कविता

शबाब पर चांद
By | 17 July 2017
आज फिर…चांद शबाब पर है…भीगेगी रात और…रुसवा होगी