सरिता विशेष

‘कहानी’ फिल्म के बाद निर्देशक सुजोय घोष ‘कहानी 2’ को लेकर आये हैं, जो एक इमोशनल थ्रिलर फिल्म है. ये एक साधारण मां की कहानी है, जो बेटी के लिए कुछ भी कर सकती है. इस बार उन्हें अपनी पहली फिल्म की अपार सफलता को देखकर डर लग रहा है. इसे वे एक कठिन परीक्षा समझते हैं जिसकी पढ़ाई उन्होंने ठीक तरह से की है. रिजल्ट की अपेक्षा कर रहे हैं. फिल्म का प्रेशर इतना अधिक है कि उन्हें अभी फिल्म के अलावा कुछ नहीं दिख रहा है.

इसमें उन्होंने काफी बच्चों के साथ शूटिंग की है जो बहुत कठिन था. उन्होंने इसकी पूरी शूटिंग कोलकाता में की है, क्योंकि वे वही पर पले बड़े हुए हैं. इस फिल्म को बनाने के लिए उन्हें काफी सोचना पड़ा, ताकि पहली फिल्म की इज्ज़त बनी रहे. यह न तो सीक्वल है न ही बायोपिक लेकिन किसी फिल्म की कॉपी है कि नहीं यह तो फिल्म देखने के बाद ही पता चल पायेगा.

पिछली फिल्म कहानी के क्लाइमेक्स को जब आलोचकों ने इंग्लिश फिल्म ‘टेकिंग लाइव्स’ से लिया गया माना, सुजोय से इस बारे में पूछा तो उन्होंने स्पष्ट किया था कि न तो उन्होंने वह फिल्म देखी है न ही उन्हें इस बारें में पता है, बल्कि एक संयोग है. लेकिन इस बार इंटरव्यू के दौरान उन्होंने स्वीकार किया है कि कई बार कुछ फिल्म उन्हें प्रेरित करती हैं जिसकी झलक उनके फिल्मों में देखने को मिलती है. कहानी 2 को उन्होंने लिखा है और विद्या बालन को लीड में लिया है.