दिव्या खोसला कुमार निर्देशित फिल्म ‘‘यारियां’’ से चर्चा में आए अभिनेता हिमांश कोहली को उसके बाद कोई फिल्म नहीं मिली. पूरे दो साल के बाद उन्हे हसनैन हैदराबादवाला के निर्देशन में बन रही फिल्म ‘‘स्वीटी देसाई वेड्स एनआरआई’’ मिली. पर फिल्म के निर्देषक की शर्त थी कि उन्हे इस फिल्म में अभिनय करने के लिए पहले गुजराती भाषा सीखनी पडे़गी. बेचारे हिमांष ने अपने अभिनय करियर की रूकी हुई गाड़ी को आगे बढ़ाने के लिए गुजराती सीखी.

खुद हिमांष कोहली कहते हैं-‘‘मैं ठहरा दिल्ली में पला बढ़ा पंजाबी युवक. मेरे लिए गुजराती भाषा सीखना बहुत कठिन रहा. पर मैंने गुजराती भाषा सीखने के साथ साथ गुजारितयां के जो मैनेरिज्म होते हैं, वह भी सीख लिए. मैं तो सेट पर भी सबसे गुजराती भाषा में ही बात करता हूं. कुछ लोग मेरा मजाक भी उड़ाते है, पर मुझे चिंता नहीं. आखिर किरदार तो सही अदाज में निभाना ही है.’’

COMMENT