहते थे. कोई मेहमान आता था तो वह भूतल पर ठहरता था. पहली मंजिल पर मिहिर रहता था. दूसरी मंजिल पर शुभांगना रहती थी. नौकरानी टीला को रहने के लिए बंगले की तीसरी मंजिल पर जगह दी गई थी. बंगले के अंदर ही ऊपरनीचे आनेजाने के लिए लिफ्ट लगी थी. शुभांगना की बेटी वृद्धि मुंबई में पढ़ रही थी, जबकि बेटा मिहिर मां के साथ रहते हुए जयपुर में ही निजी स्कूल में पढ़ता था.

शुभांगना की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी प्रेम सुराणा को विश्वास नहीं हो रहा था कि बेटी इस तरह आत्महत्या कर सकती है. इसलिए उन्होंने शुभांगना के पति राजकुमार पर हत्या का आरोप लगाते हुए थाना अशोक नगर पुलिस को एक तहरीर दी, जिस में तीन स्तरों पर जांच कराने की बात कही गई थी.

एक- राजकुमार शुभांगना की हत्या कर सकता है. दो- खुद के बजाय किसी अन्य व्यक्ति से हत्या करवा सकता है. तीसरी- शुभांगना को प्रताडि़त कर आत्महत्या के लिए उकसा सकता है.

पुलिस ने प्रेम सुराणा की तहरीर पर राजकुमार के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मुकदमा दर्ज कर लिया. शुभांगना के पिता और घर के अन्य लोगों के अनुसार, शुभांगना को या तो हत्या कर के पंखे से लटकाया गया था या बेहोशी की हालत में. उन्होंने इस बारे में तर्क भी दिए.

शुभांगना की मौत पर इसलिए सवाल उठ रहे हैं, क्योंकि 25 अगस्त की रात करीब साढ़े 10 बजे और 26 अगस्त की सुबह 4 बजे आधेआधे घंटे तक उस की राजकुमार से मोबाइल फोन पर बात हुई थी. जबकि दोनों के बीच बातचीत बंद थी और तलाक का मुकदमा चल रहा था. घर वालों का कहना है कि शुभांगना ने अचानक राजकुमार से बात क्यों की? आरोप है कि किसी अन्य व्यक्ति ने शुभांगना के मोबाइल से राजकुमार का नंबर लगाया. एक सवाल यह भी उठ रहा है कि शुभांगना ने पार्टी वीयर और गहने पहन कर आत्महत्या क्यों की? जबकि शाम को कालेज से घर आते ही वह सामान्य कपड़े पहन लेती थी.

शुभांगना ने सीतापुरा स्थित कालेज और बंगले पर राजकुमार के आने पर रोक लगा रखी थी. इस के बावजूद घटना से पहले एक सप्ताह में वह 2 बार कालेज गया. उस की 25 अगस्त की रात 10 बज कर 6 मिनट पर कालेज आने और 26 अगस्त की सुबह 7:02 बजे बाहर जाने की एंट्री दर्ज है. इस से पहले राजकुमार 22 अगस्त को भी कालेज गया था. सवाल उठ रहा है कि घटना की रात राजकुमार कालेज क्यों गया था?

मीडिया ने केस का रंग बदला

पुलिस ने शुभांगना की मौत को आत्महत्या का सामान्य मामला मानते हुए जांच शुरू की थी. यह हाईप्रोफाइल मामला मीडिया की सुर्खियों में आया तो पुलिस ने गहराई से जांच शुरू की. पुलिस ने शुभांगना का मोबाइल फोन और डायरी जब्त कर ली है. शुभांगना डायरी लिखती थी.

टीला के अनुसार, 25 अगस्त की रात खाना खा कर शुभांगना सो गई थी. 26 अगस्त की सुबह जब वह मैम साहब के लिए चाय ले कर गई तो वह पंखें से लटकी मिलीं. शुभांगना के पड़ोसियों और कालेज स्टाफ से भी पूछताछ की गई है. पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी देखी है. शुभांगना के घर के आसपास लगे कैमरों में 25 अगस्त की रात उस के घर कोई आदमी आता दिखाई नहीं दिया. शुभांगना के अपने बंगले पर 2 गार्ड भी रहते थे, पुलिस को उन से भी कोई खास जानकारी नहीं मिली.

