सरिता विशेष

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कुंवारा बताने के बयान पर मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन अब घिरती नजर आ रहीं हैं. गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के हरदा जिले के टिमरनी कस्बे के एक सरकारी कार्यक्रम में आनंदीबेन ने सार्वजनिक रूप से यह कहा था कि नरेंद्र भाई ने कभी शादी ही नहीं की.

इस झूठे बयान पर सभी को हैरानी हुई थी लेकिन जसोदाबेन का तिलमिलाना स्वाभाविक बात है. आनंदीबेन पर बिना उनका नाम लिए तंज कसते जसोदाबेन ने कहा है कि एक पढ़ी लिखी महिला द्वारा इस तरह एक टीचर यानि जसोदाबेन के बारे में ऐसा कहना बिलकुल अनुचित है, इससे प्रधानमंत्री की छवि को भी नुकसान पहुंचा है.

बकौल जसोदाबेन वे यानि नरेंद्र मोदी उनके लिए आदरणीय हैं, वह उनके लिए राम हैं. कम हैरानी की बात नहीं कि जसोदाबेन को यह बात दोहराने मजबूर होना पड़ा कि उनकी और नरेंद्र मोदी की शादी की बात खुद मोदी ने साल 2014 के लोकसभा चुनाव के पेपर फाइल करते वक्त दर्ज कराई थी और वहैसियत पत्नी जसोदाबेन का जिक्र किया था. असल में जसोदाबेन उस जमाने की पत्नी हैं, जब पति चाहे भला हो या बुरा हो, पर मेरा पति मेरा देवता है.

अपने भाई अशोक मोदी के मोबाइल फोन से जसोदाबेन ने एक वीडियो बनाकर वायरल किया है, जिसमें वे आनंदीबेन के बयान का खंडन करती नजर आ रहीं हैं. कोई शक न रहे इसलिए खुद नरेंद्र मोदी के साले अशोक मोदी ने इस बात की पुष्टि की है कि वीडियो में नजर आ रही महिला उनकी बहन जसोदाबेन ही हैं. अशोक मोदी का कहना है कि जब मीडिया के जरिये आनंदीबेन का बयान वायरल हुआ तो उन्होंने इसका जबाब देने का फैसला किया.

सोशल मीडिया पर हो रही इस बयानबाजी से वाकई नरेंद्र मोदी की इमेज खराब हो रही है, जो नहीं चाहते कि उनकी शादी और पत्नी का जिक्र हो, लेकिन इस बार उन्हें उनकी ही चहेती नेत्री आनंदीबेन ने दिक्कत में डाल दिया है. तय है वे इस मसले पर खामोश ही रहेंगे, लेकिन जसोदाबेन जैसी पतिव्रता का दिल दुखाकर आनंदीबेन को क्या हासिल हुआ और उन्होंने यह बयान क्यों दिया, यह जरूर सस्पेंस वाली बात है, क्योंकि न तो वे अपने बयान का खंडन कर रहीं हैं और न ही खेद व्यक्त कर रहीं हैं.