क्रयक्षमता तथा जीवनस्तर में वृद्धि के कारण वाहनों की संख्या में वृद्धि हो रही है, जबकि सड़कों की क्षमता स्थायी बनी हुई है. एक ओर तेज गति के सभी वाहनों का तीव्र उत्पादन तो दूसरी ओर सरकारी वाहनों की सड़कों पर भरमार. सब को जल्दी है तुरंत गंतव्य स्थान पर पहुंचने की. हम ठहरना नहीं चाहते. बस, दौड़ रहे हैं, दौड़े जा रहे हैं.

यह सही है कि अनेक बार नियमबद्ध, उचित एवं सही ढंग से वाहन चलाने पर भी दुर्घटनाएं हो जाती हैं. दूसरे की गलती का परिणाम किसी दूसरे को भुगतना पड़ता है. जल्दबाजी, लापरवाही, हड़बड़ाहट या सुरक्षा नियमों का पालन न करना दुर्घटनाओं के मुख्य कारण बन जाते हैं. यातायात आचार संहिता का पालन व्यक्तिगत तौर पर भी पूरी सतर्कता के साथ किया जाना चाहिए.

अनगिनत हादसे समाचारपत्रों में प्रकाशित होते हैं. 21 वर्षीय मोटरसाइकिल सवार का जोरदार ऐक्सिडैंट हुआ. बस उस के पैरों को कुचलते हुए निकल गई. जब उसे होश आया तो उस ने बताया कि वह अपनी सामान्य गति से मोटरसाइकिल चला रहा था कि उस के आगे चलती कार का दरवाजा खुला और किसी ने मुंह निकाल कर पीक थूकी. गाड़ी का अचानक दरवाजा खुलने से मोटरसाइकिल उस से टकरा गई. कुछ समझता या संभलता, इस से पहले ही संतुलन बिगड़ गया और साथ चलते वाहनों से टकराता हुआ पीछे आती बस के सामने गिर पड़ा.

बसचालक का जवाब था, ‘मैं ने बहुत कोशिश की उस मोटरसाइकिल सवार को बचाने की पर इतना ही कर पाया अन्यथा साइड और आगे के वाहनों तथा अन्य चालकों को भारी नुकसान हो सकता था. मुझे दुख हुआ कि उस के पैर नहीं रहे.’

कार का दरवाजा खोलना हो या कार से उतरना हो, दरवाजा खोलने से पहले पीछे नजर जरूर डालें कि कोई साइकिल, स्कूटर या कार आदि वाहन आ तो नहीं रहा है. इसी तरह किसी खड़ी हुई कार के पास से गुजरें तो 3-4 फुट के फासले से गुजरना चाहिए ताकि खड़ी कार का दरवाजा अचानक किसी कारणवश खुल भी जाए तो टकराना संभव न हो.

ऐसी अनेक अवांछित हरकतें हमें सड़कों पर होती नजर आती रहती हैं. दुपहिया या चौपहिया वाहन चलाते हुए कई बार देखा गया है कि चालक सिगरेट पीतेपीते सिगरेट की चिंगारी को उंगली से झिड़कते हैं. ऐसा करने वाले लोग भूल जाते हैं कि पीछे भी वाहन अथवा पैदलयात्री आ रहे हैं. हवा के झोंके से सिगरेट की चिंगारी के कण आंखों में अचानक घुस जाने से वाहनचालक का संतुलन बिगड़ जाता है और अनहोनी हो जाती है. इसी प्रकार खानेपीने के छिलके अथवा पैकेट चलती गाड़ी से बाहर सड़क पर फेंकना बुरी आदतों में से एक है.

कुछ ही समय पहले की बात है, एक महिला अपने बच्चे के साथ स्कूटी पर जा रही थी. राह चलते किसी ने बस में से चाट की प्लेट बाहर फेंकी. महिला के साथ 3 वर्षीय बालक था, वह प्लेट बच्चे के मुंह पर गिरी. आंख में मिर्च व चाट सामग्री गिरने से बच्चा अचानक उछल पड़ा, जिस से महिला के वाहन का संतुलन बिगड़ गया. दोनों गिर पड़े. बच्चे को भी सिर में चोट आई. महिला ने बस रुकवा कर लड़ाईझगड़ा किया. साथ ही, ट्रैफिक संचालन में बाधा उत्पन्न हुई, सो अलग.

