इंडियन प्रीमियर लीग सिर्फ क्रिकेट का खेल ही नहीं है बल्कि अरबों की पिच पर खेला जाने वाला सट्टेबाज खिलाडि़यों का बड़ा खेल भी है. नुक्कड़, कसबों से ले कर क्लब, पब और सफेदपोशों के अड्डों पर चलने वाले इस हाइटैक और देशव्यापी खेल की अंदरूनी पड़ताल कर रहे हैं भारत भूषण श्रीवास्तव.

तारीख 18 अप्रैल, 2013. जगह मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल. भीड़भाड़ वाले न्यू मार्केट में आईडीबीआई बैंक के नीचे गुमटियों में से एक में पान की दुकान, जिस के सामने की तरफ टीटी नगर थाना है, के पास 10-12 लोगों की भीड़ लगी थी. ये लोग कुछ लेने नहीं बल्कि सट्टा लगाने के लिए खड़े थे. दुकान में ऊपर की तरफ छोटा सा टीवी लगा था जिस में आईपीएल का मैच चल रहा है. मुकाबला दिल्ली डेयरडेविल्स और चेन्नई सुपर किंग्स टीमों के बीच था.

सड़क पर से जो लोग गुजर रहे थे. उन में से कुछ का ध्यान इस भीड़ की तरफ जाता है पर माजरा किसी को समझ नहीं आता. नजदीक जाने पर पता चला कि सट्टे के शौकीन दीनदुनिया से बेखबर अंदाजा लगाने का अपना कुदरती शौक गैर कानूनी तरीके से पूरा कर रहे हैं.  इन में से शायद ही किसी को मालूम रहा होगा कि चेन्नई सुपर किंग्स और दिल्ली डेयरडेविल्स क्या बला हैं और इन के कप्तान और खिलाड़ी कौन हैं.

बौलर रनअप लेता है तो हलचल मच जाती है. एक नौजवान शर्ट की जेब से 10 रुपए का नोट निकाल कर दुकानदार को देते हुए कहता है, चौका. दूसरा 20 रुपए का नोट थमाते हुए कहता है, विकेट. तीसरा 10 रुपए का नोट दे कर कहता है, खाली. चौथा 5 रुपए का नोट देते हुए कहता है, छक्का. अब तक बौलर ने बौल फेंक दी है जिस पर कोई चौका, छक्का तो दूर एक रन भी नहीं बना, न ही विकेट गिरा.  दुकानदार तीसरे आदमी को 20 रुपए वापस दे देता है यानी 10 रुपए का लाभ. बाकी तीनों अफसोस से सिर मलते फिर गेंदबाज को वापस जाते देखते अपनी जेबें टटोलने लगते हैं और दुकानदार नोट पेटी में डाल लेता है.

आधा घंटे खड़े रहने पर मोटा सा हिसाब यह लगाया जा सकता है कि तकरीबन 4-5 हजार रुपए इधर से उधर हो चुके हैं.  दुकानदार को कोई घाटा नहीं हुआ है बल्कि उस ने 3 हजार रुपए के लगभग कमा लिए हैं. 1-2 लोग ही 1000-500 रुपए जीत पाए हैं. दांव हर गेंद के पर लगता है. जो जीतता है यानी जिस का अंदाजा सही निकलता है उसे दोगुने पैसे वापस मिल जाते हैं. जिन का अंदाजा गलत निकलता है उन का पैसा दुकानदार का हो जाता है. जिन की जेब बिलकुल खाली हो जाती है वे यहां से खिसक लेते हैं और जिन की जेब में पैसा है वे बदस्तूर पूरी तल्लीनता से दांव लगाते रहते हैं.

आसपास की गुमटियों में ग्राहक बैठे खापी रहे थे. कुछ गौर से इस सट्टे को देख रहे थे पर बोल कुछ नहीं रहे थे. एक चाय वाले से बात करने पर पता चला कि पान की यह दुकान सट्टे के लिए मशहूर है जिस का रोजाना 5 घंटे में लाख 2 लाख रुपए का कारोबार हो जाता है. कुरेदने पर सीहोर से भोपाल आ कर रह रहा यह चाय वाला बताता है कि सामने थाने वालों को सब मालूम है.

