सरिता विशेष

फिल्म ‘‘उड़ता पंजाब’’ का ‘‘केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड’’ के संग जो विवाद हुआ और जिस तरह से यह फिल्म ‘‘मुंबई उच्च न्यायालय’’ के आदेश के बाद पारित होकर रिलीज हुई है, उससे तमाम फिल्मकार और वह कलाकार जो कि अभिनेता होने के साथ साथ निर्माता भी हैं, काफी खुश हैं. सभी अदालत के निर्णय का स्वागत कर रहे हैं. मगर हर मसले पर अपनी दो टूक स्पष्ट राय रखने वाले अभिनेता ऋषि कपूर अदालत के निर्णय का स्वागत करने के साथ साथ अपनी चिंता भी व्यक्त कर रहे हैं.

अभिनेता ऋषि कपूर ने इस मसले पर अपनी राय देते हुए कहा है-‘‘मैं अपनी फिल्म इंडस्ट्री के साथ ही रहना चाहूंगा. मुझे लगता है कि व्यापक परिदृश्य में न्याय मिला है. हमें याद रखना होगा कि अब 60 का दशक नहीं रहा, जब अनपढ़ लोगों की संख्या काफी थी. अब लोग बुद्धिमान हो गए हैं. समाज काफी बदल चुका है. पहलाज निहलानी को इस बात का ख्याल रखना चाहिए.’’

मगर अपनी चिंता जाहिर करते हुए ऋषि कपूर ने आगे कहा है-‘‘पर मैं चिंतित हूं. निर्मातागण इस आजादी का दुरूपयोग न करने लगे. मुझे यकीन है कि वह ऐसा जरुर करेंगे. क्योंकि यह भेड़चाल वाली इंडस्ट्री है. अब सभी इसी तरह के दृश्यों से भरपूर फिल्म बनाकर स्थिति का फायदा उठाना चाहेंगे. अब वह फिल्म की विषवस्तु से परे जाकर भी गलत चीजे फिल्म में पेश करेंगे.’’