किसी भी क्षेत्र में सफलतापूर्वक कार्य करने के लिए व्यक्ति का कार्यकुशल होने के साथसाथ उसे कार्यों का निबटारा करना व उन का प्रबंध भी आना चाहिए और इसी काम को आसान बनाता है, मानव संसाधन प्रबंधन. यह प्रबंधन हमें कार्यों को निबटाने व करने की विधि बताने के साथसाथ उन के प्रबंध की विधिवत जानकारी भी देता है. इस के बिना कोई भी कंपनी या संस्थान अपने कार्यों को आसानी से नहीं कर सकता.

क्या है मानव संसाधन प्रबंधन

इस प्रबंधन में संस्थान के कार्यों व प्रबंधों से संबंधित जानकारी दी जाती है. प्रशिक्षण प्राप्त कर व्यक्ति संस्थान की संपूर्ण व्यवस्था को देखता है. इस प्रबंधन के विशेषज्ञ व्यक्तियों को संबंधित संस्थान के मानव संसाधन विभाग की सारी जिम्मेदारियां संभालनी होती हैं. यह कर्मचारियों से संबंधित व्यवस्था की पूर्ण जिम्मेदारी लेता है. संस्थान में कर्मचारियों की नियुक्ति की जिम्मेदारी भी मानव संसाधन विभाग की होती है. यह विभाग संस्थान में होने वाले किसी भी प्रकार के फेरबदल के लिए जिम्मेदार होता है.

society

यह विभाग श्रम कानून से संबंधित जानकारी भी रखता है. संस्थान के मालिकों व कर्मचारियों में भी आपसी तालमेल बनाता है. इस के अलावा संगठन में काम करने वाले कर्मचारियों की कार्यक्षमता, कार्य करने की अवधि का निर्धारण करना, विभागीय तारतम्य बनाए रखना आदि की जिम्मेदारियां भी मानव संसाधन विभाग व इस के प्रबंधक की होती है.

पाठ्यक्रम जानें

मानव संसाधन प्रबंधन का पाठ्यक्रम स्नातक करने के बाद कई मान्यता प्राप्त संस्थानों में संचालित है. डिप्लोमा पाठ्यक्रम के अंतर्गत 3 तरह के पाठ्यक्रम होते हैं, पहला मानव संसाधन और संगठनात्मक विकास में डिप्लोमा, दूसरा, मानव संसाधन विकास में डिप्लोमा और तीसरा, मानव प्रबंधन में डिप्लोमा. यही पाठ्यक्रम स्नातकोत्तर स्तर पर भी संचालित होता है. इस के अलावा प्रशिक्षुओं का सेमिनार व अध्ययन के दौरान कार्यशालाओं में हिस्सा लेना बहुत जरूरी है.

योग्यता का पैमाना

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमैंट के पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए व्यक्ति का स्नातक होना अनिवार्य है. किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिगरी के साथ किसी संस्थान में 3 वर्ष का सुपरवाइजरी कार्य करने का अनुभव भी आवश्यक है. किसी भी विषय में स्नातकोत्तर युवा मानव संसाधन प्रबंधन के पाठ्यक्रम में प्रवेश ले सकते हैं. इस के अलावा व्यक्ति को सामान्य ज्ञान की गहन जानकारी भी होनी चाहिए.

प्रवेश प्रक्रिया समझें

मानव संसाधन प्रबंधन के लिए अखिल भारतीय स्तर पर संयुक्त प्रवेश परीक्षा और प्रबंधन प्रवेश परीक्षा का आयोजन करता है. लिखित परीक्षा में उत्तीर्ण होने के बाद चयनित छात्रों का मानसिक शक्ति प्रशिक्षण होता है. तब जा कर मैरिट के आधार पर अभ्यर्थी को प्रवेश मिलता है.

रोजगार के अवसर

रोजगार की दृष्टि से यह क्षेत्र काफी बड़ा है. प्रशिक्षण लेने के बाद इस में रोजगार के संपूर्ण अवसर हैं. राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सभी कंपनियों, व्यावसायिक संस्थानों, अस्पतालों, शिक्षण संस्थानों तथा गैर सरकारी संगठनों, सरकारी संगठनों आदि में ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमैंट विभाग होता है. इस विभाग में प्रशिक्षित कर्मियों की जरूरत होती है. मानव संसाधन प्रबंधन में जौब की अपार संभावनाएं दिनप्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं.