सरिता विशेष

18 मार्च, 2017 को पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना मिली कि गांव अनोड़ा में कुछ लोगों ने 2 लड़कियों को घेर रखा है, उन की जान को खतरा है. कंट्रोल रूम ने यह सूचना थाना राया पुलिस को दे दी, क्योंकि गांव अनोड़ा उसी के अंतर्गत आता था. सूचना मिलते ही थाना राया के थानाप्रभारी इंसपेक्टर अनिल कुमार पुलिस बल के साथ गांव अनोड़ा पहुंच गए. गांव पहुंच कर उन्हें पता चला कि वह फोन रामखिलाड़ी के घर से किया गया था.

पूछताछ में अनिल कुमार के सामने जो घटना आई, वह हैरान करने वाली थी. फोन जिन 2 लड़कियों ने किया था, वे आपस में शादी करना चाहती थीं, जो लोगों को स्वीकार नहीं था. लोग दोनों को अलग करना चाहते थे, जबकि लड़कियां एकदूसरे से अलग नहीं होना चाहती थीं. जब लोग जबरदस्ती करने लगे तो उन्होंने कंट्रोल रूम के 100 नंबर पर फोन कर दिया था.

मामला कोई बहुत गंभीर नहीं था, फिर भी कुछ लोगों को उत्तेजित देख कर अनिल कुमार दोनों लड़कियों को साथ ले कर थाने आ गए. उन के पीछेपीछे दोनों लड़कियों के घर वाले ही नहीं, कुछ रिश्तेदार और गांव के भी तमाम लोग आ गए थे.

पुलिस जिन दोनों लड़कियों को थाने ले आई थी, उन में से एक का नाम सोनिया था. उस की उम्र 23 साल थी. वह मथुरा जिले के थाना राया के गांव अनोड़ा के रहने वाले रामखिलाड़ी की बेटी थी. उस के साथ आई लड़की का नाम रीना था, जो 21 साल की थी. वह गांव रूमगेला के रहने वाले लक्ष्मण की बेटी थी.relationship in hindi

थाने में की गई पूछताछ में सोनिया और रीना के प्रेम से ले कर बात विवाह तक पहुंचने की जो कहानी सामने आई, वह इस प्रकार थी—

उत्तर प्रदेश के जिला मथुरा के थाना राया का एक गांव है अनोड़ा. रामखिलाड़ी इसी गांव के रहने वाले थे. उन के परिवार में पत्नी भारती के अलावा 4 बेटियां और एक बेटा था.

रामखिलाड़ी कपड़ों पर प्रैस कर के गुजरबसर करते थे. सोनिया उन की सब से छोटी बेटी थी. उन्होंने 3 बेटियों की शादी कर दी थी. अब वह सोनिया की शादी के बारे में सोचने लगे थे.

लेकिन सोनिया कुछ अलग तरह की लड़की थी, जिसे ले कर रामखिलाड़ी ही नहीं, उन की पत्नी भारती भी चिंतित रहती थी. इस की वजह यह थी कि सोनिया बचपन से ही लड़कियों की तरह नहीं, लड़कों की तरह रहती आई थी. वह कपड़े तो लड़कों जैसे पहनती ही थी, उस की सोच, बातचीत का लहजा भी लड़कों जैसा था. वह रहती भी लड़कों के साथ ही थी.

सोनिया की चालढाल, रहनसहन और उस की बातें सुन कर रामखिलाड़ी और भारती चिंतित रहते थे. जब तक वह बच्ची थी, बात बचपने में टाल दी जाती रही, लेकिन जब वह सयानी हुई तो मांबाप उसे समझाने ही नहीं लगे, बल्कि हिदायतें भी देने लगे. लेकिन सोनिया पर उन के समझाने या हिदायतों का कोई असर नहीं पड़ा.

