सवाल
मेरी फैमिली काफी रिच थी, लेकिन बिजनैस में घाटा होने से हम अब गरीबी में जी रहे हैं, जिस से मेरे पापा काफी डिप्रैस्ड हो गए हैं. मम्मी उन्हें काफी समझाती हैं, लेकिन उन की समझ में कुछ नहीं आता. मैं अपने मम्मीपापा की इकलौती संतान हूं. हमारे रिश्तेदार हमारी कोई मदद नहीं करते. उन की हरकतों से तो ऐसा लगता है कि जैसे उन्हें हमें ऐसी हालत में देख कर खुशी मिलती है. आप ही बताएं कि मैं अपने परिवार को इस स्थिति से कैसे उबारूं?

जवाब
जीवन में उतारचढ़ाव आते रहते हैं और जो इन्हें ऐक्सैप्ट करता है उन्हें ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ता. आप के पापा ने कड़ी मेहनत से अपना बिजनैस सैटिल किया, लेकिन वे बिजनैस में मिले घाटे को एैक्सैप्ट न करने की वजह से मानसिक रूप से परेशान हो रहे हैं. ऐसे में आप मिल कर उन्हें समझाएं कि समय एकजैसा कभी नहीं रहता और अगर हम हिम्मत से आगे बढ़ेंगे तो यह समय भी कट जाएगा. और रही बात रिश्तेदारों की, तो उन की पहचान दुख की घड़ी में ही होती है, इसलिए इस की परवा न करें और एकदूसरे का सहारा बनें.

COMMENT