सरिता विशेष

लाइब्रेरी से तो आप परिचित होंगे ही, जो हमें जानकारी देने के साथसाथ हमारा ज्ञान बढ़ाने का काम करती है. आज जहां नैट खोलते ही किसी भी तरह की जानकारी आप के सामने हाजिर हो जाती है, इस के बावजूद लाइब्रेरी ने अपना महत्त्व नहीं खोया है और वह निरंतर ज्ञान बांट रही है.

वैसे तो जगह जगह लाइब्रेरी खुली हुई है. कई तो मोबाइल वैन द्वारा भी लाइब्रेरी का संचालन करते हैं और कई मिशन भी इस से जुड़े हुए हैं जो जगह जगह लाइब्रेरी खोल कर ज्ञान का प्रचार प्रसार कर रहे हैं. लेकिन जहां मोबाइल वैन का आप के मुहल्ले में आने का निश्चित समय होता है वही स्थाई लाइब्रेरी का औफिशियल समय सुबह 9 से शाम 5 बजे या फिर सुबह 10 से शाम 6 बजे, जिस में आप वहां जा कर अपनी जरूरत की किताबें पढ़ने के साथसाथ अपने साथ भी ला सकते हैं. लेकिन सोचिए अगर आप को इस समय के बाद रात बे रात ज्ञान के इस स्त्रोत की जरूरत पड़े तब क्या होगा.

इसी संदर्भ में एक अनोखी पहल की है बीजिंग में. बीजिंग के चर्चित और ऐतिहासिक इलाके यांची टावर में अनोखी लाइबेरी खोली गई है जो 24×7 खुलती है1 यह पहली लाइब्रेरी है जो कभी बंद नहीं होती. इस का मकसद लोगों में घट रही पढ़ने की आदत का प्रोत्साहित करना है ताकि उन्हें जब कभी भी समय मिले वे वहां जा कर पढ़ सके. इस लाइब्रेरी में एंटीक किताबें, प्रसिद्ध उपन्यास, बच्चों की किताबें खासतौर पर उपलब्ध कराई गई है. यहां पर हर समय चहलपहल रहती है. युवा वर्ग व नौकरीपेशा यहां रात को अकसर दिखाई देते हैं. लोगों में भी इस लाइब्रेरी के प्रति खासा उत्साह देखने को मिल रहा है.

अब समय की बाधा नहीं

पहले जहां बीजिंग के लोग इस समस्या से परेशान थे कि जिस समय वे खाली होते थे या जिस समय उन का लाइब्रेरी में बैठ कर शांति से पढ़ने को दिल करता था उस समय लाइब्रेरी बंद हो जाती थी. ऐसे में उन की लाइब्रेरी में पढ़ने की इच्छा मन में ही दबी रह जाती थी. लेकिन इस लाइब्रेरी के खुलने से अब उन की इस प्रौब्लम का सौल्यूशन हो गया है. जब मन करा तब लाइब्रेरी में बैठ गए और शुरू कर दिया गहन अध्ययन. इस से अब समय की पाबंदी उन की पढ़ाई में बाधा उत्पन्न नहीं कर पा रही है.

लाइब्रेरी का महत्त्व

लाइब्रेरी का महत्त्व आज से नहीं बल्कि काफी समय पहले से है. क्योंकि यहां हमें हर तरह की व हर राइटर की किताबें बड़ी आसानी से मिल जाती हैं, जिस के लिए हमें मार्केट में काफी चक्कर लगाने पड़ते हैं और साथ ही उस किबात की पूरी कौस्ट दुकानदार को देनी पड़ती है जबकि लाइब्रेरी में ऐसा नहीं है. वहां आप का आईडी बनता है और कुछ सिक्योरिटी जमा होती है, जिस के आधार पर आप जो किताब लेना चाहते हैं वो आप को आसानी से मिल जाती है. जिस से आप का काम भी चल जाता है और पौकेट पर दबाव भी नहीं पड़ता.

