यह धर्म ही बताता है कि किसी भी जने का ऊंची या नीची जाति में पैदा होना उस के पिछले जन्म में किए गए पुण्य या पाप का नतीजा होता है. समाज में सब से निचले पायदान पर दलित हैं. सब से ऊपर ब्राह्मण, जिसे समाज का दिमाग कहा गया, इसी तरह से क्षत्रिय को छाती, बनिए को पेट या उदर और शूद्र को सब से नीचे पैरों का हिस्सा बताया गया. शूद्र वे हैं, जिन्हें आज बैकवर्ड कहा जाता है.

धार्मिक कहानियों के जरीए बारबार इस बात को बताया गया कि मंदिरों में पूजापाठ, धर्मकर्म करना अपने आने वाले जन्म को बेहतर बनाने के काम आता है. दलितों को 5वीं जाति यानी अछूत या जाति के बाहर के लोग कहा जाता था. उन को इस बात का बारबार एहसास कराया गया कि मंदिरों में पूजापाठ करना या धार्मिक ग्रंथ पढ़ना, यह सब उन के लिए नहीं है.

आज भी देश में तमाम मंदिर ऐसे हैं, जहां दलितों के लिए पूजापाठ करना मना है. कई बार ऐसे मंदिरों में प्रवेश को ले कर लड़ाईझगड़ा तक होता रहता है. मंदिरों में पुजारी के रूप में कहीं भी दलित नहीं हैं. धर्म के इसी भेदभाव का शिकार हो कर डाक्टर भीमराव अंबेडकर ने बौद्ध धर्म अपनाया था.

आजादी के समय देश में धार्मिक लैवल पर भेदभाव और छुआछूत बड़े पैमाने पर था. यही वजह है कि दलित समाज को बराबरी का दर्जा देने के लिए सरकारी नौकरियों और चुनाव लड़ने के लिए राजनीतिक हलकों में रिजर्वेशन दिया गया. इस वजह से दलित समाज का एक बड़ा तबका माली और सामाजिक रूप से आगे बढ़ गया.

society

लेकिन इस तबके ने दलित समाज की सामाजिक भलाई के लिए किसी तरह का कोई सहयोग नहीं किया. यह तबका पूरी तरह से इस कोशिश में लग गया कि वह सामाजिक रूप से दलित की पहचान से छूट जाए. साथ ही, इस तबके ने दलित तबके से अपना रिश्ता वहीं तक रखा, जहां उसे रिजर्वेशन की जरूरत पड़ी.

अपने नाम के आगे दलित जाति से अलग ‘सरनेम’ रख लिया. यही नहीं, यह तबका मंदिरों में जा कर पूजापाठ करने लगा. अपने घर में ही मंदिर बना लिया. यह तबका दलित समाज के कमजोर और गरीब तबके को यह समझाने लगा कि पूजापाठ का ही नतीजा है कि वह आज ऊंच तबके के बराबर खड़ा है.

दलितों का मंदिरों से कोई भला नहीं होगा, यह इस बात से समझा जा सकता है कि कारसेवा करने वाले दलित तो हैं, पर उन के साथ जब गैरदलित हों तो घर वाले उन का शुद्धीकरण कराते हैं. जब वे घर लौटते हैं, तो उन्हें गाय छूने को कहा जाता है और उन पर गंगाजल छिड़का जाता है.

अहमदाबाद के एक रिटायर्ड आईएएस अफसर राजन प्रियदर्शी कहते हैं, ‘‘दलितों को गैरदलित पड़ोसी तक बनाने को तैयार नहीं हैं. गुजरात में कोई दलित अपनी मनपसंद जगह नहीं रह सकता. 98.1 फीसदी गांवों में दलितों को पूजापाठ करने के बावजूद गैरदलितों के यहां मकान किराए पर नहीं मिल सकता. मुझे खुद मजबूरन दलित बहुल इलाके में ही रहना पड़ा है.’’

2014 में पिलखुवा, उत्तर प्रदेश के शुकलान महल्ले में चंडी मंदिर में पूजा करने गए एक दंपती को पुजारी ने पूजा नहीं करने दी और अंजू वाल्मीकि व प्रमोद वाल्मीकि को रोक दिया. ये वहां करने ही क्या गए थे?