हकीकत में सट्टा न्यू मार्केट का ही एक बड़ा कारोबारी चलवाता है जिस की पुलिस वालों से सैटिंग है और अकेले इस दुकान पर नहीं बल्कि इस बाजार के चारों तरफ कई दुकानों पर सट्टा चलता है. सट्टा लगाने वाले अधिकतर लोग दिहाड़ी मजदूर, खोमचे वाले, आटो रिकशा ड्राइवर और छात्र होते हैं. कुछ तो रोजाना नियम से आते हैं, जो कभी हारते हैं तो कभी जीतते भी हैं.

हिसाबकिताब बेहद साफ है जितनी रकम अंदाजा लगाते हुए लगाई जाती है उस की दोगुनी उसी समय वापस मिल जाती है. गलत अंदाजे पर पैसा दुकानदार का हो जाता है.

देशभर में इंडियन प्रीमियर लीग पर चल रहे अरबोंखरबों के सट्टे की यह बेहद छोटी शक्ल है और दिलचस्प इस लिहाज से है कि इस में भाव नहीं खुलते. एक गेंद पर औसतन लोग 80 रुपए लगाते हैं जिस में से जीतने वाले को 20 या 30 रुपए मिल जाते हैं बाकी 50-60 रुपए दुकानदार के हो जाते हैं, जो हकीकत में किसी बिल्डर, प्रौपर्टी डीलर या बड़े कारोबारी या अफसर का एजेंट होता है.  पैसा रात को उन के घर पहुंच जाता है जिस का 20 फीसदी एजेंट यानी दुकानदार को मिलता है. इस में तमाम खर्चे शामिल रहते हैं.

दांव लगाने वाले सटोरियों में से अधिकतर पर्ची वाले सट्टे के आदी हैं जो कल्याण का सट्टा खेलते हैं पर क्रिकेट के सट्टे का मजा कुछ और है क्योंकि इस में हाथोंहाथ नतीजा सामने आ जाता है और बारबार दांव खेलने का भी मौका मिलता है.

पूरे भोपाल में ऐसी तकरीबन 1 हजार दुकानें हैं जहां आईपीएल का सट्टा चल रहा है. कुछ में खुलेआम तो कुछ में चोरीछिपे सट्टा लगता है. इस में जरूरी नहीं कि दांव लगाने वाला सामने आए, वह मोबाइल पर सट्टा लगाता है.  छोटेबड़े अफसर, कारोबारी और दूसरे सफेदपोश लोग भी आईपीएल सीजन 6 के सट्टे में बराबरी के भागीदार हैं.

देश का शायद ही कोई बड़ा शहर होगा जहां इस खेल पर सट्टा न लग रहा हो.  

आईपीएल के इस सीजन पर सिलीगुड़ी से एक बड़ा बैटिंग ग्रुप पुलिस के हत्थे चढ़ा. इसी की निशानदेही पर कोलकाता पुलिस की खुफिया टीम ने दक्षिण कोलकाता के भवानीपुर में दबिश दे कर और भी कई गिरफ्तारियां कीं. सिलीगुड़ी के पुलिस कमिश्नर के अनुसार, ये लोग सिलीगुड़ी में बैठ कर ईडन गार्डन में खेले जा रहे मैच की बैटिंग किया करते थे. क्योंकि कोलकाता में आईपीएल को ले कर पुलिस की चौकसी के मद्देनजर सट्टेबाज अपने ‘औपरेशन’ के लिए सिलीगुड़ी को ज्यादा मुफीद समझते थे इसीलिए उन्होंने बैटिंग के लिए सिलीगुड़ी को चुना. सट्टेबाजों ने इस के लिए बाकायदा एक रजिस्टर बनाया हुआ था और वे ‘फेवरिट’ टीम के लिए औनलाइन रेट जारी किया करते थे.

मध्य कोलकाता के बड़ा बाजार इलाके के एक सट्टेबाज के अनुसार, कालेज और विश्वविद्यालय के छात्रों में इन दिनों कम समय में ज्यादा पैसा कमाने के लालच को देखते हुए सट्टेबाज उन्हें सट्टेबाजी के काम में लगाया करते हैं. यहां तक कि सट्टे पर रकम लगाने और एक का चार बनाने के लालच में छात्र महल्ले के महाजनों से कर्ज लेने से भी नहीं कतरा रहे हैं. एकाध मामले में पाया गया कि कर्ज की रकम न लौटा पाने पर छात्र घर छोड़ कर चले गए.

