सरिता विशेष

आनंद खत्री का नाम पूरे कानपुर क्या देश भर के कारोबारी लोगों के बीच जानापहचाना है. उन की कई पीढि़यां कपड़ा कारोबार से जुड़ी रही हैं. कपड़ा व्यापार के साथ आनंद ने होटल और रियल एस्टेट का बिजनैस भी शुरू कर दिया था.

बीती 16 जनवरी की सुबह जब आनंद के सभी ठिकानों पर पुलिस की टीम के साथ आयकर और रिजर्व बैंक के अधिकारियों ने छापेमारी की तो पूरा कानपुर सकते में रह गया. शहर भर में यह बात तेजी से फैली.

हर आदमी यही सोच रहा था कि ऐसा क्या हो गया, जिस से आनंद खत्री के यहां पुलिस ने इतनी बड़ी काररवाई की है. कानपुर वासियों की आंखें तब खुली की खुली  रह गईं, जब उन्हें पता चला कि आनंद खत्री के यहां से 97 करोड़ की पुरानी करेंसी वाले नोट मिले हैं. पुलिस ने जब गाडि़यों में बक्से लादने शुरू किए तो छापे का सच सामने आ गया.

नोटबंदी के एक साल बाद उत्तर प्रदेश की आर्थिक राजधानी कानपुर में 97 करोड़ की पुरानी करेंसी मिलना आश्चर्य की बात थी, क्योंकि पूरे देश में इतनी बड़ी संख्या में पुराने नोट बरामद होने का यह पहला मामला था.

नोटबंदी लागू होने के दिन 500 रुपए के 1716.6 करोड़ नोट और 1 हजार के 8 करोड़ नोट बाजार में थे. इस तरह से 15.44 लाख करोड़ के नोट प्रचलन में थे. इन में से 15.28 लाख करोड़ के नोट रिजर्व बैंक के पास वापस आ गए पर करीब 1 फीसदी नोट वापस नहीं आए. मतलब 16050 करोड़ रुपए के हजार और 5 सौ के नोट वापस नहीं आए.

रिजर्व बैंक इन नोटों को कालाधन मान कर चल रही थी. रिजर्व बैंक, आयकर विभाग सहित कुछ दूसरे विभागों के साथ मिल कर इन पैसों को तलाशने का काम कर रही है. मनी चेंजर व मल्टीनेशनल कंपनियों पर नजर रखने के दौरान आयकर विभाग को पता चला कि हैदराबाद और कानपुर में एनआरआई के जरिए पुरानी करेंसी को बदलने का काम हो रहा है.

society

यह जानकारी मिलने के बाद रिजर्व बैंक के 4 अफसरों की अगुवाई में आयकर और पुलिस विभाग ने कानपुर में खोजबीन शुरू की. पुलिस को यह पता चल गया था कि मनी चेंजर के इस गेम में कानपुर के नामी उद्योगपति आनंद खत्री की भूमिका संदेह के घेरे में है.

आनंद खत्री कानपुर के बड़े उद्योगपति हैं. कपड़े के बिजनैस के अलावा वह होटल संचालन और बिल्डर का काम भी करते हैं. प्रभावशाली आनंद खत्री के ऊपर हाथ डालना आसान नहीं था. ऐसे में पुख्ता जानकारी मिलनी जरूरी थी.

आनंद खत्री का परिवार कई पीढि़यों से कानपुर में कपड़ों का कारोबार करता आ रहा है. उन के पिता श्यामदास खत्री कानपुर में कपड़ा कमेटी के सदस्य रह चुके थे. उन का विभिन्न तरह के कपड़ों का थोक कारोबार था.

आनंद खत्री के 6 भाई हैं. आनंद अपने 3 भाइयों गोवर्धन, तुलसीदास और हरीश के साथ मिल कर काहू कोठी में कपड़ों का कारोबार देखते हैं. यहीं से वह प्रौपर्टी रीयल एस्टेट और होटल का कारोबार भी देखते हैं. पुलिस पूरे मामले में पक्की खबर होने के बाद ही आनंद खत्री पर हाथ डालने का साहस कर सकी.

आयकर विभाग के पास पुख्ता सबूत थे कि आनंद खत्री अपने साथियों के साथ मिलीभगत से मनी चेंजर का काम करते हैं. आनंद खत्री के नेटवर्क में कई ऐसे ब्रोकर थे, जो कमीशन ले कर उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश में रीयल एस्टेट कारोबारियों और बिजनैसमैन से पुराने नोट ले कर उन्हें नए नोटों में बदलने का काम कर रहे थे. इस के बदले वह मनी चेंजर ब्रोकर को कमीशन देते थे.