चंदौली, उत्तर प्रदेश के एक स्कूल से इसी अक्तूबर महीने में एक छात्रा को निकाल दिया गया, क्योंकि वह दलित जाति की थी. जब स्कूलों में उन्हें स्वीकारा नहीं जा रहा, जो सरकारी पैसों पर चल रहे हैं, जहां पूजापाठ नहीं हो रहा, तो मंदिरों में क्या स्वीकार होंगे और वहां दलितों को मिलेगा क्या?

कांग्रेस की नेता कुमारी शैलजा 2013 में जब द्वारका गईं, तो उन से पुजारी ने उन की जाति पूछी. पूर्व मंत्री कुमारी शैलजा कांग्रेस की दलित नेता

हैं, फिर भी उन्हें इस अपमान से मुक्ति नहीं मिली. अफसोस यह है कि कुमारी शैलजा मंदिर देखने नहीं गईं, वहां मत्था टेकने गईं और यही गलत है.

कुछ साल पहले नीतीश कुमार ने जीतनराम मांझी को बिहार का मुख्यमंत्री बनवाया था, पर मधुबनी जिले में एक मंदिर में बतौर मुख्यमंत्री जाने के बावजूद उसे धोया गया और उस बिहार में उसी जीतनराम मांझी के संरक्षक रहे नीतीश कुमार आज उसी भाजपा के पैरों पर गिरे पड़े हैं, जो दलितों को अपनी औकात में रखना चाहती है और मंदिर उस की साजिश की धुरी हैं.

दलितों में बढ़ रहा पाखंड

धर्म के नाम पर चल रहे तमाम पाखंड चढ़ावा चढ़ाने के लिए होते हैं. दलित तबके के ‘नवहिंदुत्व’ में शामिल हुए लोग चढ़ावा चढ़ाने में सवर्णों से भी आगे होने लगे हैं. वे अपने घर पर पूजापाठ करने के लिए पुजारियों कोे बुलाने लगे हैं.

गरीब दलित के यहां जाने से आनाकानी करने वाले पुजारी यहां पूजा कराने आने लगे. इस की वजह यह नहीं थी कि पुजारी के मन से छुआछूत की भावना मिट गई थी. इस की वजह यह थी कि यहां मुंहमांगा चढ़ावा मिलने लगा था.

एक पुजारी ने बताया, ‘‘नवरात्र के दिनों में मैं एक ऐसे ही परिवार के यहां रोज पूजापाठ और हवन करने जाता था. उन लोगों ने हर दिन के लिए नए कपड़े दिए और कहा कि आप को रोज नए कपड़े पहन कर ही हवन करना है.

‘‘उन्होंने हमारी सोच से ज्यादा चढ़ावा दिया. नवरात्र के खत्म होने पर मुझे दक्षिणा दे कर विदा किया. हमें वहां इतना चढ़ावा मिला, जितना 5 सवर्ण परिवार मिल कर भी नहीं देते थे.’’

आजादी के कुछ सालों तक दलितों के तमाम संगठन ऐसे थे, जो यह बताते थे कि दलितों की हालत के लिए जिम्मेदार धार्मिक कुरीतियां, रूढि़वाद और छुआछूत है. जब तक यह है, तब तक दलितों को समाज में बराबरी का हक नहीं मिलने वाला.

डाक्टर भीमराव अंबेडकर के बाद उत्तर प्रदेश में कांशीराम ने दलितों को जागरूक करने का काम किया. उन्हें यह लगता था कि राजनीतिक सत्ता हासिल कर के ही दलितों की तरक्की की जा सकती है.

कांशीराम के बाद बसपा की नेता मायावती को अपने सोशल इंजीनियरिंग फार्मूले के बाद लगा कि जो सवर्ण मंच पर उन के पैर छू रहे हैं, उस से दलितों के हालात बदल जाएंगे, जबकि अगड़ों का मायावती के पैर छूना एक राजनीतिक मजबूरी थी. इस का सामाजिक बराबरी से कोई लेनादेना नहीं था.