मजेदार बात यह है कि पश्चिम बंगाल ही नहीं, पड़ोसी देश बंगलादेश में बैटिंग की धूम मची हुई है. गौरतलब है कि कोलकाता नाइट राइडर्स और पुणे वारियर्स में बंगलादेश के शकिब अलहसन और तमिम इकबाल शामिल हैं. वे खेल रहे हों या न खेल रहे हों, पर बंगलादेश के गलीचौराहे, रेस्तरां और चायपान की गुमटियों में धड़ल्ले से सट्टा चल रहा है. एक सटोरिए की जबान से इस की बानगी देखिए, ‘‘जैसा कि आप लोग जानते हैं कि आईपीएल चालू है. अब आईपीएल हो या इंटरनैशनल, सभी मैचों में सट्टा लगता है, यह भी आप को पता होगा. अगर आप को इस खेल में दिलचस्पी है तो आप भी इस में सट्टा लगा सकते हैं. जहां तक रूल का सवाल है तो आप अपनी टीम सिलैक्ट कीजिए और उस पर पैसा लगाइए. पैसा मतलब ऐक्टिव पौइंट. अगर आप की टीम जीत जाती है तो जितना ऐक्टिव पौइंट अपनी टीम में लगाया है, उस का डबल एक्टिव पौइंट आप को मिलेगा. यानी 100 के 200. 200 के 400. ऐक्टिव पौइंट की लिमिट है 200, जितने एक्टिव पौइंट्स लगाना चाहते हैं, उतने पौइंट्स एसएमएस के जरिए, ट्विटर या फेसबुक के जरिए भेज दीजिए. फेवरिट टीम लिखें, स्पेस डालें और फिर ऐक्टिव पौइंट डालें. गेम मैच शुरू होने के 1 घंटा पहले शुरू हो कर मैच खत्म होने तक चालू रहेगा.’’

सट्टे का खेल

अगर आंध्र प्रदेश की बात करें तो सट्टा महानगरों से अब छोटे शहरों तक पहुंच गया है. बदलते वक्त के अनुसार सटोरियों ने अत्याधुनिक तकनीकें भी अपनाई हैं. पुणे, दिल्ली में बैठ कर लैपटौप के जरिए हैदराबाद, विजयवाड़ा, विशाखापट्टनम जैसे नगरों में एजेंटों के माध्यम से इस धंधे को अंजाम दिया जाता है.

हैदराबाद में हर दिन सैकड़ों क्लब, रेस्तरां खुल रहे हैं. वैसे तो यहां क्लब, पब, रेस्तरां में बड़ी स्क्रीन पर मैच दिखाने का चलन पहले से है. ज्यादातर इन्ही जगहों पर ही करोड़ों रुपयों का सट्टा चलता है.

इस खेल में युवा और रियल एस्टेट के व्यापारी ज्यादा दिखाई देते हैं. यहां स्क्रीन शो, सट्टे के साथ अश्लील नाचगाना भी होता है. लेकिन स्थानीय पुलिस या सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठाती क्योंकि ज्यादातर क्लब और सट्टे के अड्डे राजनीतिक या सामाजिक क्षेत्रों में कनैक्शन रखने वालों के होते हैं. इसलिए इन पर पुलिस भी हाथ डालने की हिम्मत नहीं जुटा पाती. इन दिनों इस धंधे में मोबाइल तकनीक का उपयोग ज्यादा हो रहा है. सटोरियों ने इंटरनैट से सट्टा लगा कर पैसों का लेनदेन भी औनलाइन कर दिया है.

आंध्र प्रदेश में हर साल सैकड़ों सटोरिए गिरफ्तार किए जाते हैं. छापेमारी के दौरान इन से लाखों रुपए बरामद होते हैं.

इनकम टैक्स अधिकारियों के अनुसार विश्व कप सीजन में 20 हजार करोड़ रुपयों तक का सट्टा लगता है तो इस में हैदराबाद और बाकी आंध्र प्रदेश के छोटे शहरों की भागीदारी 2 हजार करोड़ तक की हो सकती है.

