सरिता विशेष

हंसल मेहता निर्देशित फिल्म ‘‘सिटी लाइट्स’’ से चर्चा में आयी अभिनेत्री पत्रलेखा इन दिनों विक्रम भट्ट निर्देशित फिल्म ‘‘लव गेम्स’’ को लेकर चर्चा में है. मगर पत्रलेखा के इस दावे से लोग हैरान हैं कि वह फिल्मकार हंसल मेहता को अपना गुरू मानती हैं. लोगों के हैरान होने की कई वजहे हैं.

फिल्म ‘‘सिटी लाइट्स’’ में राजकुमार राव के पत्रलेखा, पति पत्नी के किरदार में थे. इस फिल्म में राज कुमार राव व पत्रलेखा के इंटीमेंट दृश्यों की भी काफी चर्चा हुई थी. इन दृश्यों को करने में पत्रलेखा शायद इसलिए सहज रहीं थीं, क्योंकि निजी जिंदगी में पत्रलेखा, राज कुमार राव के साथ डेटिंग कर रही हैं. राज कुमार राव अपने आप में बेहतरीन अभिनेता हैं और वह हंसल मेहता के निर्देषशन में ‘‘सिटी लाइट्स’’ के अलावा ‘‘शाहिद’’ और ‘‘अलीगढ़’’ सहित तीन फिल्में कर चुके हैं.

इतना ही नहीं ‘‘सिटी लाइट्स’’ और ‘‘लव गेम्स’’ इन दोनों फिल्मों के निर्देशक अलग अलग हैं, मगर इन दोनों ही फिल्मों का निर्माण महेश भट्ट कैंप यानी कि ‘‘विशेष फिल्मस’’ के बैनर तले हुआ है.

ऐसे में पत्रलेखा महेष भट्ट का जिक्र करने की बजाय सिर्फ हंसल मेहता के गुण गा रही हैं. यह बात बौलीवुड में किसी को भी हजम नहीं हो रही है. पर पत्रलेखा कहती हैं-‘‘अब तक मैंने सिनेमा और अभिनय के बारे में जो कुछ सीखा, वह सब हंसल मेहता से ही सीखा है. इसलिए मैं हंसल मेहता को अपना गुरू मानती हूं. उनके निर्देशन में फिल्म ‘सिटी लाइट्स’ में अभिनय करना स्कूल की पढ़ाई करने जैसा ही था. जब मेरे पास किसी नई फिल्म का आफर आता है,तो उस फिल्म को साइन करने से पहले मैं हंसल मेहता जी से एक बार राय जरुर लेती हूं.’’