एक तो गलत तरीके से वाहन चलाना और दूसरी ओर चालान काटने वाले पुलिस अधिकारी को देखा नहीं कि वाहन चालक के होश उड़ जाते हैं, पसीनेपसीने हो जाते हैं. चालान राशि व दुविधा से बचने के लिए कई लोग वाहन रफ्तार और तेज कर लेते हैं लेकिन अचानक सामने पुलिसकर्मी आगे खड़ा हो कर रास्ता यदि रोक भी लेता है तो भी हिम्मत तो देखिए, उस से बचने के लिए तुरंत ब्रेक लगा कर यूटर्न या गाड़ी विपरीत दिशा में मोड़ने का प्रयास दुर्घटना को आमंत्रण देना नहीं है तो और क्या है. ऐसी हरकतें खुद के वाहन का तथा अन्य राहगीरों का संतुलन बिगाड़ सकती हैं, कई वाहन आपस में भिड़ सकते हैं और लोग चोटिल हो सकते हैं.

रोड क्रौस करने, चलने व आगे बढ़ने की जल्दबाजी सभी को रहती है. प्रैजैंस औफ माइंड में रह कर वाहन चलाना चाहिए.

यह ठीक है चौपहिया या दुपहिया वाहन आप नियम व धैर्य से चला रहे हैं लेकिन आप के पीछे या सामने से आने वाले वाहनचालक को बहुत जल्दबाजी है और वह हौर्न पर हौर्न दे रहा है. तो घबराए नहीं, आप अपनी लेन में अपनी गति से वाहन चलाते रहिए, हड़बड़ाहट नहीं. आगे रास्ता खाली हो या नहीं, जल्दबाजी ठीक नहीं. हड़बड़ाहट से वाहन का संतुलन बिगड़ सकता है. रास्ता मिलने पर ही अपने वाहन को आगेपीछे या दाएंबाएं गति दें. किसी के दबाव में ऐसा कुछ न करें.

आगे चल रहे वाहन से आगे निकल कर जाना है तो रात्रि के समय हैडलाइट को जला और बुझा कर साइड के लिए आगे के चालक को संकेत दे सकते हैं. बिना हौर्न बजाए, साथ ही वाहन के बाईं तरफ से ओवरटेक न करें.

वाहनों के बीच गति व दूरी में अंतराल रखें क्योंकि आगे चलने वाले वाहनों के आगे कुछ भी अकस्मात स्थिति आने की संभावना हो सकती है. अचानक लगाई गई ब्रेक के फलस्वरूप पीछे आने वाली कितनी ही गाडि़यों को क्षति पहुंच सकती है. वाहनों से दूरी बनाए रखना इसलिए भी जरूरी है कि कभीकभी त्वरित ब्रेक लगाना आवश्यक हो जाता है. वाहन चलाते समय चौकन्ने रहें. हो सकता है कोई जानवर या व्यक्ति अचानक भागता हुआ सामने आ जाए.

इंडीकेटर देने पर भी पीछे आते वाहनों की गति कई बार कम नहीं होती. आप दाएं या बाएं मोड़ पर मुड़ रहे हैं तो साइड मिरर्स तथा व्यूमिरर खुला रखें तथा इन का उपयोग जरूर करें और पीछे आते वाहनों की गति को देखते हुए ही अपने वाहन को गति दें. हाथों का उपयोग कर सकते हैं और हाथों के इशारे से अपना रास्ता निकालें अन्यथा अन्य वाहन पर आप चढ़ जाएंगे और पीछे से भी भिडंत हो सकती है. घुमाव के दौरान गति धीरे कर के ही वाहन घुमाएं. बाईं तरफ से ओवरटेक नहीं किया जाना चाहिए. यदि वाहन नियंत्रित नहीं हो रहा है तो गीयर डाउन करें और हैंडब्रेक का इस्तेमाल करें. भूल कर भी ओवरटेक न करें. गलत ढंग से किए गए ओवरटेक से ही अधिकतम दुर्घटनाएं होती हैं.

अकस्मात स्थिति के दिखाई पड़ने पर सतर्क हो जाएं, रफ्तार कम कर गीयर बदल लें जिस से कि आवश्यकता पड़ने पर ब्रेक लगाने पर वाहन रुक सके. ब्रेक लगाने से पहले व्यूमिरर जरूर देख लें कि पीछे कोई वाहन सट कर तो नहीं चल रहा कि आप के ब्रेक लगाते ही उस के वाहन से आप का वाहन भिड़ जाए.