यहां तक कि स्कूल और कालेज में होने वाली लाइब्रेरी में छात्र एक ही विषय पर तरहतरह की बुक्स पढ़ कर अपना एकैडमिक रिजल्ट भी सुधार सकता है. कुल मिला कर लाइब्रेरी का जितना महत्त्व गिनवाया जाए कम ही होगा.

लाइब्रेरी वर्सेज डिजिटल लाइब्रेरी

भले ही आज डिजिटल युग होने के कारण डिजिटल लाइब्रेरी बढ़ रही हैं लेकिन यह किसी भी कीमत पर ऐक्चुअल लाइब्रेरी पर भारी नहीं है. क्योंकि डिजिटल लाइब्रेरी का स्त्रोत और प्रमाणिकता नहीं होती. वहां स्क्रीन पर जो जानकारी हमारे सामने आती है उस में व्याकरण की ढेरों त्रुटियां होने के साथासथ पूरे के पूरे वाक्य भी एकदूसरे से सही ढंग से जुड़े नहीं होते हैं और कई बार तो कंपोजिंग की गलती के कारण अर्थ का अनर्थ हो जाता है.

लेकिन लाइब्रेरी में लिखी किताबों की प्रमाणिकता होती है. हम एक ही विषय पर लिखी विभिन्न लेखकों की पुस्तकों की तुलना कर सकते हैं और इस में गलती की संभावना भी बहुत कम होती है क्योंकि प्रकाशित होने से पहले किताब कई हाथों से गुजरती है. साथ ही डिजिटल लाइब्रेरी में किताबें किलक करने पर आती हैं, जिस से हमें अगर कोई किताब पसंद आती है लेकिन हम दूसरी किताबें ढूंढ़ने के चक्कर में लग जाते हैं तो जो किताब पसंद आई होती है उसे दोबारा ढूंढ़ने में मुश्किल होती है जबकि लाइब्रेरी में हमें हर चीज सिस्टम से मिल जाती है.

कुछ प्रमुख लाइब्रेरी

दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी

आप इस लाइब्रेरी का मामूली सा शुल्क दे कर मैंबर बन सकते हैं. इस की दिल्ली में अधिकांश जगहों पर ब्रांचेज हैं और इस के अलावा इस की मोबाइल वैन भी चलती है. यहां पर 16 लाख से भी अधिक किताबें विभिन्न भाषाओं में उपलब्ध हैं.

ब्रिटिश काउंसिल लाइब्रेरी इंडिया

इस लाइब्रेरी में 85,000 औनलाइन एकैडमिक बुक्स और 14,000 ई जर्नल्स की सुविधा उपलब्ध है. इस का मैंबर बनने के बाद आप को इन के द्वारा आयोजित होने वाले सेमिनार, वर्कशौपि आदि में भी इंवाइट किया जाता है.

इंडिया हैबिटेट सैंटर

यहलाइब्रेरी अत्याधुनिक साधनों से लबरेज है जहां पर आप न्यूजपेपर, इलैकट्रौनिक न्यूजपेपर, इंटरनैट, बुक्स आदि सभी का लुत्फ उठा सकते हैं.

साहित्य कला अकादमी लाइब्रेरी

यहां पर आप को अधिकांश लेखकों की अधिकांश किताबें मिल जाएंगी. यहां पर आप को 22 भाषाओं से अधिक में किताबें मिल जाएंगी, जिस से शोध करने वाले छात्रों को काफी लाभ होगा. यहां स्कैनिंग और फोटोकौपी की भी सुविधा रहती है.

द अमेरिकन लाइब्रेरी

इस लाइब्रेरी में कोई भी आ कर पढ़ सकता है लेकिन जिन्होंने मैंबरशिप ले रखी है उन्हें किताबें इश्यू करवाने की भी सुविधा है. यहां आप फ्री वाईफाई का भी लुत्फ उठा सकते हैं.

इसी तरह हर शहर के स्कूल, कालेज में अलग से लाइब्रेरी होती हैं, कुछ रैजिडैंट वैलफेयर एसोसिएशन भी अपनी लाइब्रेरी चलाते हैं. अगर इस तरह से पहल की जाए तो पढ़ने की हैबिट को बढ़ाया जा सकता है.