आधुनिक तकनीक से चल रहा यह सट्टा पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती है. हैदराबाद के डीसीपी इस बारे में कहते हैं कि कोई एक अड्डा है तो पुलिस उस पर नजर रख सकती है लेकिन लैपटौप और मोबाइल के जरिए चलने वाले सट्टे के इस धंधे पर रोक लगा पाना संभव नहीं दिखता.

भोपाल बस स्टैंड पर सट्टा खिलाने वाले एक एजेंट की मानें तो सट्टे का धंधा तकरीबन 60 अरब रुपए का है लेकिन आईपीएल में सट्टे के कारोबार का ठीकठाक आंकड़ा शायद ही कोई बता पाए. इस एजेंट के मुताबिक सब से ज्यादा सट्टा हैदराबाद में लगता है. इस के बाद अहमदाबाद, इंदौर और जयपुर आते हैं.  बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु और चेन्नई की बात अलग है वहां ज्यादातर लोग जीत हार पर दांव लगाते हैं.  

इस एजेंट के मुताबिक, आईपीएल सीजन 4 तक सट्टे का भाव मुंबई से आता था पर अब भोपाल जैसे शहर में ही सारा लेनदेन हो जाता है. पहले की तरह ‘उतारा’ यानी लाभ का हिस्सा इंदौर या मुंबई नहीं भेजना पड़ता. क्रिकेट का सट्टा अब झुग्गीझोंपडि़यों में भी लगने लगा है.  बड़े सटोरियों ने छोटे एजेंटों का जाल फैला दिया है जिन्हें खाईबाज कहा जाता है. इन लोगों का काम सट्टा लगवाना और इकट्ठा किया पैसा ‘सही जगह’ पहुंचाना होना है जिस के एवज में उन्हें रकम का इलाके के मुताबिक 6 से 12 फीसदी तक कमीशन मिलता है. लेनदेन में कोई बेईमानी नहीं करता.

यह ‘सही जगह’ कहां है, इस सवाल का जवाब किसी के पास नहीं. भोपाल के कारोबारी इलाके एमपी नगर के एक बड़े कारोबारी की मानें तो यह जगह शायद मुंबई होनी चाहिए पर पुर्तगाल और लंदन से भी लेनदेन होता है. इस कारोबारी का यह भी कहना है कि विदेशों की तरह हमारे यहां भी सट्टे को कानूनी मंजूरी मिल जाए तो इस से दलाली खत्म हो जाएगी.

दलाली खत्म हो न हो पर बात वाकई समझ से परे है कि सट्टे को जुर्म क्यों माना जाए और जुर्म है भी तो कितनों को सजा मिलती है. सटोरियों पर गैंबलिंग ऐक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज होता है जिन में वे जुर्माना दे कर छूट जाते हैं.

पुराने सटोरियों के बीच एक किस्सा बड़ी दिलचस्पी से चलन में है कि एक दफा सट्टा किंग रतन खत्री को प्रधानमंत्री रहते इंदिरा गांधी ने अपने पास बुला कर सट्टा बंद करने की गुजारिश की थी तो रतन खत्री ने तुरंत यह जवाब दिया कि आप सरकारी लौटरी बंद कर दीजिए, मैं सट्टा बंद कर दूंगा.

इस सच्चे या मनगढ़ंत किस्से में बात रतन खत्री की हाजिरजवाबी की कम सट्टे को ले कर कानूनी बेचारगी की ज्यादा समझ आती है. सरकार पैसा कमाने के लिए लौटरी चलाती है. उस का ही दूसरा रूप सट्टा है जो कानूनन जुर्म है. 

नंबर वाले सट्टे की तरह ही आईपीएल के सट्टे का भाव चंद मिनटों में देशभर में फैल जाता है. बढ़ती तकनीकी और साधनों के चलते अब दांव खेलने वालों का एजेंट या बुकी तक आना जरूरी नहीं रहा है. वे मोबाइल फोन पर सट्टा लगा सकते हैं. पैसों का लेनदेन कभी भी सहूलियत से हो जाता है.

ये हैं अड्डे

सट्टा खिलाना जितना आसान काम है उस से कहीं ज्यादा मुश्किल है सट्टा खिलाने के लिए महफूज जगह ढूंढ़ पाना.  सट्टे के खेल में आजकल बहुत ज्यादा भीड़ इकट्ठा नहीं होती क्योंकि यह हाईटैक हो गया है. मोबाइल और लैपटौप के जरिए महज 2 लोग करोड़ों का सट्टा संभाल सकते हैं.

