सरिता विशेष

गुजरात के खूबसूरत शहर सूरत की कई मायनों में अपनी अलग पहचान है. हीरा नगरी के नाम से जाने वाले इस शहर में व्यापक स्तर पर हीरे तराशने का काम होता है. इस के अलावा सूरत की साडि़यां भी पूरे देश में मशहूर हैं.

उस दिन सूरत शहर के थाना पांडेसरा क्षेत्र में जीयाव-बुडि़या रोड पर साईंमोहन सोसायटी के पास कुछ बच्चे मैदान में क्रिकेट खेलने गए थे. इन में कुछ बच्चे जमीन में विकेट गाड़ रहे थे तो कुछ बौलिंग और कुछ फील्डिंग की प्रैक्टिस कर रहे थे. तभी उन की बौल मैदान के पास झाडि़यों की तरफ चली गई. 2-3 बच्चे बौल लेने के लिए झाडि़यों की ओर गए तो वहां उन्हें एक लड़की पड़ी दिखाई दी.

लड़की को इस तरह पड़ा देख बच्चे डर गए और अपने साथियों के पास लौट आए. उन्होंने अपने साथियों को झाडि़यों के पास एक लड़की के पड़े होने की बात बताई. इस के बाद 8-10 बच्चे झाडि़यों के पास पहुंचे तो वहां का नजारा देख सन्न रह गए. वहां एक लड़की की लाश पड़ी हुई थी.

यह देख बच्चे अपनी बौल ढूंढना और क्रिकेट खेलना भूल कर दौड़ते हुए साईंमोहन सोसायटी की तरफ आ गए. उन्होंने लोगों को मैदान के पास झाडि़यों में एक लड़की की लाश पड़ी होने की जानकारी दी. बच्चों के बताने पर कई लोग झाडि़यों के पास गए तो वहां सचमुच लाश पड़ी हुई थी. लोगों ने इस की सूचना पुलिस को दे दी.

कुछ ही देर में पांडेसरा थाने की पुलिस मौके पर पहुंच गई, पुलिस ने मौकामुआयना किया. लाश को उलटपुलट कर देखा. लाश करीब 10-11 साल की लड़की की थी. उस के बदन पर नीले सफेद रंग की टीशर्ट और नीला पायजामा था. उस के गले के अलावा शरीर पर कई जगह मारपीट के निशान साफ नजर आ रहे थे. पुलिस ने वहां एकत्र लोगों से मृत लड़की की शिनाख्त कराने की कोशिश की, लेकिन किसी ने उसे नहीं पहचाना.

पुलिस ने पंचनामे के बाद लाश को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज दिया. पोस्टमार्टम की प्राथमिक रिपोर्ट में पता चला कि लड़की के साथ दुष्कर्म किया गया था. रिपोर्ट में उस की हत्या कुछ घंटे पहले किए जाने की बात कही गई थी. हत्या गला घोंट कर की गई थी.

पांडेसरा पुलिस स्टेशन में उसी दिन अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या, दुष्कर्म और पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया. यह बीते 6 अप्रैल की बात है.

लड़की की शिनाख्त न होने से पुलिस को लगा कि उस की हत्या कहीं दूसरी जगह की गई होगी और शव यहां क्रिकेट मैदान के पास ला कर फेंक दिया गया होगा. पुलिस के लिए सब से पहले लड़की की शिनाख्त होना जरूरी था. इस के लिए पुलिस ने लड़की के फोटो के साथ स्टेट कंट्रोलरूम को इस की जानकारी भेज दी. इस के अलावा शहर के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में दर्ज लापता लड़कियों के बारे में सूचनाएं जुटाई गईं. काफी कोशिश के बाद भी उस लड़की के बारे में पुलिस को कोई जानकारी नहीं मिल सकी.

लाश मिलने के अगले ही दिन पुलिस ने लड़की की पहचान में आम लोगों का सहयोग मांगते हुए उस के बारे में सूचना देने वाले को 20 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा कर दी. घोषणा में पुलिस ने यह भी जोड़ा कि जानकारी देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा.

पुलिस ने भले ही इनाम का ऐलान कर दिया था, लेकिन इस का कोई फायदा नहीं हुआ. पुलिस को मृतका के बारे में कोई सूचना नहीं मिली. इस पर पुलिस अपने तरीके से जांचपड़ताल में जुट गई.
इसी बीच 9 अप्रैल को सूरत शहर के पांडेसरा इलाके में ही जीयाव गांव के नजदीक हाईवे किनारे की झाडि़यों में एक महिला की सड़ीगली लाश मिली. लाश कई दिन पुरानी थी. यह जगह साईंमोहन सोसायटी से ज्यादा दूर नहीं थी. पुलिस ने महिला की लाश का पोस्टमार्टम करवाया.

