कविता

लेट मेजर
By | 15 February 2017
लेट-जीव, अब लुप्त है, दूर है…गहरी, तीव्र पीड़ा…अश्रु बन बहे नयन…मेजर का तमगा