पुलिस ने एक सितंबर को राजकुमार को थाने बुला कर सुबह से रात तक कई दौर में पूछताछ की. वकील की मौजूदगी में हुई इस पूछताछ में राजकुमार ने पुलिस को बताया कि इसी साल जुलाई में शुभांगना से उस का दोबारा संपर्क हुआ था. राजकुमार के परिचितों का कहना है कि कालेज राजकुमार संभालता था. उस के कालेज में जाने से रोक लगाने के बाद कालेज की स्थिति बिगड़ने लगी थी. तब जुलाई में शुभांगना ने उसे फोन किया था.

इस के बाद भी उस ने कई बार संपर्क किया. इस बार कालेज में उम्मीद के मुताबिक बच्चों के प्रवेश नहीं हुए थे. इस की वजह से भी वह मानसिक रूप से परेशान थी. राजकुमार ने शुभांगना को समझाया भी था. राजकुमार के मोबाइल में इस से संबंधित सबूत मौजूद बताए जाते हैं. पुलिस ने राजकुमार के 2 मोबाइल फोन जब्त किए हैं. उन में राजकुमार और शुभांगना की बातों की कुछ कौल रिकौर्डिंग हैं.

आरोपप्रत्यारोप

पता चला है कि घटना से 5-6 दिनों पहले शुभांगना ने अपने जेठ और सास को फोन कर के घर बुलाया था. मां और भाई ने राजकुमार को भी वहां बुलाया था, लेकिन वह नहीं आया.

बाद में शुभांगना उसे अपनी गाड़ी से ले कर आई थी. उस समय शुभांगना ने राजकुमार से कहा था कि पापा को उस के यहां आने का पता नहीं चलना चाहिए. शुभांगना का जयपुर के मनोचिकित्सक से इलाज चलने की भी बात कही जा रही है.

दूसरी ओर प्रेम सुराणा और शुभांगना के वकील अनिल शर्मा ने राजकुमार और उस के घर वालों पर कई तरह के आरोप लगाए हैं. प्रेम सुराणा का कहना है कि राजकुमार के कई लड़कियों, महिला कर्मचारियों और नौकरानी से संबंध थे. शुभांगना को जब इन बातों का पता चला तो उस ने राजकुमार को टोका. तब शराब के नशे में वह शुभांगना से मारपीट करने लगा.

उस ने कालेज में भी लाखों रुपए का घोटाला किया है. वह शुभांगना की जासूसी भी कराता था. उन्होंने राजकुमार पर शुभांगना की हत्या का शक जताते हुए पुलिस अधिकारियों को कुछ दस्तावेजी सबूत भी दिए हैं. इन में मौत से पहले शुभांगना की ओर से अपने वकील को भेजे गए ईमेल और वाट्सएप पर राजकुमार से हुई बातचीत के अंश शामिल हैं.

प्रेम सुराणा का कहना है कि पुलिस इस मामले में ढंग से जांच नहीं कर रही है. शुभांगना की मौत के मामले में 6 सितंबर को वह समाज के कुछ लागों को ले कर जयपुर में राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया से मिले थे. तब गृहमंत्री ने उन्हें न्याय दिलाने की बात कही थी.

विवादास्पद बातें

शुभांगना के वकील अनिल शर्मा का कहना है कि 25 अगस्त की रात को राजकुमार सीतापुरा स्थित कालेज गया था. उस ने कालेज में रुकने के लिए शुभांगना को फोन किया था.

कालेज में लगे सीसीटीवी कैमरों में राजकुमार के आने की फुटेज थी, जो बाद में नष्ट कर दी गई. उन का यह भी कहना है कि राजकुमार ने शुभांगना के मोबाइल में कोई ऐप डाउनलोड कर दिया था, जिस से जब वह मोबाइल पर किसी से बात करती थी तो वह राजकुमार तक पहुंच जाती थी.

वह जब भी कालेज जाता था, तब वहां आया कैश ले जाता था. शुभांगना के फर्जी हस्ताक्षर कर के उस ने कई जगहों से कर्ज भी लिया था. कुछ दिनों पहले उस ने 90 लाख रुपए का एक फ्लैट बेचा था.