सोनिया ने 12वीं तक पढ़ाई की और अपने पैरों पर खड़ी होने के लिए सिलाई सीख कर लोगों के कपड़े तो सीने ही लगी, साथ ही सिलाई सिखाने का इंस्टीट्यूट भी खोल लिया. उस के यहां सिलाई सीखने गांव की ही नहीं, अगलबगल के गांवों की भी लड़कियां आती थीं.relationship in hindi

सोनिया जहां अपने में मस्त रहती थी, वहीं मांबाप को उस के ब्याह की चिंता थी. क्योंकि उन्हें शायद पता नहीं था कि वह जिस बेटी के ब्याह के लिए परेशान हैं, उस में लड़कियों वाले गुण हैं ही नहीं. उन्होंने सोनिया के मन में क्या है, इस बात की परवाह किए बगैर अलीगढ़ की तहसील अतरौली के गांव जमनपुर के रहने वाले रमेश से उस की शादी तय कर दी.

जब इस बात की जानकारी सोनिया को हुई तो वह विरोध पर उतर आई. लेकिन उस के विरोध के बावजूद रामखिलाड़ी ने उस की शादी धूमधाम से रमेश के साथ कर दी. यह सन 2009 की बात है. मांबाप के इस फैसले से नाराज सोनिया ससुराल चली तो गई, पर बागी बन गई. ससुराल वालों ने उसे हाथोंहाथ लिया, पर उस के मन में जो था, उस में जरा भी बदलाव नहीं आया.

सोनिया ने पति को छूने देने की कौन कहे, चारपाई के भी नजदीक नहीं आने दिया. सवेरा होते ही उस ने साड़ी उतार कर फेंक दी और जींसटौप पहन लिया. बहू की इस हरकत से ससुराल वाले हैरान रह गए. उन्हें यह जरा भी पसंद नहीं आया. उन्होंने उसे नादान समझ कर समझाना चाहा, पर वह कुछ भी समझने को तैयार नहीं थी. उन्होंने फोन कर के सारी बात रामखिलाड़ी को बताई तो वह परेशान हो उठे.

बड़ी मुश्किल से तो उस ने बेटी की शादी की थी. ससुराल जा कर वह इस तरह का नाटक कर रही थी. 5 दिनों बाद वह मायके आई तो उस ने साफ कह दिया कि अब वह ससुराल नहीं जाएगी. इस के बाद लाख प्रयास के बावजूद भी वह ससुराल नहीं गई. मजबूर हो कर मांबाप ने बेटी के तलाक का मुकदमा अदालत में दायर कर दिया, जो अभी भी विचाराधीन है.

सोनिया तनमन से अपने सिलाई सैंटर में लग गई. उसे लड़कियों को सिलाई सिखाना पसंद था. न जाने क्यों उसे लड़कियों को छूना अच्छा लगता था. इसलिए वह उन्हीं के बीच लगी रहती थी. एक दिन पड़ोस के रूमगेला गांव की रहने वाली रीना उस के सिलाई सैंटर पर सिलाई सीखने आई तो उस ने उस में न जाने क्या देखा कि उसे लगा, इसी लड़की की उसे तलाश थी. रीना अभी पढ़ रही थी. वह सिलाई सीख कर अपनी पढ़ाई का खर्च खुद निकालना चाहती थी. उस के पिता लक्ष्मण खेती करते थे. उन के परिवार में पत्नी शांति के अलावा 4 बेटियां थीं. 3 बेटियों की वह शादी कर चुके थे. सब से छोटी रीना अभी पढ़ रही थी.

सरिता विशेष

रूमगेला गांव अनोड़ा से 6 किलोमीटर दूर था. इस के बावजूद रीना रोज साइकिल से सोनिया के यहां सिलाई सीखने आती थी. रीना में ऐसा न जाने कौन सा आकर्षण था कि सोनिया उस की ओर खिंचती जा रही थी. जब तक वह सिलाई सैंटर में रहती, सोनिया को अजीब सा सुख महसूस होता. वह उसी के इर्दगिर्द मंडराती रहती थी. उसे छू कर उस के मन को असीम शांति ही नहीं मिलती थी, बल्ति अद्भुत सुख का भी अहसास होता था.