पूजापाठ में दिलचस्पी

दलितों की ताकत समझ चुके अगड़ों को समझ आ गया था कि जातिवाद के सहारे ताकत हासिल करना मुश्किल है. ऐसे में दलितों को धार्मिक पाखंड से जोड़ा जाने लगा. जिन मंदिरों में कभी दलितों को घुसने नहीं दिया जाता था, वहां उन को प्रवेश दिया जाने लगा.

अब बहुत ही कम ऐसे मंदिर बचे हैं, जहां दलितों को प्रवेश न मिलता हो. दलितों को इस बात के लिए दिमागी रूप से तैयार किया जाने लगा कि वे अपने मंदिर खुद बना लें.

अब दलितों की नौजवान पीढ़ी इस धार्मिक पूजापाठ में ज्यादा दिलचस्पी रखने लगी है. यह पीढ़ी ऐसी है, जो थोड़ीबहुत पढ़ीलिखी है. वह किताबें

पढ़ लेती है. बड़े घरों को देख कर अपने घर में धार्मिक कहानियों की किताबें पढ़ने लगी है. किताबों में लिखी विधि के हिसाब से पूजापाठ करने लगी है.

गणेश, दुर्गा और सरस्वती की पूजा कर के उन की मूर्तियों के विसर्जित करते समय देखा जाता है कि बहुत सी दलित बस्तियों में यह शुरू हो चुका है.

पहले यह रिवाज शहरों में था, पर अब गांव और कसबों में भी दिखने लगा है. रातरातभर आरकेस्ट्रा पर फिल्मी गानों की धुनों पर भजन बजते हैं.

दलित चिंतक रामचंद्र कटियार कहते हैं, ‘‘हैरानी की बात तो यह है कि दलित और पिछड़े तबके के ये नौजवान पढ़ेलिखे होने के बाद भी धर्म की कहानियों में लिखी बातों को समझने की कोशिश नहीं करते. जिन चौपाइयों और कहानियों में दलित तबके की बुराई की गई है, उस लाइन को भी वह जोरशोर से पढ़ते हैं. वे यह भी नहीं सोचते हैं कि इन लाइनों में दलित तबके को ही गलत बताया गया है.

‘‘असल में इन नौजवानों का कुसूर भी नहीं है. पहले दलितों के लिए काम करने वाले संगठन बताते थे कि किनकिन धर्मग्रंथों में धार्मिक कहानियों के जरीए दलितों की बुराई की गई है. उस समय बहुत सारे दलित होलीदीवाली नहीं मनाते थे. ये त्योहार धार्मिक रूप

से हिंदुओं की अगड़ी जातियों के त्योहार माने जाते थे. राम की आलोचना होती थी. ये बातें आज की नौजवान पीढ़ी को नहीं पता. धर्म का प्रचार करने वाले धर्म की सचाई बताने वालों से अधिक संगठित हो गए हैं.’’

बढ़ रहे हैं धार्मिक मेले

दलित परिवारों में धार्मिक मेलों की अहमियत बढ़ रही है. आज भी गांवकसबों की औरतों को घूमनेफिरने की बहुत आजादी नहीं है. ऐसे में जब कोई उन के आसपास मेला लगता है, तो उन का वहां जाना आसान हो जाता है. ऐसे मेले किसी मंदिर या फिर धार्मिक जगह पर होते हैं.

यहां जाने वालों को 2 तरह का फायदा हो जाता है. वे मेला भी घूम लेते हैं और घरों की जरूरत का सामान भी खरीद लेते हैं. बीमारी से ले कर बाकी जरूरतों के लिए ये लोग मंदिरों, बाबाओं और ओझाओं की शरण में जाने से नहीं चूकते हैं. दलित औरतें पहले से ही धर्म को ले कर बहुत डरी रहती हैं. ऐसे में वे बाबाओं की हर बात मान लेती हैं.

लखनऊ के पास बाराबंकी जिले में एक बाबा की सीडी सामने आई, जिस में वे तमाम औरतों का बांझपन दूर करने का उपाय करते थे. कई सीडी में वे सैक्स करते भी दिखे. इन औरतों में बड़ी तादाद दलित औरतों की थी.

