सरिता विशेष

रणदीप हुडा बौलीवुड के उन चंद कलाकारों में से हैं, जो कि अपनी फिल्म की विषयवस्तु व अपने किरदार को लेकर स्वयं काफी होमवर्क करते हैं. किरदार के लुक आदि पर भी काम करते हैं. इन दिनों वह राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म निर्देशक उमंग कुमार के संग पाकिस्तानी जेल में बंद रहे सरबजीत पर बन रही फिल्म ‘‘सरबजीत’’ में सरबजीत का किरदार निभा रहे हैं, जिसकी शूटिंग शुरू हो चुकी हैं.

सूत्रों के अनुसार रणदीप हुडा ने पाकिस्तानी जेल में बंद सरबजीत के लुक में खुद को तैयार करके पैदल ही सेट पर पहुंचे, तो पहले गेट पर वाचमैन ने उन्हे नहीं पहचाना. किसी तरह से वह उसे समझाकर सेट पर पहुंचे और एक कोने में कुर्सी लेकर बैठ गए. फिल्म के निर्देशक उमंग कुमार ने उन्हे देखा पर यह पहचान नहीं पाए कि यह रणदीप हुडा ही है.

उमंग कुमार कुछ देर तक रणदीप हुडा का इंतजार करते रहे, फिर गुस्से में बड़बड़ाने लगे कि आज कल कलाकार भी सेट पर समय से नहीं पहुंचते हैं. धीरे धीर सभी कलाकार अनप्रोफेशनल होते जा रहे हैं. तब रणदीप ने भी चिल्लाकर एक कैदी की ही तरह जवाब दिया कि, ‘‘मैं कब से शूटिंग शुरू होने का इंतजार कर रहा हूं. पर आप ही आराम कर रहे हैं. तो मैं क्या करुं’’

रणदीप की आवाज सुनकर उमंग कुमार ने उन्हे पहचाना और उन्हे सरबजीत के लुक में देखकर हैरान रह गए. इसका जिक्र जब उमंग कुमार से चला तो उमंग कुमार ने इस बात को स्वीकार करते हुए कहा- ‘‘सच तो यही है कि मैने भी उन्हे सरबजीत के लुक में नहीं पहचाना था. एक कलाकार के तौर पर यह उनका अपने काम व अपनी कला के प्रति समर्पण व त्याग की मिसाल ही है. वह मैथिड एक्टिंग के लिए जाने जाते हैं, लेकिन इस किरदार के लिए वह उससे भी कई कदम आगे बढ़ गए.

यूं तो रणदीप बहुत बेहतरीन कलाकार हैं, मगर सरबजीत का किरदार उनके करियर का सर्वाधिक कठिन और चुनौतीपूर्ण किरदार है. उस दिन सेट पर जब मैने उन्हे नहीं पहचाना, तो मैं इस बात से संतुष्ट हो गया कि वह पूरी फिल्म में सरबजीत के किरदार के साथ भरपूर न्याय कर सकते हैं.’’

ज्ञात है कि फिल्म निर्माता संदीप सिंह, उमंग कुमार और वासु भगनानी तथा निर्देशक उमंग कुमार अपनी फिल्म ‘‘सरबजीत’’ का वर्ल्ड प्रीमियर 20 मई 2016 को ‘‘कान अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल’’ में करने की मंशा के साथ इस फिल्म को पूरा करने में जुटे हुए हैं.