उत्तर प्रदेश के जिला फिरोजाबाद के थाना सिरसागंज का एक गांव है नगला नाथू. 23 अप्रैल, 2018 की रात 11 बजे गांव का ही एक आदमी गांव में आयोजित एक कार्यक्रम से दावत खा कर अपने घर जा रहा था.

जब वह मुन्नीलाल झा के घर के पास से गुजर रहा था तो उसे झाडि़यों में किसी लड़की के कराहने की आवाज सुनाई दी. उस ने पास जा कर देखा तो खून से लथपथ एक युवती कराह रही थी. उस व्यक्ति ने पूछा कौन है, लेकिन युवती की ओर से कोई जवाब नहीं आया.

उस व्यक्ति ने आसपास के लोगों को जानकारी दी, तो लोग अपनेअपने घरों से निकल आए. उन्होंने जब झाडि़यों में देखा तो वे उस लड़की को पहचान गए. वह मुन्नीलाल की 19 वर्षीय बेटी किरन थी.

जब लोगों ने मुन्नीलाल को यह सूचना देनी चाही तो देखा मुन्नीलाल के दरवाजे पर ताला लगा था. सभी परेशान थे कि किरन की यह हालत किस ने की है? उसी दौरान किसी ने इस की सूचना पुलिस को दे दी. कुछ ही देर में थानाप्रभारी सिरसागंज रविंद्र कुमार दुबे पुलिस टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंच गए.

पुलिस को किरन अपने घर के बाहर चबूतरे के कोने पर झाडि़यों में लहूलुहान अवस्था में तड़पती मिली. पुलिस किरन को उपचार के लिए सरकारी ट्रामा सेंटर फिरोजाबाद ले गई.

उस समय उस के परिवार का कोई भी व्यक्ति साथ नहीं था. केवल पड़ोस की एक महिला साथ थी. उस की हालत गंभीर थी, इसलिए डाक्टरों ने उसे आगरा के लिए रेफर कर दिया. लेकिन आगरा ले जाते समय रास्ते में ही किरन ने दम तोड़ दिया.

पुलिस ने चौकीदार राजकुमार की तरफ से भादंवि की धारा 302, 120बी के अंतर्गत रिपोर्ट दर्ज कर काररवाई शुरू कर दी. पुलिस को यह मामला औनर किलिंग का लग रहा था. थानाप्रभारी ने मामले की जानकारी एसएसपी डा. मनोज कुमार को दी तो वह भी मौके पर पहुंच गए. उन्होंने थानाप्रभारी को मृतका के घर वालों का पता लगाने के निर्देश दिए.

पुलिस ने किरन की लाश पोस्टमार्टम के लिए भेज दी. उस समय रिश्तेदारों की बात तो छोडि़ए, मोहल्ले का कोई भी व्यक्ति शव के पास नहीं था. लावारिस हालत में शव ऐसे ही पड़ा था.

काफी समय बाद मृतका की बड़ी बहन सीमा, जोकि विधवा है, के ससुराल वाले वहां आ गए. पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव उन के हवाले कर दिया. उन्होंने अपने गांव वरनाहल ले जा कर उस का अंतिम संस्कार कर दिया.

मुन्नीलाल और परिवार वालों को तलाशने के लिए एसएसपी मनोज कुमार ने पुलिस की 3 टीमों का गठन किया. एसपी (देहात) महेंद्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीमों ने संभावित स्थानों पर दबिश दी लेकिन उन का पता नहीं चला.

घटना के तीसरे दिन पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर मुन्नीलाल को करहल रोड पर स्थित दिहुली चौराहे के निकट से सीओ अजय चौहान और थानाप्रभारी रविंद्र कुमार दुबे ने हिरासत में ले लिया. वह फरार होने के लिए वहां किसी वाहन का इंतजार कर रहा था.

थाने ला कर जब उस से उस की बेटी किरन की हत्या के बारे में पूछताछ की गई तो उस ने कहा कि बेटी ने उस का जीना हराम कर दिया था. ऐसे हालात में उस के सामने यह कदम उठाने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था. अपनी बेटी की हत्या करने की उस ने जो कहानी बताई, इस प्रकार निकली.

गांव नगला नाथ निवासी मुन्नीलाल अहमदाबाद में प्राइवेट नौकरी करता था. उस की पत्नी की कई साल पहले मौत हो चुकी थी. मुन्नीलाल के 2 बेटियां सीमा व किरन और 3 बेटे गौरव, आकाश व राज थे. बड़े बेटे गौरव की मृत्यु पहले ही हो चुकी थी.