पोस्टमार्टम की प्राथमिक रिपोर्ट से पता चला कि महिला की उम्र 35-40 साल के बीच थी और उस की हत्या कई दिन पहले गला घोंट कर की गई थी. इस महिला की भी पहचान नहीं हो सकी.

4 दिन के भीतर एक ही थानाक्षेत्र में एक लड़की और एक महिला की लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई थी. पुलिस के लिए यह परेशानी की बात थी कि दोनों शवों की ही शिनाख्त नहीं हो सकी थी. जबकि आमतौर पर शव की शिनाख्त होने पर ही जांच आगे बढ़ती है.

दोनों शव मिलने की जगह में करीब 2 किलोमीटर की दूरी होने के कारण पुलिस को दोनों शवों के बीच आपसी संबंध होने का संदेह हुआ. पुलिस का अनुमान था कि महिला उस लड़की की मां हो सकती है. इस बात की पुष्टि के लिए पुलिस ने महिला और लड़की के शव का डीएनए टेस्ट कराने के लिए सैंपल भेजे.
जहां लड़की की लाश मिली थी, उस के आसपास में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी गई. फुटेज में तड़के करीब साढ़े 4 बजे एक हैचबैक कार नजर आई. कई कैमरों की फुटेज देखने पर कार का रंग काला होने का पता चला. इस पर पुलिस ने भेस्तान इलाके में काले रंग की सभी हैचबैक कार के बारे में पूछताछ की. आरटीओ कार्यालय से भी काले रंग की सभी हैचबैक कार के बारे में जानकारी जुटाई गई.

काफी भागदौड़ के बाद पुलिस की नजरें कार नंबर जीजे05सी एल8520 पर अटक गई. इस कार के मालिक के बारे में पता चला कि कार भेस्तान के सोमेश्वर नगर में रहने वाले रामनरेश के नाम से रजिस्टर्ड है. पुलिस ने पूछताछ के लिए रामनरेश को थाने बुलवा लिया. उस ने बताया कि उस की कार 6 अप्रैल को हरसहाय गुर्जर ले गया था.

पुलिस हरसहाय गुर्जर की तलाश में जुट गई. पता चला कि हरसहाय गुर्जर सूरत के भेस्तान इलाके में सोमेश्वर सोसायटी की एक बिल्डिंग में अपने बड़े भाई हरिसिंह के साथ रह रहा था. हरिसिंह मार्बल लगाने की ठेकेदारी करता था.

सरिता विशेष

वह मूलरूप से राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में गंगापुर सिटी के पास कुरकुरा खुर्द गांव का रहने वाला था. उस के परिवार में पत्नी और 2 बेटे थे. एक बेटा उस के साथ सूरत में और दूसरा बेटा कुरकुरा खुर्द गांव में रहता था.

हरसहाय के बारे में सारी जानकारी जुटा कर पुलिस ने सूरत की सोमेश्वर सोसायटी में उस के मकान पर दबिश दी तो वह वहां नहीं मिला. पड़ोसियों से पूछताछ में पता चला कि हरसहाय 2-3 दिन पहले ही पत्नी और बच्चों के साथ अपना सारा सामान ले कर गांव चला गया है.

इस पर अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच की एक टीम राजस्थान भेजी गई. राजस्थान में सवाई माधोपुर पुलिस की मदद से 20 अप्रैल को कुरकुरा खुर्द गांव से हरसहाय गुर्जर को पकड़ लिया गया. गुजरात पुलिस उसे सूरत ले गई.

इस बीच डीएनए जांच से इस बात की पुष्टि हो गई कि पांडेसरा में जीयाव के पास जिस महिला का शव मिला, वह दुष्कर्म पीडि़ता 11 साल की बेटी की मां ही थी. महिला और बच्ची के शव की डीएनए रिपोर्ट पौजिटिव आई.

