कविता

नोटबंदी
By | 17 January 2017
हो हजार या नोट पांच सौ…रद्दी अब ये सारी है…थोड़े दिन की मुश्किल झेलो…ये फरमान सरकारी है