कविता

मखमल सी बांहों में...
By | 15 April 2017
शबनम शबनम बातें उस की…कलियोंकलियों किस्से हैं…कैसे बताऊं नाम मैं उस का…बागेबहारां जिस से है