हरसहाय से की गई पूछताछ में अभागिन मांबेटी के मामले में मानव तसकरी होने की बात सामने आई. दोनों मांबेटी से कई दिनों तक दुष्कर्म कर के बाद में उन्हें मौत की नींद सुला दिया गया था. इस मामले में बाद में पुलिस ने मानव तस्करी से जुड़े हरसहाय के कुछ अन्य साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया.
पुलिस की पूछताछ में मांबेटी की हत्या की जो कहानी सामने आई, वह इस तरह थी—

राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में गंगापुर सिटी के पास कुरकुरा खुर्द गांव का रहने वाला हरसहाय गुर्जर कई साल पहले गुजरात के सूरत चला गया था. उस का बड़ा भाई हरिसिंह भी सूरत में रहता था. हरसहाय सूरत में मकानों और अन्य बिल्डिंगों में ठेके ले कर मार्बल लगाने का काम करता था.

हरसहाय भेस्तान के सोमेश्वर सोसायटी की एक बिल्डिंग में पत्नी रमादेवी और छोटे बेटे प्रियांशु के साथ किराए के मकान में रहता था. उस का बड़ा बेटा दीपांशु राजस्थान में गांव में ही रहता था.

हरसहाय के पास मार्बल लगाने का काम करने वाले एक युवक कुलदीप की शादी नहीं हुई थी. कुलदीप करीब 6 महीने पहले राजस्थान से एक महिला को शादी करने के मकसद से 35 हजार रुपए में खरीद कर सूरत ले आया था. उस महिला के साथ 11 साल की एक बेटी भी थी. बाद में कुलदीप के घर वालों ने खरीदी हुई महिला से उस की शादी करने से इनकार कर दिया.

कुलदीप ने हरसहाय को सारी बात बताई. हरसहाय ने उस महिला और उस की बेटी को रखने की हामी भर ली. इस पर कुलदीप और मुकेश ने वह महिला और उस की बेटी हरसहाय को सौंप दीं. हरसहाय ने मांबेटी के रहने की व्यवस्था सूरत के कामरेज में टाइल्स फिटिंग की एक साइट पर कर दी. उस ने दोनों मांबेटी के रहने के साथ खानेपीने का भी इंतजाम कर लिया. इस के एवज में हरसहाय ने महिला से ज्यादती कर अवैध संबंध बना लिए.

इश्कमुश्क और अवैध संबंधों के मामले ज्यादा दिनों तक छिपे नहीं रहते. यहां भी ऐसा ही हुआ. कुछ दिनों बाद हरसहाय की पत्नी रमादेवी को इस बात का पता चल गया कि उस के पति ने एक महिला को रखा हुआ है.

दरअसल हरसहाय उस महिला के लिए कई बार अपने घर से कई तरह के सामान और कपड़े ले कर जाता था और वहां से कईकई घंटे बाद लौटता था.

रमादेवी जब उस से इस बारे में पूछती तो वह उसे साफ जवाब नहीं देता था. एक दिन रमादेवी ने अपने भरोसे के एक आदमी को पति के पीछे लगा दिया. बाद में उस आदमी ने रमादेवी को बताया कि हरसहाय ने एक औरत रखी हुई है.

रमादेवी इस बात पर पति से झगड़ा करने लगी. घर में रोजरोज की कलह शुरू हो गई. इस बीच हरसहाय ने उस महिला और उस की बेटी को कामरेज से हटा कर मानसरोवर के एक फ्लैट में रख दिया. दूसरी तरफ हरसहाय ने जिस महिला को रखा हुआ था, वह बारबार शादी करने या पैसे देने की बात कहती थी. इस पर हरसहाय परेशान रहने लगा. कोई और रास्ता न देख उस ने महिला से पीछा छुड़ाने का फैसला कर लिया.

मार्च महीने के चौथे सप्ताह में हरसहाय ने पहले उस महिला के सिर पर ईंट मार कर उसे घायल कर दिया. इस के बाद दुपट्टे से उस का गला घोंट कर उसे मार डाला. महिला की हत्या उस की मासूम बेटी के सामने की गई. इस के बाद हरसहाय ने उस महिला का शव पांडेसरा में जीयाव के पास फेंक दिया था. बाद में 9 अप्रैल को पुलिस ने उस महिला का शव सड़ीगली हालत में बरामद किया था.

महिला की हत्या के बाद उस की 11 साल की बेटी को हरसहाय अपने घर पर ले आया. वह बच्ची अपनी मां के लिए रोती रहती थी. किसी दूसरे की बच्ची को अपने घर लाने पर रमादेवी का अपने पति से झगड़ा बढ़ गया. हरसहाय यह तय नहीं कर पा रहा था कि उस बच्ची का क्या करे.

