कानून

राष्ट्रप्रेम थोपा नहीं जा सकता
धर्म ने व्यक्ति को अंधविश्वास व कर्मकांडों में बांध कर रखा है. उसे मजबूरन उन का पालन करना पड़ता है. लेकिन राष्ट्रप्रेम ऐसी भावना है जिसे धर्म की तरह जबरन थोपा नहीं जा सकता.