उस की विधवा पत्नी भी गांव में ही परिवार के साथ रहती है. बड़ी बेटी सीमा की शादी जिला मैनपुरी के गांव बरनाहल में हो गई थी. जब उस के बेटे बड़े हुए तो वह भी मजदूरी करने लगे. बेटों के काम करने पर घर का खर्चा आसानी से चलने लगा.

किरन जब जवान हुई तो उस के घर से कुछ दूर रहने वाले अवनीश से उसे प्यार हो गया. दोनों जब तक एकदूसरे को देख नहीं लेते, उन्हें चैन नहीं मिलता था. धीरेधीरे उन का प्यार परवान चढ़ने लगा.

वे चोरीछिपे मुलाकात भी करने लगे. हालांकि दोनों की जाति अलगअलग थी. इस के बावजूद उन्होंने शादी करने का फैसला कर लिया था. एक बार किरन ने उस से पूछा भी लिया, ‘‘अवनीश, वैसे मैं जातपांत में विश्वास नहीं करती, पर समाज से डर कर तुम मुझे कहीं भूल तो नहीं जाओगे?’’

इस पर अवनीश ने उस के होंठों पर हाथ रख कर उसे चुप कराते हुए कहा, ‘‘किरन, दो सच्चे प्रेमियों को मिलने से दुनिया की कोई ताकत नहीं रोक सकती. हमारे प्यार के बीच चाहे कितने भी व्यवधान आएं, मैं वादा करता हूं कि तुम्हारा हर तरह से साथ दूंगा. मैं जिंदगी भर तुम्हारा साथ नहीं छोड़ूंगा.’’

किरन और अवनीश अपने भावी जीवन के सपने देखते. जमाने से बेखबर वे अपने प्यार में मस्त रहते थे. पर गांवदेहात में प्यारमोहब्बत की बातें ज्यादा दिनों तक नहीं छिप पातीं. यदि किसी एक व्यक्ति को भी इस की भनक लग जाती है तो कानाफूसी से बात पूरे मोहल्ले में ही नहीं बल्कि गांव भर में फैल जाती है.

किसी तरह किरन के घर वालों को भी पता चल गया कि उस का अवनीश के साथ चक्कर चल रहा है. लिहाजा उस के पिता ने उसे समझाया कि वह उस लड़के से मिलनाजुलना बंद कर दे. पर उस के सिर पर तो प्यार का भूत सवार था. ऐसे में पिता के समझाने का उस पर कोई फर्क नहीं पड़ा.

उधर अवनीश के घर वालों ने भी उसे समझाया पर उस पर भी कोई असर नहीं हुआ. यानी दोनों की मुलाकातों का सिलसिला चलता रहा. वह पहले से अब ज्यादा सतर्क जरूर हो गए थे. मुन्नीलाल तो अहमदाबाद में काम करता था. वह कभीकभार घर आता था. किरन अपनी विधवा भाभी, भाई आकाश व राज के साथ रहती थी.

घर वालों की बंदिशें लगाने के बाद भी प्रेमी युगल छिपछिप कर मिलते रहे. उन के मिलने का यह सिलसिला निरंतर चलता रहा. इस के चलते दोनों परिवारों में तल्खी बढ़ती गई. 22 मार्च, 2018 को मुन्नीलाल गांव आया हुआ था. उस ने जब अवनीश को अपने घर के पास चक्कर काटते देखा तो उस का खून खौल उठा.

वह अवनीश को सबक सिखाना चाहता था, इसलिए उस ने किरन पर दबाव डाल कर थाना सिरसागंज में अवनीश, उस के 2 भाइयों चिंटू व धर्मवीर, जगदीश और मनीष के खिलाफ किरन के साथ छेड़छाड़ की रिपोर्ट दर्ज करा दी. घर वालों के दबाव में किरन ने रिपोर्ट तो लिखा दी, लेकिन उस ने आरोपियों के खिलाफ बयान नहीं दिया.

गांव वालों ने दोनों पक्षों में समझौता कराने का भरसक प्रयास किया, लेकिन मुन्नीलाल ने समझौता करने से साफ मना कर दिया. एक दिन किरन ने अवनीश से मुलाकात कर बता दिया कि उस के पिता ने रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए उसे मजबूर कर दिया था, पर वह अभी भी उस से प्यार करती है और करती रहेगी. यानी किरन का अपने प्रेमी से मिलना बंद नहीं हुआ.