घर में बढ़ते झगड़े को देख कर और उस बच्ची द्वारा कभी भी पोल खोल दिए जाने के डर से वह बच्ची को बंधक बना कर यातनाएं देने लगा. कई बार वह उसे डंडे से बेरहमी से पीटता था. बच्ची के शरीर पर उस ने ब्लेड से कई घाव कर दिए थे. इस दौरान हरसहाय ने उस मासूम से दुष्कर्म भी किया.

5 अप्रैल की रात हरसहाय उस बच्ची को मकान की छत पर ले गया, जहां उस ने उस के साथ दुष्कर्म किया. दुष्कर्म के बाद उस ने उस के नाजुक अंगों पर घाव कर दिए. फिर गला दबा कर बच्ची को मार डाला. बच्ची की हत्या उस ने सिर्फ इसलिए की कि कहीं वह अपनी मां की हत्या का राज उजागर न कर दे.
हरसहाय 6 अप्रैल को तड़के रामनरेश की कार से उस बच्ची के शव को साईंमोहन सोसायटी के पीछे क्रिकेट मैदान के पास झाडि़यों में फेंक आया. बाद में उसी दिन बच्ची का शव पांडेसरा पुलिस ने बरामद किया था. बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उस के शरीर पर 80 से ज्यादा घाव मिले.

20 दिनों की मशक्कत के बाद सूरत पुलिस ने राजस्थान और सूरत में 40 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर के मांबेटी की शिनाख्त करने में सफलता हासिल कर ली.

वह महिला राजस्थान के सीकर की रहने वाली थी. महिला की मां के मुताबिक, उस की बेटी का चेहरा बचपन में गर्म पानी से झुलस गया था. इस वजह से उस की शादी नहीं हो पा रही थी. बाद में उस की शादी 22 जून, 2007 को सीकर के फतेहपुर कस्बे में कर दी गई. ससुराल में आर्थिक हालत बहुत अच्छी नहीं थी. शादी के साल भर बाद ही उस महिला ने एक बेटी को जन्म दिया.

बाद में महिला ने फतेहपुर निवासी पति को छोड़ दिया. उस ने 2010 में बूंदी में एक युवक से शादी कर ली. महिला अपनी बेटी को भी बूंदी ले गई. महिला का दूसरा पति बूंदी में जूतेचप्पल बेचने का काम करता था. उस की पहली पत्नी की मौत हो चुकी थी. पहले से ही उस के 3 बच्चे थे. दूसरी शादी के बारे में महिला ने अपने परिवार वालों को नहीं बताया था.

दूसरी शादी करने के बावजूद महिला को सुख नसीब नहीं हुआ. उस का पति से झगड़ा रहने लगा. एक बार पति से झगड़ा होने पर महिला अपने मायके चली गई.

बाद में उस का पति भी बूंदी से सीकर आ गया. उस समय महिला की मां ने उस से कहा कि या तो यहां पर रुक जा, नहीं तो फिर दोबारा यहां पर मत आना. इस के बाद वह सीकर से चली गई थी. इस के बाद महिला के घर वालों का उस से कोई संपर्क नहीं हुआ था.

घटना से करीब 7 महीने पहले यह महिला अपने पति से 2 दिन में आने की बात कह कर बेटी के साथ घर से निकली थी. वह घर से जेवर भी ले गई थी. लोगों ने महिला को बूंदी के बसस्टैंड पर एक युवक के साथ देखा था.

जब वह 2 दिन तक घर नहीं लौटी तो पति ने उसे फोन किया. महिला ने कहा कि वह जयपुर में है और काफी परेशानी में है. इस के बाद उस का महिला से संपर्क नहीं हुआ तो उस ने बूंदी कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करा दी थी.

पुलिस ने महिला की मोबाइल लोकेशन निकलवाई तो वह गंगापुर सिटी की आई. इस पर उस के दूसरे पति ने गंगापुर सिटी जा कर भी उस की तलाश की लेकिन उस का पता नहीं चल सका. बाद में उस की मोबाइल लोकेशन दौसा व गंगापुर सिटी और इस के बाद सूरत आती रही.

महिला के दूसरे पति का कहना है कि वह उस की पत्नी को बेचने और खरीदने वाले को नहीं जानता. उस का आरोप है कि पुलिस ने सपोर्ट नहीं किया. पुलिस अगर सपोर्ट करती तो उस की पत्नी सूरत नहीं पहुंचती और आज वह जिंदा होती.

