यह जरूरी नहीं कि युवक युवती की दोस्ती को हमेशा शक भरी नजरों से ही देखा जाए. अब समय बदल गया है, लोग समझते हैं कि जिस तरह 2 युवतियां अच्छी दोस्त हो सकती हैं उसी तरह एक युवक और युवती भी अच्छे दोस्त हो सकते हैं.

यह जरूरी नहीं कि उन के बीच कुछ चल ही रहा हो. ऐसे संबंधों में भावनाएं तो होती हैं, पर सैक्स के लिए कोई जगह नहीं होती बल्कि एकदूसरे के प्रति सम्मान होता है. यह रिश्ता इतना पवित्र होता है कि परिवार और दुनिया को ऐक्सैप्ट करना ही होगा, लेकिन इस के लिए थोड़े प्रयास आप को खुद भी करने होंगे ताकि लोग आप के रिश्ते की सचाई को जान सकें, आइए जानें कैसे :

अपने दोस्तों के बीच उसे भी जगह दें

जिस तरह आप के अन्य दोस्त हैं वैसे ही एक दोस्त वह भी है, क्योंकि वह युवक है इसलिए उसे बाकी दोस्तों से अलग न रखें बल्कि अपनी सभी फीमेल दोस्तों से भी उसे मिलवाएं और उन के बीच जगह दें. उन्हें अच्छी तरह समझा दें कि वह भी उस का सिर्फ एक दोस्त है ताकि कोई उसे ले कर आप को चिढ़ाए या फबतियां न कसे, बल्कि उसे आप का अच्छा दोस्त ही समझे.

आजकल फीमेल का मेल फ्रैंड होना और मेल की बैस्ट फ्रैंड फीमेल होना आम बात है, पर इस का मतलब यह कतई नहीं है कि जैंडर अलग होने से उन के बीच कुछ है. अगर कोई ऐसा सोचता है तो यह सोच गलत है और इसे आप को ही बदलना है.  इस की शुरुआत आप अपने दोस्तों से करें और उन्हें अपने और साथी के गहरे और प्यारे से रिश्ते का सच बताएं.

अपनी फैमिली का पार्ट बनाएं

यह बात आप की फैमिली पर भी लागू होती है. अपने साथी को अपनी फैमिली और रिश्तेदारी से बिंदास मिलवाएं और उन्हें बताएं कि आप के बीच कितना प्यारा सा रिश्ता है और आप दोनों इस रिश्ते की सीमाएं भी जानते हैं. जब आप इस तरह फैमिली में बात करेंगी तो वे समझेंगे कि जिस तरह किसी युवक से आप की दोस्ती है उसी तरह एक युवक से भी वह दोस्ती का प्यारा रिश्ता हो सकता है, इस में कुछ गलत नहीं है. दोस्त तो दोस्त होता है फिर चाहे वह युवक हो या युवती. इसलिए उसे अपने सभी फैमिली फंक्शंस में बुलाएं.

शौपिंग पर बेझिझक जाएं

पड़ोस वाली आंटी ने देख लिया तो क्या होगा? कई बार युवतियों को इस तरह की परवा बहुत होती है. भले ही दोनों के बीच कुछ न हो, लेकिन लोगों से ऐसे डरते हैं मानो दुनिया का सब से बड़ा अफेयर उन दोनों के बीच ही चल रहा हो. अगर आप दोनों एकसाथ शौपिंग कर भी रहे हैं और किसी जानने वाले ने देख लिया तो डरें नहीं. उन से छिपेंगे तो उन का शक और भी गहरा होगा इसलिए छिपने के बजाय पास जा कर उन्हें अपने दोस्त से मिलवाएं. आप के ऐसा करने पर उन के मन का शक निकल जाएगा, लेकिन अगर छिपाया तो कहानी बन जाएगी. अब यह आप पर है कि आप क्या करना चाहती हैं.

साथसाथ स्टडी करें

लाइब्रेरी की मैंबरशिप लें और साथसाथ पढ़ें. लेकिन एक लाइबे्ररी में मैंबरशिप लेने का मतलब यह नहीं है कि आप लोगों से बचबच कर अलगअलग सीटों पर बैठें. वहां एकदूसरे से स्टडी के बारे में भी सिर्फ मैसेज के थू्र बात करें. यह न सोचें कि लाइबे्ररियन आप दोनों के बारे में गलत न सोच ले. वह कुछ भी सोचे आप दोनों को पता है कि आप गलत नहीं हैं, इसलिए किसी से न डरें. एकदूसरे के घर पर भी पढ़ाई के लिए जा सकते हैं. अगर आप साथ में नोट्स अच्छे बना लेते हैं या फिर एकदूसरे को पढ़ाई में हैल्प कर सकते हैं तो बेझिझक हैल्प लें. यह बात अपने पेरैंट्स को भी बता दें कि आप एकसाथ अच्छा पढ़ पाते हैं.

परिवार के सामने उस से हर सजैशन बेबाक लें

अगर आप को लगता है कि वह आप की जिंदगी में इतनी अहमियत रखता है कि आप अपनी हर बात, हर फैसला उस से पूछ कर ही करती हैं, तो इस में कोई बुरी बात नहीं है. हम सभी अपने फैसले में किसी न किसी की राय लेना पसंद करते ही हैं और अगर वह राय साथी से ली जा रही है तो इस में कोई बुरी बात नहीं है. इसलिए यह राय छिप कर नहीं बल्कि अपने परिवार के सामने लें ताकि उन्हें पता चल जाए कि आप अपना फैसला उन से बात कर के ही लेंगी और आप दोनों के बीच इतनी अच्छी अंडरस्टैंडिंग और प्यार है कि एकदूसरे के लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा है, यह आप दोनों बखूबी जानते हैं.