मंझोले होटल सटोरियों की पसंदीदा जगह होते हैं जहां वे किराए पर कमरा ले कर इतमीनान से तमाम ऐशोआराम के बीच दांव लगवाते हैं और मैच खत्म होने के बाद हिसाबकिताब करते हैं.  पुलिस से बचने के लिए सटोरिए लगातार एक ही होटल में नहीं रहते बल्कि 2-4 दिन के अंतर से होटल बदल लेते हैं.  सटोरियों की दूसरी पसंदीदा जगह फार्म हाउस हैं जो आमतौर पर शहर से बाहर होते हैं.  आईपीएल के वक्त अंदाजा है कि देशभर में सटोरियों ने फार्म हाउस तगड़े भाड़े पर लिए. शहर से दूर पुलिस का खतरा कम रहता है और भीड़भाड़ भी नहीं रहती, इसलिए सटोरिए बेफिक्र रहते हैं.  भोपाल के ही एक पुलिस मुलाजिम की मानें तो बड़ी कंपनियों के दफ्तर व शोरूम में भी सट्टा लगता है.

भोपाल के सटोरियों ने नया रास्ता तलाशते हुए बड़ी गाडि़यों को इस का जरिया बनाया है. लंबीचौड़ी कारों में मोबाइल, लैपटौप और टीवी तक सटोरियों ने लगा रखे हैं. मैच शुरू होते ही ये सट्टा गाडि़यां हाइवे पर दौड़ना शुरू हो जाती हैं और मैच खत्म होने के बाद मुकाम पर वापस आ जाती हैं. पुलिस वालों को भनक भी नहीं लगती और करोड़ों का कारोबार हो जाता है. कार वाले सटोरिए कम आवाजाही वाली सड़कों को ज्यादा पसंद करते हैं जहां घंटा आधा घंटा कार बेखटके खड़ी भी की जा सकती हो. खानेपीने का तमाम सामान सटोरिए कार में रखते हैं.

अप्रैल के तीसरे हफ्ते में देशभर में दर्जनभर बड़े छापों में पकड़े गए सटोरियों में से अधिकतर होटलों में थे. दिल्ली सैंट्रल के डीसीपी आलोक कुमार की अगुआई में 17 अप्रैल को डाले गए एक छापे में 4 सटोरिए एक होटल से पकड़े गए थे.  इन सटोरियों से 3 लाख रुपए नकद के अलावा एक एलसीडी और 18 मोबाइल फोन जब्त किए गए थे.

तुलसीधर नाम का सटोरिया होटल का मैनेजर था. दूसरे 2 आरोपी, सुनील भारती और अरविंद कात्याल, जायदाद की खरीदफरोख्त का कारोबार करते हैं यानी प्रौपर्टी डीलर हैं.  ये लोग फोन पर सट्टे के भाव ले कर एजेंटों व पंटरों को बता रहे थे, एवज में उन्हें 6 फीसदी रकम मिल रही थी.  छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के टाटीबांध इलाके के एक होटल में छापा मार कर पुलिस ने 25 लाख रुपए बरामद किए. इस से पहले के छापों में भी इतनी ही नकदी पकड़ी गई थी.

रायपुर के छापे की एक दिलचस्प बात सटोरियों से एक सट्टा मशीन की भी जब्ती थी, जिसे खासतौर से सट्टे के लिए कंप्यूटर के माहिरों ने बनाया था. इस छोटी सी मशीन से दर्जनों मोबाइल फोन जुड़े रहते हैं. दिल्ली, छत्तीसगढ़ पर पड़े छापे इस बात की तस्दीक करते हैं कि सट्टे का यह खेल देश के हर कोने में चल रहा है. फिर चाहे वह बंगाल हो या आंध्र प्रदेश.

भाव का खेल

भोपाल की पान की दुकान और दिल्ली व रायपुर के होटलों के सटोरियों की गिरफ्तारी से एक बात और उजागर होती है कि आईपीएल 6 पर सट्टा 2 तरह से चल रहा है. पहला, भाव वाला और दूसरा, बिना भाव का, जो छोटी गुमटियों पर खेला जाता है.