सूरत पुलिस ने सीकर पहुंच कर महिला के परिजनों को खोज लिया. फिर फोटो, आधार कार्ड और अन्य सबूतों के आधार पर महिला की शिनाख्त की. इस के बाद पुलिस सीकर से महिला के घर वालों को सूरत ले गई. सूरत में पुलिस की मौजूदगी में 27 अप्रैल को मोरा भागल स्थित कब्रिस्तान में परिजनों ने महिला और उस की बेटी के शव दफना दिए.

हतभागी मांबेटी को एकता ट्रस्ट के अब्दुल मलबारी के सहयोग से दफनाया गया था. हालांकि यह सब पुलिस ने गुप्तरूप से किया और मीडिया को इस से दूर रखा. पुलिस ने मीडिया को गुमराह करने के लिए कब्रिस्तान के गेट पर ताला भी लगा दिया था.

महिला के परिजनों को पुलिस जिस कार में कब्रिस्तान ले गई, उस के नंबर भी ढक दिए थे. घर वालों को मुंह ढक कर कार में बीच में बैठा कर लाया और ले जाया गया. इस के बाद सूरत पुलिस ने महिला के सीकर से आए घर वालों के बयान दर्ज किए. घर वालों ने बताया कि 2 साल पहले उन की बेटी सीकर में घर आई थी, उस के बाद से उन का उस से कोई संपर्क नहीं था.

इस मामले में यह खास बात रही कि 26 अप्रैल को पांडेसरा इलाके में क्रिकेट मैदान के पास मिले बच्ची के शव की शिनाख्त के लिए सूरत पुलिस और अहमदाबाद क्राइम ब्रांच सहित करीब 500 पुलिस जवानों को लगाया गया था. पुलिस ने करीब 8 हजार घरों पर जा कर बच्ची का फोटो दिखा कर उस की पहचान करने की कोशिश की थी. सूरत शहर में बच्ची के पोस्टर चिपकवाए गए. बच्ची की पहचान बताने वाले को 20 हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की गई.

भेस्तान क्षेत्र के अलावा नैशनल हाईवे के आसपास के इलाके में करीब 800 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की फुटेज देखी गई. गुजरात के अलावा आसपास के 3 राज्यों से गुमशुदा बच्चियों के फोटो से मृतक बच्ची का फोटो मिलान करने का प्रयास किया गया. सूरत से अन्य राज्यों में जाने वाली ट्रेनों में बच्ची के फोटो चिपकवाए गए. सूरत के नागरिकों ने भी अपने स्तर पर बच्ची की पहचान के लिए इनाम का ऐलान किया था.

कपड़ा व्यापारियों ने दूसरे राज्यों में भेजे जाने वाले माल के पार्सलों पर भी बच्ची के फोटो चिपकवाए. जिस जगह बच्ची का शव मिला था, उस के आसपास 5 अप्रैल की रात से 6 अप्रैल की सुबह तक एक्टिव रहे करीब एक हजार मोबाइल नंबरों की जांच की गई.

भेस्तान में सोमेश्वर सोसायटी की जिस बिल्डिंग में बच्ची को बंधक बना कर उस से दुष्कर्म और फिर हत्या की गई थी, उस बिल्डिंग के लोगों को बच्ची का शव मिलने के बाद पुलिस ने फोटो दिखाया था, लेकिन किसी ने उसे नहीं पहचाना था. इस का कारण यह था कि बच्ची को घर से बाहर नहीं निकलने दिया जाता था.

सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश शर्मा का कहना है कि आरोपियों को सख्त सजा दिलाने के लिए पुलिस के पास काफी सबूत हैं. सीसीटीवी फुटेज हैं. मांबेटी का डीएनए मैच हो गया है. दूसरी ओर गुजरात के गृह राज्यमंत्री प्रदीप सिंह जडेजा का कहना है कि इस मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में होगी. इस के लिए सरकार स्पैशल पब्लिक प्रोसिक्यूटर नियुक्त करेगी.

बहरहाल, यह मामला न केवल खुल गया है, बल्कि यह बात भी उजागर हो गई है कि महिलाओं की खरीद फरोख्त आज भी हो रही है. खरीदार खरीदी गई महिला को उपभोग की वस्तु मानता है. जब तक मन चाहता है उपभोग करता है. मन भर जाने पर उसे दरदर की ठोकरें खाने के लिए छोड़ देता है या हरसहाय जैसे दरिंदे पीछा छुड़ाने के लिए उसे मौत के घाट उतार देते हैं. इस कहानी में न तो महिला का कोई कसूर था और न उस की बच्ची का. लेकिन दरिंदों ने उन की जान ले ली.