बोल्ड होना कोई दादागीरी या फिर रोब जमाना नहीं होता बल्कि अपने हक के लिए लड़ना, मुसीबत या बुरे समय में न घबराना और विपरीत परिस्थितियों को अपनी सूझबूझ से काबू करना होता है. दूसरे शब्दों में कहें तो बोल्डनैस स्मार्टनैस है यानी कि कठिन सिचुऐशन को पैनिक हुए बिना कौन्फिडैंस के साथ हैंडिल करना ही बोल्डनैस है. आइए, जानें हम कहां और कैसे बोल्ड हो सकते हैं :

गर्लफ्रैंड या बौयफ्रैंड से ब्रेकअप होने के बाद

गर्लफ्रैंड या बौयफ्रैंड से ब्रेकअप होने के बाद युवाओं की दुनिया ही बदल जाती है. उन का किसी भी काम में मन नहीं लगता, वे तनाव महसूस करते हैं व लोगों से कटेकटे से रहने लाते हैं. इस से आसपास का माहौल भी खराब होता है. लोग ऐसे लोगों से बात करने में कतराते हैं और उसे बेचारा समझ कर दया की नजर से देखते हैं.

लेकिन अगर ब्रेकअप के बाद आप को बेचारा नहीं बनना तो ब्रेकअप को बोल्डली हैंडिल करें. अगर आप का ब्रेकअप हो गया है तो उसे जिंदगी का अंत नहीं बल्कि जिंदगी की नई शुरुआत के तौर पर देखें. जिस तरह आप ने फ्रैंडशिप होने पर सैलिब्रेट किया था उसी तरह ब्रेकअप को भी सैलिब्रेट कर के अलग हों, ब्रेकअप के बाद एकदूसरे के दुश्मन नहीं बल्कि दोस्त की तरह रहें. ऐक्स की जिंदगी में अगर कोई और आ जाता है तो उसे मुबारकबाद दें और खुद भी आगे बढ़ जाएं. आसपास के लोगों को भी यह बता दें कि यह आप के जीवन की कोई दुखद घटना नहीं है बल्कि लाइफ का एक फेस है जिसे ऐक्सैप्ट करते हुए आप आगे बढ़ रहे हैं.

नशे की लत

मजेमजे में एकाध बार दोस्तों के साथ नशा करने पर आप को पता ही नहीं चला कि कब उस की लत लग गई, उस की वजह से घर में मम्मी, पापा, बहन सब परेशान हैं. लेकिन आप को परेशान नहीं होना है और उन्हें कौन्फिडैंस के साथ कहना है कि अगर लत लग गई है तो क्या हुआ इसे छोड़ा भी जा सकता है. इसे एक बीमारी की तरह लें और उस का इलाज कराएं. योगा और अन्य उन सभी चीजों का इस्तेमाल करें जो नशे की लत को छुड़ाने में मददगार साबित हों. जब आप खुद अपने लिए इस तरह के स्टैंड लेंगे तो घर के लोगों और दोस्तों को भी आप पर विश्वास होगा और वे खुद हिम्मत हारने के बजाय इस में आप का साथ देंगे.

कैब में गड़बड़ होने पर

अगर आप कैब से सफर कर रहे हैं और आप को लगता है कि कैब ड्राइवर गलत है, उस के इरादे ठीक नहीं हैं या वह आप को अनजानसुनसान रास्तों से ले जा रहा है और उस के 1-2 साथी भी कैब में बैठे हैं तो उस सिचुऐशन को बोल्डली हैंडिल करें.

घबराएं नहीं और कैब ड्राइवर को यह एहसास न होने दें कि आप डर रही हैं बल्कि कौन्फिडैंटली उसे कहें कि आप इस रास्ते से नहीं जाना चाहतीं, आप उसे रास्ता खुद बताएंगी. साथ ही अपने घर वालों को तुरंत गाड़ी का नंबर आदि उस के सामने ही बताएं कि आप इस नंबर की गाड़ी से घर आ रही हैं.

जहां से कैब बुलाई है उस कंपनी में बात करें. जब उन्हें लगेगा कि आप डर नहीं रही हैं, तो उन की आधी हिम्मत तो वैसे ही टूट जाएगी. अगर फिर भी खतरा लगे और किसी भी रैड लाइट पर गाड़ी रुके तो किसी को बिना कुछ कहे तुरंत गाड़ी से उतर जाएं और कैब कंपनी व पुलिस को इस की शिकायत करें.