सोनिया की नजरें हमेशा रीना पर ही जमी रहती थीं, क्योंकि वह उसे अन्य लड़कियों से अलग नजर आती थी. रीना को भी जब उस के मन की बात का अहसास हुआ तो वह भी उस के करीब आने लगी. जल्दी ही वह उस की खास छात्रा बन गई.relationship in hindi

एक दिन सोनिया ने बहाने से उसे अपने घर क्या रोका, उस दिन के बाद से वह उसी की हो कर रह गई. इस के बाद सोनिया ने रीना के पिता लक्ष्मण को फोन कर के कहा कि रीना रोजरोज 6 किलोमीटर आनेजाने में थक जाती है. अच्छा होगा कि उसे उस के पास ही रहनें दें. इस से रीना सिलाई भी जल्दी सीख जाएगी और रोजरोज की थकान से भी बच जाएगी.

लक्ष्मण को क्या पता था कि सोनिया के मन में क्या है. उन्होंने सहज भाव से इजाजत दे दी. अब रीना सोनिया के साथ ही रहने लगी. सप्ताह में एकाध दिन वह घर भी चली जाती थी. एक साथ रहने से सोनिया और रीना एकदूसरे के इतने करीब आ गईं कि वे अलग होने के नाम से घबराने लगीं. इसी डर से एक दिन सोनिया ने कहा, ‘‘रीना, तुम्हारे घर वाले तुम्हारी शादी कर के ससुराल भेज देंगे तो मेरा क्या होगा?’’

‘‘मैं तुम्हें छोड़ कर किसी दूसरे से शादी कर ही नहीं सकती. मैं ने तो तुम्हें ही अपना पति मान लिया है. अब यह जीवन तुम्हारे साथ बिताऊंगी.’’ रीना ने कहा.

रीना की इस बात से सोनिया ने राहत की सांस जरूर ली, लेकिन जल्दी ही अनोड़ा वालों को सोनिया और रीना के संबंधों की जानकारी हो गई. फिर तो कानाफूसी होने लगी. धीरेधीरे यह कानाफूसी गांव रूमगेला तक पहुंच गई.

गांव वालों ने जब लक्ष्मण को यह बात बताई तो वह तुरंत अनोड़ा जा पहुंचा. उस के साथ घर वाले भी थे. जब सब ने रीना से घर चलने को कहा तो उस ने कहा, ‘‘अभी मैं ने सिलाई ठीक से नहीं सीखी है. जब सीख जाऊंगी तो घर आ जाऊंगी.’’

‘‘पहले तुम अपनी पढ़ाई पूरी कर लो, उस के बाद कोई दूसरा काम कर लेना. हमें सिलाई नहीं सिखानी.’’ लक्ष्मण ने कहा.

रीना अपने घर जाने को तैयार नहीं थी, लेकिन लक्ष्मण जबरदस्ती उसे घर ले आया. रीना के जाने से सोनिया परेशान हो उठी. उस के बिना वह बेचैन रहने लगी. उस के बिना सोनिया का मन ही नहीं लग रहा था. अब सिर्फ मोबाइल फोन ही उस का सहारा था. फोन पर बातें कर के दोनों अपनेअपने मन को संतोष दे रही थीं.

सोनिया ने फोन पर जब रीना से कहा कि वह उस के बिना नहीं रह सकती और उस से शादी करना चाहती है तो रीना ने कहा, ‘‘हम शादी नहीं कर सकते, क्योंकि हमारे यहां समलिंगी शादियों को गैरकानूनी माना जाता है.’’

‘‘हम भले ही शादी नहीं कर सकते, लेकिन साथ रह तो सकते हैं. साथ रहने से तो कानून मना नहीं कर सकता. इसलिए मैं तुम्हें जल्दी ही लेने आ रही हूं.’’ सोनिया ने कहा.

एक ओर जहां सोनिया और रीना साथ रहने की तरकीब भिड़ा रही थीं, वहीं लक्ष्मण रीना की शादी को ले कर परेशान था. गांव वाले उसे कोस रहे थे. उन का कहना था कि रीना जो कर रही है, उस का गांव की अन्य लड़कियों पर असर पड़ सकता है.

लक्ष्मण रीना के लिए घरवर की तलाश में तेजी से लगा था. लेकिन रीना ने मां से कहा था कि वह किसी भी हालत में शादी नहीं करेगी. तब मां ने कहा, ‘‘हर लड़की शादी कर के दुलहन बनती है, गृहस्थी बसाती है, मां बनती है.’’