दिल्ली और हैदराबाद से भी पुराने नोटों को नए में बदला जाना था. पुराने नोटों को दिल्ली और हैदराबाद ले जाने के 3 रास्ते थे. पहला रूट कानपुर से वाराणसी-कोलकाता-हैदराबाद का था, दूसरा रास्ता वाराणसी-बागपत-मीरजापुर वाया दिल्ली का था और तीसरा रूट दिल्ली से कोलकाता का.

पुलिस ने बताया कि नोट बदलने के इस खेल में नेपाल का कनेक्शन भी सामने आया है. पुलिस को आनंद खत्री के साथ काम करने वाले हैदराबाद निवासी कुटेश्वर के मोबाइल संदेश भी मिल गए, जिस में नोट बदलवाने संबंधी कई मैसेज थे. अब पुलिस के पास पुख्ता सबूत थे कि मनी चेंज का बड़ा खेल कानपुर में खेला जा रहा है.

16 जनवरी, 2018 को कानपुर पुलिस, आयकर विभाग और रिजर्व बैंक की टीम ने संयुक्त रूप से आनंद खत्री के कई ठिकानों पर छापेमारी की तो 96.44 करोड़ के पुराने नोट पकड़ में आ गए. ये नोट 80 फीट रोड और गुमटी नंबर 5 स्थित होटलों और आनंद खत्री के घर में बक्सों में भरे मिले.

पुलिस टीम की अगुवाई आईजी आलोक कुमार, एसएसपी अखिलेश कुमार, एसपी पश्चिम डा. गौरव ग्रोवर, एसपी पूर्व अनुराग आर्या सहित कई अधिकारियों ने की. पुलिस ने स्वरूपनगर थाने को अपना औफिस बना लिया था.

टीम को पुरानी करेंसी का तो पता चल चुका था, पर यह बात समझ नहीं आ रही थी कि इस करेंसी को कहां और कैसे खपाया जा रहा था. ऐसे में पुलिस ने नेपाल पुलिस के साथ मिल कर इस मामले को हल करने का प्रयास किया. पुलिस को लग रहा था कि नेपाल के जरिए ही पुरानी करेंसी नई करेंसी में बदली जा रही होगी.

आनंद खत्री के पास 40 से ज्यादा प्रौपर्टीज के दस्तावेज मिले. जबकि कैश में 3 करोड़ की जगह केवल 2 लाख रुपए ही मिले. शोरूम में कपड़े का भारी स्टौक मिला, जिस का मिलान करना कठिन काम था.

पुलिस ने आनंद खत्री के परिवार के लोगों से भी पूछताछ की. प्रौपर्टी के 40 दस्तावेज में से कई दूसरों के नाम पर निकले. पुलिस को बताया गया कि आनंद प्रौपर्टी की खरीदफरोख्त का काम करते हैं. ये दस्तावेज उन लोगों के हैं, जिन्होंने अपनी प्रौपर्टी बेचने के लिए दस्तावेज उन्हें दिए थे. पुलिस को यह बात समझ नहीं आई, इसलिए वह इस की तहकीकात में लग गई.

पुलिस ने इस मामले में 16 लोगों को गिरफ्तार किया. इन में आंध्र प्रदेश की रहने वाली महिला राजेश्वरी सहित लखनऊ के अनिल यादव, आनंद, मोहित, संतोष, संजय, संतकुमार, ओंकार, अनिल, रामाश्रय, संजय कुमार, धीरेंद्र गुप्ता, संजीव अग्रवाल, मनीष अग्रवाल और अली हुसैन प्रमुख थे.

अनिल यादव लखनऊ में रहता था. उस ने खुद को समाजवादी पार्टी के एक बडे़ नेता का करीबी बताया. वह प्रौपर्टी डीलिंग का काम करता था. ये लोग आपस में मिल कर इस खेल को अंजाम देते थे. नोटों की गिनती करना और कहानी का राजफाश करना सरल नहीं था.

society

ऐसे में नोटों की गिनती के काम को पूरा करना पहली जरूरत थी. मंगलवार 16 जनवरी से रिजर्व बैंक के 4 बड़े अधिकारियों के साथ यह काम शुरू हुआ.

2 बड़ी मशीनों से 4 घंटे की कड़ी मेहनत के बाद नोटों की गिनती शुरू हुई, जिस में कुल 96 करोड़ 62 लाख रुपए के नोट निकले. सीओ कोतवाली अजय कुमार ने सारे नोट अलगअलग बक्सों में बंद करा दिए. पकड़े गए लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी, षडयंत्र रचने की धारा और एबीएन एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई. आरोपी 17 जनवरी की शाम कोर्ट में पेश किए गए, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

VIDEO : प्री वेडिंग फोटोशूट मेकअप

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.