लोगों की गलतफहमी भी दूर करें

अपने सच्चे प्यार को किसी के भी सामने गलत न साबित होने दें. फिर चाहे वह दोस्त, रिश्तेदार हों या परिवार वाले. अगर कोई आप के बारे में गलत सोच रहा है तो उस बात को यों ही न जाने दें कि जो सोचना है सोचे मुझे क्या फर्क पड़ता है. फर्क आप को नहीं तो आप के साथी को तो जरूर पड़ेगा. उस की इज्जत का खयाल रखना भी आप की ही जिम्मेदारी है इसलिए गलतफहमी को जल्दी से जल्दी दूर करें.

छिपाने के नुकसान

लोग गलत समझेंगे

अगर आप अपने प्यार को लोगों से छिपाएंगे और साथी से डरडर कर बात करेंगे तो लोगों को शक होगा कि दाल में जरूर कुछ काला है. अपनी बातों को इतना भी पर्सनल बना कर न रखें कि सामने वाले उसे अपने गौसिप का टौपिक ही बना लें. इसलिए अगर लोगों को आप के छिपाने की वजह से दाल में काला नजर आ रहा है तो उन्हें बताएं कि आप की दाल काली नहीं है और गौसिप करने वाले लोगों की दाल आप गलने ही नहीं देंगी, क्योंकि आप गलत नहीं हैं.

एक झूठ बोलना यानी हजार झूठ को न्योता देना

अगर आज आप अपने प्रेमी की असलियत छिपाने के लिए एक झूठ बोलेंगी तो कल उस से भी बड़ा झूठ बोलना पड़ेगा जैसे कि घर में झूठ बोल कर जाएंगी कि कालेज जा रही हूं और प्रेमी से मिलने पहुंच जाएंगी तो बाद में पता लगने पर आप से सौ सवाल किए जाएंगे, जिन से बचने के लिए आप और भी कई झूठ बोलेंगी और फिर इस जाल में ऐसी उलझेंगी कि निकलना मुश्किल हो जाएगा.

अगर प्रेमी से मिलने गई थी या उस से घंटों फोन पर बात कर भी रही थी तो इस में झूठ बोलने की क्या बात है. अपने घर वालों से हर बात शेयर करें.

खफा हम भी खफा तुम भी

इन सब बातों को ले कर आप दोनों के बीच दूरियां बढ़ेंगी. जब फैमिली और रिश्तेदारी, दोस्तों के बीच आप दोनों के रिश्ते को ले कर तनाव होगा तो उस का प्रभाव आप दोनों के रिश्ते पर पड़ना भी स्वाभाविक है. लोगों की बातों से आप इतना पक जाएंगे कि इस की खीज एकदूसरे पर उतारने से नहीं चूकेंगे. आप के बीच बातें कम होंगी और इस बात पर चर्चा ज्यादा होगी कि दोनों के रिश्ते को ले कर किस ने क्या कहा और वह बातचीत कब आप के बीच बहस का कारण बन गई, आप को पता भी नहीं चलेगा. इसलिए शुरू से ही अपने रिश्ते को फेयर रखें, ताकि किसी को बताने व छिपाने जैसी कोई नौबत ही न आए.

इनविजिबल पर्सनैलिटी हौरेबल है

सब को पता चल ही जाता है कि कोई तो है जिस से आप बातें करती हैं पर छिपाती हैं. न बताने पर लोग खुद ही अंदाजा लगा लेंगे कि आप दोनों का रिश्ता ऐसा है वैसा है. लोगों द्वारा खींची गई वह तसवीर हौरेबल हो जो आप को और साथी को बिलकुल पसंद नहीं आएगी, इस से तो बेहतर है कि आप खुद ही बता दें.

टांका भिड़ा रे अफवाहों के बाजार से

अगर आप कुछ नहीं बताएंगी तो लोगों की तो छोडि़ए, आप के अपने घर वाले ही समझने लगेंगे कि आप दोनों के बीच कुछ तो है और वे यह सोच कर संतुष्ट हो जाएंगे कि आगे चल कर आप उसी से शादी करेंगी इसलिए उन के रिश्ता देखने की जिम्मेदारी खत्म. अगर ऐसा हुआ तो नुकसान आप का ही है. बेवजह अफवाहों से भिड़ाया हुआ टांका कहीं गले न पड़ जाए.

कैरेक्टर पर भी उठने लगेंगे सवाल

आप दोनों के बीच दिल का संबंध है तन का नहीं, यह बात आप दोनों जानते हैं, लेकिन अगर जल्दी ही यह बात आप ने सभी लोगों को नहीं समझाई तो वे अपने हिसाब से कहानी तैयार कर लेंगे कि रातदिन साथ घूमतेफिरते हैं, हिल स्टेशन भी चले जाते हैं, कभी तो कुछ गलत हुआ ही होगा.

आखिर न्यू जनरेशन जो ठहरी. इन के लिए कुछ गलत नहीं है. ‘क्या जमाना आ गया है’, ‘कैसी लड़की है यह’ और भी न जाने क्याक्या सुनने को मिलेगा जो भविष्य में आप के कैरेक्टर पर भी प्रश्नचिह्न लगा सकता है.

फिर आप चाहे लोगों को लाख समझा लें, लेकिन बात हाथ से निकल जाएगी इसलिए जल्दी ही इस बात को स्पष्ट कर दें कि साथी और आप का क्या और कैसा रिश्ता है ताकि लोगों को बोलने का मौका ही न मिले.