दुपहिया वाहन किसी चौपहिया वाहन के बिलकुल पीछेपीछे बीचोंबीच की स्थिति में न चलें क्योंकि हो सकता है कि चौपहिया वाहन आगे खड्डे या पानी से बच कर उस के ऊपर से गाड़ी निकाल रहा हो और वह सुरक्षित निकल भी जाए किंतु पीछेपीछे बीच में चलने वाला दुपहिया वाहन खड्डे अथवा पानी में गिर सकता है या फिसल सकता है.

रफ्तार से वाहन चला रहे हैं, सामने हरीबत्ती को पार करने की अतिशीघ्रता अनर्थ कर सकती है, किसी की जान भी ले सकती है या जान जा भी सकती है. चौराहा पार करने की जल्दबाजी में हरीबत्ती के बाद रुकने की चेतावनी पीली बत्ती को पार करना दुखदायी हो सकता है.

लालबत्ती पर वाहन रुकते हैं जिस से अन्य मार्गों के वाहनचालकों को समुचित रास्ता मिल सके. किंतु यह क्या कि नियमों का पालन तो किया, लालबत्ती पर रुक भी गए किंतु हरीबत्ती के दर्शन होने से पहले ही समय संकेत के खत्म होने से कुछ सैंकंड्स पूर्व ही वाहन को तेज गति से आगे बढ़ा लिया. यह उचित नहीं. जब आप ऐसा कर सकते हैं तो कोई और भी ऐसा कर सकता है. ऐसे में टक्कर लगने की संभावना रहती है. या दूसरे मार्गों के चालक पूरी तरह निकल कर जा भी नहीं चुके होते हैं और आप हैं कि रफ्तार से बिना हरीबत्ती का संकेत आए ही आगे निकल पड़े अथवा हरीबत्ती खत्म और रुकने के संकेत चिह्न की पीलीबत्ती पर भी आप वाहन तेज गति से ले जा रहे हैं तो ऐसे में आपस में वाहन भिड़ने की संभावना ज्यादा रहती है.

गलियों के बाहर या सड़क पर बच्चे या बड़ों द्वारा भी पटाखे फोड़े जाते हैं. ऐसा करना भी सड़क दुर्घटना का कारण बनता है.

सड़क पर बीचबीच में कुछकुछ दूरी पर स्पीडब्रेकर्स बने होते हैं. इन्हें हलके में न लें क्योंकि हर जगह स्पीडब्रेकर्स की डिजाइन, ऊंचाई, चौड़ाई तथा संकेत चिह्न भिन्नभिन्न होते हैं. तेज रफ्तार से वाहन गुजारने पर वाहन उछल सकता है या संतुलन बिगड़ सकता है.

ट्रैक्टर, जुगाड़ की आवाजाही अधिकतम रात्रि में ही होती है. ट्रैक्टर, जुगाड़ तथा ट्रालियों की बनावट आगे के हिस्से में संकरी तथा पीछे के हिस्से से चौड़ी होती है. रात में कभीकभी दुपहिया वाहन समझ कर भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है और दुर्घटना घटित हो जाती है.

लब्बोलुआब यह है कि वाहन चलाएं लेकिन सावधानी से. सभी चालकचालिकाएं अपने वाहनों को फिट रखें, ट्रैफिक नियमों का पूरी तरह से पालन करें क्योंकि दुर्घटना से देर भली.

सड़क पर धोखा

एक बार लालबत्ती होने के चलते गाड़ी रोके जाने पर अचानक एक आदमी कपड़ा ला कर कार का शीशा पोंछने लगा. वाहनचालक ने दाईं गेट का शीशा नीचे कर बहुत मना किया कि रहने दो. शीशा साफ मत करो. वह नहीं माना. वह यह बोल ही रहा था कि दूसरी ओर एक महिला और आ गई, भीख मांगने लगी. वे ही चुनेचुनाए जुमले, ‘सुबह से कुछ खाया नहीं, भूखी हूं, पति नहीं हैं, बच्चे बीमार हैं, कुछ पैसे दे दो.’ चालक झुंझला गया. वह औरत चुप ही नहीं हो रही थी. पीछे पड़ गई और उधर आदमी सामने वाला कांच पोंछता हुआ बाईं ओर का शीशा भी पोंछने लगा. चालक ने औरत की आवाज अनसुनी कर के बाईं ओर गेट का शीशा नीचे किया और जोर से डांटा, ‘सुनाई नहीं दे रहा क्या? नहीं पोंछनी है गाड़ी.’ पर, यह क्या, उधर उस आदमी को मना किया वह अब मान भी गया और इधर, औरत की आवाज के साथ औरत भी गायब. इतनी देर में हरीबत्ती हो गई. चालक दोनों शीशे ऊपर चढ़ा कर रवाना हुआ कि बीच चौराहे पर आतेआते अचानक ब्रेक लगा दिया, पीछे आते वाहन भी भिड़ गए. दोपहिए चालक गिर कर चोटिल हो गए. ट्रैफिक पुलिस वाले भी दौड़े आए. हौर्न पर हौर्न. पूरा चौराहा असंयमित वाहनों से घिर गया. चालक पुलिस वालों पर चिल्लाने लगा, ‘वो मेरा मोबाइल चुरा ले गई.’