‘‘मम्मी, मैं ने सोनिया को पति मान लिया है, इसलिए अब उसी से शादी करूंगी.’’ रीना ने कहा.

‘‘क्या कहा, तू सोनिया से शादी करेगी? तू उस से कैसे शादी कर सकती है? इस शादी का क्या मतलब होगा?’’ शांति ने कहा. उसे लगा कि बेटी पागल हो गई है.

शाम को जब यह बात उस ने लक्ष्मण को बताई तो उस ने गुस्से में रीना की पिटाई कर दी. यही नहीं, उस का कालेज जाना भी बंद करा दिया. रीना ने फोन कर के सारी बात सोनिया को बताई तो उस ने कहा, ‘‘तू चिंता मत कर, मैं जल्दी ही तुझे लेने आ रही हूं. तुम तैयार रहना.’’

रीना पर घर वाले नजर रखने लगे थे. लक्ष्मण और शांति काफी परेशान थे. उन की समझ में नहीं आ रहा था कि भला 2 लड़कियां शादी कर के एक साथ कैसे रह सकती है? दूसरी ओर मांबाप की परेशानी की चिंता किए बगैर रीना को सोनिया का इंतजार था.relationship in hindi

आखिर वह दिन आ ही गया, जब सोनिया अपनी मोटरसाइकिल से रूमगेला जा पहुंची. गांव के बाहर से उस ने रीना को फोन किया कि वह गांव के बाहर खड़ी उस का इंतजार कर रही है. फिर क्या था, रीना चुपचाप पिछले दरवाजे से सोनिया के पास पहुंच गई तो वह उसे मोटरसाइकिल से ले कर अपने गांव आ गई.

कुछ देर बाद जब रीना के घर वालों को उस के घर से गायब होने का पता चला तो घर में तूफान सा आ गया. लक्ष्मण गांव के कुछ लोगों और रिश्तेदारों के साथ अनोड़ा स्थित सोनिया के घर जा पहुंचा.

सोनिया को पता था कि रीना के घर वाले उसे लेने आ सकते हैं. वे आ भी गए थे. रीना के घर वाले उसे जबरदस्ती साथ ले जाने की कोशिश करने लगे तो सोनिया को अपनी खुशियों की दुनिया लुटती नजर आई. उसे पता था कि अगर इस बार रीना चली गई तो वह उसे फिर कभी नहीं वापस ला सकेगी. उसे अपना प्यार हाथ से निकलता दिखाई दिया तो उस ने 100 नंबर पर फोन कर के कहा कि कुछ लोग उसे जान से मारने के लिए घेरे हुए हैं.

पुलिस कंट्रोल रूम ने तुरंत इस बात की सूचना थाना राया पुलिस को दे दी तो इंसपेक्टर अनिल कुमार पुलिस बल के साथ अनोड़ा पहुंच गए. वहां सचमुच लोग सोनिया और रीना को घेरे हुए थे. दोनों को निकाल कर वह थाने ले आए, जहां से उन्होंने ही नहीं, दोनों लड़कियों के घर वालों ने भी उन्हें खूब समझाया.

लेकिन सोनिया और रीना, दोनों ही एकदूसरे के प्यार में इस कदर पागल थीं कि उन्होंने किसी की बात नहीं मानी. रामखिलाड़ी को तो कोई ऐतराज नहीं था, लेकिन रीना के घर वाले ऐतराज होने के बावजूद कुछ नहीं कर पाए. क्योंकि रीना बालिग थी, वह अपनी मरजी से कहीं भी किसी के भी साथ रह सकती थी.

पुलिस ने जैसे ही कहा कि दोनों लड़कियां बालिग हैं, इसलिए वे अपनी मरजी से कहीं भी रह सकती हैं, सोनिया ने रीना का हाथ थामा और थाने से बाहर आ गई. उस का कहना है कि वह रीना से शादी कर के सारी जिंदगी उस के साथ रहेगी. वे किसी बच्चे को गोद ले लेंगी, जिस से उन का बच्चा भी हो जाएगा. रीना अपनी बीएससी की पढ़ाई पूरी करेगी. उस के बाद उसे जो करना होगा, वह करेगी. वे दोनों खुश हैं, बाकी न उन्हें समाज से कोई मतलब है, न घरपरिवार से.