किरन अवनीश से मिलती तो उस पर जल्दी शादी करने के लिए दबाव डालती. अवनीश ने कहा कि वह उस से शादी को तैयार है लेकिन जो मुकदमा लिखा दिया है, उसे वापस ले लो. इस के बाद किरन ने अपने घर वालों पर अवनीश के साथ शादी कराने का दबाव बनाना शुरू कर दिया.

चूंकि अवनीश दूसरी बिरादरी का था, इसलिए किरन के घर वालों ने साफ कह दिया कि उस के साथ शादी नहीं हो सकती. पर किरन अपनी जिद पर अड़ी रही. उस ने साफ कह दिया कि वह छेड़खानी के मुकदमे में अवनीश और उस के भाइयों के खिलाफ गवाही नहीं देगी और अगर अवनीश के साथ उस की शादी नहीं की तो वह अपनी जान दे देगी.

इस बात ने आग में घी का काम किया. मुन्नीलाल समझ गया कि किरन की जिद से मोहल्ले में उन की बदनामी हो रही है. तब उस ने अपने बेटे आकाश के साथ योजना बना कर एक खौफनाक निर्णय ले लिया. इसी बात को ले कर किरन का घटना की रात को पिता व भाई आकाश से काफी झगड़ा हुआ.

उस झगड़े में इश्क का जुनून किरन के सिर चढ़ कर बोलने लगा. उस ने इस बात की भी चिंता नहीं की कि उस का अंजाम क्या होगा. किरन के तेवर देख कर बापबेटे गुस्से में भर गए लेकिन उन्होंने उस समय उस से कुछ नहीं कहा.

रात को किरन जब चारपाई पर गहरी नींद में सो गई तो मुन्नीलाल ने उस पर कुल्हाड़ी से प्रहार किया. वह चीखी तो आकाश ने उसे ईंट से मारना शुरू किया.

कुल्हाड़ी और ईंट के वार से वह बेहोश हो गई. वह उसे चारपाई पर ही जलाना चाहते थे पर वह फिर से चीख पड़ी. कहीं पड़ोसी न आ जाएं, इसलिए उन्होंने उसे उठा कर बाहर चबूतरे के पास झाडि़यों में फेंक दिया और घर के सभी लोग ताला लगा कर फरार हो गए.

रात में गांव वालों ने किरन की चीखपुकार की आवाज सुनी तो उन्होंने सोचा कि मुन्नीलाल शायद किरन को पीट रहा है. क्योंकि किरन के किस्से की पूरे मोहल्ले को जानकारी थी. इस के कुछ देर बाद आवाज आनी बंद हो गई तो लगा कि उन का झगड़ा अब बंद हो गया है.

पुलिस ने मुन्नीलाल से पूछताछ के बाद उस के घर से खून सनी चारपाई व ईंट भी कब्जे में ले ली. बाद में मुन्नीलाल की निशानदेही पर कुल्हाड़ी भी बरामद हो गई. हत्या में शामिल उस के बेटे आकाश के बारे में जानकारी नहीं मिल सकी. पुलिस ने मुन्नीलाल से विस्तार से पूछताछ के बाद उसे न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया.

अवनीश की भाभी कविता ने बताया कि किरन शादी करने के लिए अवनीश पर दबाव डाल रही थी. उस से कहा गया कि हम शादी के लिए तैयार हैं, लेकिन पहले मामले में राजीनामा कर ले. लेकिन किरन का पिता राजीनामा नहीं होने दे रहा था. घटना वाले दिन अवनीश के घर वाले राजीनामे के लिए जब किरन को थाने ले जाने लगे तो मुन्नीलाल व उस का बेटा आकाश तैयार नहीं हुए.

कविता ने बताया कि घटना वाले दिन मुन्नीलाल दोपहर को यही कोई बारहएक बजे पटिया पर कुल्हाड़ी पैनी कर रहा था. इसे गांव के कई लोगों ने देखा था. लोग समझे कि लकड़ी काटने के लिए धार लगा रहा है. लेकिन क्या पता था कि वह अपनी बेटी को मारने के लिए धार लगा रहा था.

बहरहाल, झूठी शान दिखाने के चक्कर में मुन्नीलाल बेटी के कत्ल के आरोप में जेल चला गया और एक प्रेम कहानी का दर्दनाक अंत हो गया. कथा लिखे जाने तक आकाश को पुलिस गिरफ्तार नहीं कर सकी थी.

– कथा पुलिस सूत्रों पर आधारित