यदि इस पूरे मामले को आप बिना डरे, समझदारी और कौन्फिडैंस के साथ निबटाएंगी तो सुरक्षित बच निकलेंगी. यह न सोचें कि आप फंस गई हैं बल्कि यह सोचें कि इस स्थिति से निकलने का एक मौका तो है ही आप के पास और इस में आप सफल भी होंगी. यह सोचते ही आप को आसपास का वातावरण अपने पक्ष में लगने लगेगा.

नंबर कम आने पर

अगर आप के नंबर कम आए हैं और  किसी अच्छे कालेज में ऐडमिशन होने की उम्मीद भी नहीं बची है, तो ऐसे में हिम्मत हारने के बजाय ठंडे दिमाग से यह सोचें कि क्या कालेज में ऐडमिशन मिलना ही आखिरी रास्ता है या फिर आप अपनी जिंदगी में कुछ और चाहते हैं. एक बार फिर खुद को टटोलें कि कहीं आप की बिजनैस करने की इच्छा तो नहीं है. अगर ऐसा है तो अब अपने पेरैंट्स को बोल्डली बताएं कि नंबर कम आने की वजह ही यही है कि आप को पढ़ाई में रुचि नहीं है. अपनी लाइफ के लिए आप ने कुछ और ही सोचा हुआ है और उस में आप को सफलता जरूर मिलेगी, इसलिए इन नंबरों से कोई फर्क नहीं पड़ता. लेकिन अगर ऐसा नहीं है तो भी जो हुआ सो हुआ.  कालेज में ऐडमिशन नहीं मिल रहा है तो कोई बात नहीं बाकी औप्शंस के बारे में सोचें और प्रोफैशनल कोर्सेज के बारे में पता करें और पेरैंट्स को बताएं कि आप को यह बेहतर लग रहा है.

नई जौब मिलने पर

नई जौब में बिंदास रहें. जो काम नहीं आता है उस के लिए घबराएं नहीं बल्कि उसे सीखें. अपने आसपास के लोगों को यह बिलकुल भी जाहिर न होने दें कि आप नए हैं और आप को यह काम नहीं आता है बल्कि उन्हें बताएं और दिखाएं कि आप अपने काम को ले कर पूरी तरह कौन्फिडैंट हैं और आप सब कर सकते हैं बस, मौका मिलने की देर है. आगे बढ़ कर काम को अपने हाथ में लें और उसे समय पर पूरा कर अपनी एक अलग पहचान बनाएं.

चोरों के चंगुल में फंसने पर

अगर कभी रास्ते में गाड़ी रुकवा कर कोई आप को लूटने की कोशिश करे तो घबराएं नहीं बल्कि हिम्मत से सामना करें.इसी तरह अगर घर में चोर घुस जाएं तो घबराए बिना पहले यह देखें कि उन की संख्या कितनी है और क्या परिवार के सभी लोग मिल कर उन पर काबू पा सकेंगे. हमेशा याद रखें कि आप की संख्या यदि उन से अधिक है तो आप उन्हें आसानी से काबू कर लेंगे बस, हिम्मत का परिचय देना होगा और मन में विश्वास रखना होगा.

ईव टीजिंग का शिकार होने पर

कालेज हो, बस हो या फिर मार्केट हर जगह ऐसे लोग मिल ही जाते हैं जो अश्लील टिप्पणियां करने से बाज नहीं आते. लेकिन यह भी सच है कि वे उन्हीं युवतियों पर ज्यादा फबतियां कसते हैं जो उन की बातें सुनती हैं, बरदाश्त करती हैं और उन से डर कर अपना रास्ता बदलने की कोशिश करती हैं. अगर आप के साथ भी ऐसा हो तो डरें नहीं बल्कि उस का डट कर सामना करें. उन की बातों का जवाब दें और आसपास के लोगों को एकत्रित कर के उन की हरकतों के बारे में बताएं. तुरंत पुलिस को भी सूचित करें. आप का यह जोश देख कर पास खड़े लोग भी मदद के लिए जरूर आएंगे इसलिए ऐसे लोगों से डरें नहीं बल्कि तुरंत उन की शिकायत करें और उस का हल निकालें. रास्ता बदल देना समस्या का समाधान नहीं है बल्कि उसे जड़ से खत्म करना होगा.