सरिता विशेष

अकसर युवक यही सोचते हैं कि अगर युवतियां उन्हें देख कर हंस दी हैं तो इस का मतलब उन की तो निकल पड़ी यानी लड़की की हंसी का सीधा मतलब फंसी से है. भले ही लड़की ने उसे दोस्ती का हाथ बढ़ाने के लिए स्माइल दी हो लेकिन उस का दिमाग तो इसे गलत सिगनल ही समझता है. एक अध्ययन के जरिए साबित हुआ है कि यह बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि पुरुष का दिमाग किस तरह विकसित हुआ है. जो युवक पौर्न साइट्स ज्यादा देखते हैं उन का युवतियों को देखने का नजरिया थोड़ा अलग होता है.

इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि पुरुष महिलाओं को देख कर तुरंत आकर्षित हो जाते हैं और उन से अपने रिश्ते को गंभीर बनाने के लिए न सिर्फ अपना समय बल्कि पैसा लगाने से भी गुरेज नहीं करते. बस उन के हाथ से प्रेमिका नहीं निकलनी चाहिए. नार्वे यूनिवर्सिटी औफ साइंस ऐंड टैक्नोलौजी की रिसर्च में यह साबित हुआ है कि जिन महिलाओं ने पुरुषों के साथ दोस्ताना व्यवहार किया उन्हें अकसर सैक्सुअल नजर से ही देखा गया यानी उन के लिए महिला की दोस्ती का मतलब फंसी व सैक्स से ही होता है.