जब वह शुभांगना के साथ रहता था, तब उसे काफी परेशान करता था. कई दिनों के लिए उसे कमरे में बंद कर देता था, खाना भी नहीं देता था. मायके वालों से मिलने पर पाबंदी लगा रखी थी. शुभांगना ने ये सारी बातें वकील प्रदीप शर्मा को ईमेल और वाट्सएप पर लिख कर भेजी थीं.

दूसरी ओर राजकुमार सावलानी का कहना है कि शुभांगना ने 23 अगस्त को उसे घर पर बुलाया था. जब वह नहीं गया तो वह खुद उसे लेने आ गई. घर ले जा कर उस ने नाश्ता कराया था और एक मोबाइल फोन गिफ्ट किया था. नए नंबर ले कर फोन चालू किया, जिस पर शुभांगना के मैसेज और फोन आए थे. 25 अगस्त को जब शुभांगना के मातापिता को पता चला कि वह मुझ से बात कर रही है तो उन्होंने उसे काफी डांटाफटकारा.

शुभांगना पहले से ही मानसिक रूप से परेशान थी, वह दबाव में आ गई. 26 अगस्त की सुबह 3 बज कर 41 मिनट पर मेरे मोबाइल पर उस का मैसेज आया. मैसेज में उस ने कहा था कि ‘मुझे माफ कर दो और कालेज व रिसौर्ट चला दो.’ इस के बाद 4 बजे उस का फोन आया तो उस ने 32 मिनट तक बात की.

वह यही कहती रही कि मेरे मातापिता ने तुम्हारे साथ अच्छा नहीं किया. राजू हम दोनों साथ रहना चाहते हैं, लेकिन मेरे मातापिता नहीं चाहते कि हम साथ रहें. इसी वजह से मैं डिप्रेशन में हूं. अब मुझ से काम भी नहीं संभल रहा है. मैं ने कहा कि इस बारे में सुबह बात करेंगे. सब ठीक हो जाएगा.

राजकुमार का कथन

सुबह बेटे ने फोन कर के बुलाया, तब पता चला कि शुभांगना की मौत हो गई है. राजकुमार ने शुभांगना की मौत के लिए प्रेम सुराणा और उन के घर वालों को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि ‘मैं ने लवमैरिज की थी, यह बात प्रेम सुराणा कभी नहीं भुला पाए. इसीलिए मुझे शुभांगना की मौत के मामले में फंसाना चाहते हैं.’

शुभांगना की मौत की जांच में लापरवाही बरतने के आरोप में 7 सितंबर को थाना अशोक नगर के थानाप्रभारी बालाराम को जयपुर पुलिस कमिश्नर संजय अग्रवाल ने लाइनजाहिर कर दिया था. इस के बाद उन्हें जयपुर रेंज में लगा दिया गया. अब उन्हें थानाप्रभारी न लगा कर नौन फील्ड में रखने के निर्देश दिए गए हैं. उन पर आरोप लगा है कि वह शुभांगना की मौत के मामले में न तो घटनास्थल पर गए और ना ही एफएसएल टीम बुलाई. उन्होंने घटनास्थल की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी भी नहीं कराई. लाश का पोस्टमार्टम भी मैडिकल बोर्ड से नहीं कराया गया.

कथा लिखे जाने तक यह हाईप्रोफाइल मामला एक मिस्ट्री बना हुआ था. पुलिस शुभांगना की मौत का रहस्य पता लगाने की कोशिश में जुटी हुई थी. डीसीपी योगेश दाधीच के नेतृत्व में जांच चल रही है. बहरहाल अगर किसी ने अपराध किया है तो कानून उसे अवश्य सजा देगा. लेकिन वृद्धि और मिहिर को अब मां का प्यार कभी नहीं मिल पाएगा.

शुभांगना भले ही अब इस दुनिया में नहीं है, लेकिन उस की आंखें इस दुनिया को देख रही हैं. क्योंकि पति राजकुमार और पिता प्रेम सुराणा ने उस की आंखें दान कर दी थीं. शुभांगना की आंखें जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल में भर्ती 2 लोगों को प्रत्यारोपित कर दी गई थीं.

VIDEO : हेयरस्टाइल स्पेशल

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.