जागरूकता की कमी

धार्मिक मेलों में भगदड़ के समय मरने वालों में अगर देखें, तो उन में इन गरीब लोगों की तादाद सब से ज्यादा होती है. धार्मिक भरोसे के मामले में दलित सब से अधिक धर्मभीरु बनते जा रहे हैं. उन के धर्म से प्रभावित होने की वजह गरीबी है.

गरीब को लगता है कि यह सब उस के पिछले जन्म के किए गए बुरे कामों का नतीजा है. ऐसे में वे इस जन्म में अपने काम के प्रति धार्मिक हो जाते हैं.

अब दलित तबके के पास भी पैसा है. वह रोज न सही, पर 2-4 महीने में किसी न किसी धार्मिक आयोजन में शामिल होता है. मीडिया भी ऐसी खबरों को प्रमुखता से दिखाता है.

कुंभ के मौके पर दलितों के लिए नहाने का अलग से इंतजाम होता है. यह बात इस तरह से सामने रखी गई, जिस से कुंभ में नहाने के बाद दलितों की सारी परेशानियों का खात्मा हो जाएगा. केवल पूजापाठ ही नहीं, अब दलित भी परिवार में किसी के मरने के बाद तेरहवीं जैसे भोज करने लगे हैं.

इस बारे में रामचंद्र कटियार कहते हैं, ‘‘छुआछूत और गैरबराबरी की बात धर्म की ही देन है. इस के बाद भी धर्म पर भरोसा बढ़ता जा रहा है. आज कई दलित इस बात के लिए आंदोलन करते हैं कि उन को मंदिर में घुसने नहीं दिया जाता.

‘‘सोचने वाली बात यह है कि जिस मंदिर में उन को बराबरी का हक नहीं दिया जाता, वहां जा कर वे क्या हासिल कर लेंगे? इस के बाद भी वे ऐसे मंदिरों में जाने की जिद करने लगते हैं.

‘‘असल में आजादी के बाद दलितों में जिस तरह से मंदिर का भरम कम हुआ था, वह अयोध्या में राम मंदिर आंदोलन के बाद फिर से उभर आया है.

‘‘अयोध्या में राम मंदिर आंदोलन के समय समाज दलितपिछड़ों और अगड़ों की जमात में खड़ा था, पर अब जातिवाद पर धर्म हावी हो गया है.’’

दलित नेता बने मार्गदर्शक

पहले दलितों के नेता अपने लोगों को जागरूक करते थे और खुद भी ऐसे आंडबरों से दूर रहते थे. डाक्टर भीमराव अंबेडकर और कांशीराम दोनों ने अपनी निजी जिंदगी में पाखंड को कभी अहमियत नहीं दी. बाद में आने वाले नेताओं में पाखंड बढ़ने लगा. ये लोग न केवल मंदिर जाने लगे, बल्कि  खुद भी पूजापाठ, हाथ में अंगूठी, कलावा बांधने लगे. अपने पद को बचाए रखने के लिए हवन और जाप कराने लगे. इन को देख कर इन के समर्थक और अनुयायी भी उसी दिशा में बढ़ने लगे.

शहरों में बस चुके दलित केवल रिजर्वेशन का फायदा लेते समय ही दलित होने का प्रमाणपत्र दाखिल करते हैं. उस के बाद वे खुद को सवर्ण समझ लेते हैं. धर्म के कामों में लग कर वे ऊंची जातियों की बराबरी का सपना देखने लगते हैं.

दलितों को यह समझ नहीं आता कि मंदिरों में पूजापाठ करने से समाज में उसे बराबरी का दर्जा हासिल नहीं होगा. समाज में बराबरी का दर्जा हासिल करने के लिए उसे कुरीतियों से मुकाबला करना होगा. वे कुरीतियां धर्म के पाखंड के चलते ही समाज में फैली हुई हैं.

दलितों को समाज से छुआछूत और भेदभाव को दूर करना है, तो मंदिरों के भरम से उसे बाहर निकलना होगा. जब तक वह पापपुण्य, पिछला जन्म भूल कर  पढ़लिख नहीं जाएगा, तब तक समाज में गैरबराबरी का शिकार होता रहेगा.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं