कविता

वक्त फिसलता रहा
By | 17 May 2017
खिरमने बाजार में भी…तेरी आहटों का धोखा रहा…कुछ इस अदा से…दाएंबाएं गुजर गए.