भाव वाले सट्टे में भाव मैच शुरू होने के 2 घंटे पहले खुलता है और हर गेंद के साथ इस में उतारचढ़ाव आता रहता है.  सट्टे की भाषा के जानकार ही कारोबारी तरीके से सट्टा खेल पाते हैं, शौकिया खेलने वाले भी अपना दिमाग लगाते हैं.  जो टीम सब से कमजोर होती है उस का भाव सब से ज्यादा होता है. अभी तक कमजोर मानी जाने वाली टीमों का भाव 600 रुपए तक खुला है.

इस गेंद पर रन बनेगा, विकेट गिरेगा, चौका, छक्का पड़ेगा या 1, 2 व 3 रन बनेंगे, इन बातों पर भी दांव लगते हैं.  बौल, नो बौल होगी, इस पर भी लोग पैसा लगाते हैं. यानी एक गेंद ही करोड़ों की होती है तो सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि एक ओवर, एक मैच और पूरा आईपीएल कितने खरब रुपए का होगा.

सट्टा लगाने के आदी भोपाल के एक इंजीनियरिंग कालेज के छात्र की मानें तो सट्टा तो इस बात पर भी लगता है कि बल्लेबाज किस तरफ गेंद को खेलेगा औफ साइड में या औन साइड में, इस तरह के दांव में 1 के 4 रुपए मिलते हैं.

भाव भले ही मुंबई से आएं या मेलबौर्न, पुर्तगाल या लंदन से, हकीकत तो यह है कि भाव नाम की कोई चीज अब क्रिकेट के सट्टे में रही ही नहीं है.  अगर दांव लगाने वाला यह कहता है कि टीम ए जीतेगी तो उसे हजार के डेढ़ हजार रुपए ही मिलते हैं. हार जाए तो हजार रुपए डूब जाते हैं.

मजा हर गेंद वाले सट्टे पर आता है. इस पर ही दांव ज्यादा लग रहे हैं. मसलन, विराट कोहली, सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धौनी या क्रिस गेल जैसे धाकड़ बल्लेबाज क्रीज पर हों तो हर गेंद पर चौका लगने पर दांव लगता है जिस में दोगुने पैसे मिलते हैं. एक बल्लेबाज औसतन 30 गेंदें खेले तो औसतन 5 चौके ही मार पाता है. बाकी 25 गेंदों का पैसा खाईबाज की जेब में जाता है. यानी जोखिम का कोई रोल खाईबाजों के लिहाज से इस सट्टे में नहीं है.

कानून का जोर नहीं

आईपीएल 6 में देशभर में धड़ल्ले से खुलेआम सट्टा चल रहा है, जिस के बारे में कहा यह भी जाता है कि इसे बड़े उद्योगपति, अंडरवर्ल्ड के डौन और फिल्म वालों के अलावा खुद कुछ क्रिकेटर भी खिला रहे हैं.

आम लोगों की दिलचस्पी सट्टे में है. यह आम लोगों की अंदाजा लगाने की फितरत है जिस पर कानून का कोई जोर नहीं चलता. चूंकि सट्टा खिलाना जुर्म है इसलिए लोग पकड़े जाते हैं. बीते 30 सालों से क्रिकेट के सटोरिए पकड़े जा रहे हैं पर सट्टा बंद होने का नाम नहीं ले रहा, उलटे बढ़ता जा रहा है. अब तो औरतें भी इस में भागीदार हो चली हैं.

अरबों के सट्टे से फायदा दलालों, बुकियों और पैसे वालों को होता है. बड़ा हिस्सा पुलिस वालोें को भी मिल जाता है.

जब सट्टा लौटरी की तरह बंद नहीं हो सकता तो इसे कानूनी मंजूरी देने में हर्ज क्या है, इस सवाल पर सरकार को बेहद संजीदगी से विचार करना चाहिए विदेशों की तरह सट्टे को अगर लाइसैंसशुदा खेल बना दिया जाए तो उस से आमदनी सरकार की भी बढ़ेगी और कइयों को रोजगार भी मिलेगा. जब सरकार जुआघरों को लाइसैंस दे सकती है, घुड़दौड़ को मान्यता दे सकती है तो सट्टे को क्यों नहीं?

  -साथ में साधना शाह और जी कोटि रेड्डी