सारी कथा का सारांश यही रहा कि ऐसे गिरोह के लोग ध्यान बंटा कर तुरंत अपराध कर डालते हैं. यह लालबत्ती पर मात्र 90 सैकंड में होने वाला अपराध था. बहुत ढूंढ़ा आसपास उस आदमी और भीख मांगने वाली औरत को, दूरदूर तक दोनों नहीं दिखे. सावधान रहें, दुर्घटना से बचें.

असावधानी से बचें सुरक्षित रहें

सही कपड़े पहनना भी सुरक्षा की दृष्टि से जरूरी है. एक कालेज गर्ल तेज रफ्तार से स्कूटर सड़क पर दौड़ा रही थी. सड़क करीबकरीब खाली थी. लड़की को अपना गला कसता हुआ महसूस हुआ. गले पर हाथ लगाया तो गला चुन्नी से कसता हुआ लगा. चूंकि उस की रफ्तार बहुत तेज थी, उस के द्वारा एक ओर ब्रेक लगाने की कोशिश और दूसरी ओर कसती हुई चुन्नी से कसते हुए गले से छूटने की कोशिश. कुछ भी नहीं संभला और वह धड़ाम से स्कूटर से फिसल गई. यह जिक्र करना आवश्यक नहीं कि उसे कितनी चोट आई.

इसी तरह वाहन चलाते समय मोबाइल पर बातों से ध्यान बंटाना आफत को बुलाना है. मोबाइल कान के नीचे दबा कर गरदन टेढ़ी कर के चाहे कितनी ही तकलीफ हो रही हो, सुनते भी रहना है और जवाब भी देते रहने से जानलेवा दुर्घटनाएं घट सकती हैं.

धर्म स्थान भी दुर्घटनाओं के जिम्मेदार हैं. आगे वाला तेज गति से वाहन चला रहा है. आप भी रफ्तार से उस के पीछे हैं और साइड के चालक भी अपने वाहन को गति दिए हुए हैं. किंतु आगे वाहन चालक अचानक गाड़ी को ब्रेक दे कर धीमा करता है और सड़क के किनारे स्थित मंदिर के सामने हाथ जोड़ देता है. यह क्या तरीका है, वाहन चलाते समय पीछे वालों का खयाल रखें.

हौर्न : मनचले युवक अजीबोगरीब ध्वनि पसंद करते हैं. वाहन के हौर्न की आवाज भयभीत कर देने या इतनी चौंकाने वाली होती है कि जब कोई वाहन ऐसे हौर्न को बजाता हुआ निकट से निकलता है तो करीब चलने वाले अचानक चौंक जाते हैं.

स्टंट : भीड़भड़ाके वाले स्थान स्टंट करने तथा करतब दिखाने के लिए नहीं हैं. ऐसा करने वाले खुद भी चोटिल होते हैं, दूसरों को भी करते हैं. सड़कों पर ऐसे प्रयोगों से अन्य चालकों का ध्यान बंटता है.

अपराध : दुपहिया या चारपहियों की गाड़ी चलाते समय खयाल रखें कि आभूषण या पर्स आदि का खुला प्रदर्शन न हो. चेन सड़क पर खींचने वाले अपराधी सड़कों पर आम घूमते हैं. चेन, पर्स या अन्य आभूषण आदि अचानक खिंचने के क्रम में वाहन का संतुलन बिगड़ जाता है.

जेब्रा क्रौसिंग : पैदल चलने वालों को सड़क के किनारे चलने का हक है. पैदलयात्री सड़क पार करते समय हरीबत्ती होने पर सड़क क्रौस न करें. हरीबत्ती नजर आते ही सभी को जल्दी होती है. अपनेअपने वाहन को त्वरित गति से आगे निकालने की होड़ में अवांछनीय दुर्घटना से बचें. खयाल रखें कि लालबत्ती पर ही या पदमार्ग अथवा जेब्रा क्रौसिंग से ही सड़क क्रौस करें.