मशहूर फिल्मकार बोनी कपूर के बेटे व मशहूर अभिनेता अनिल कपूर के भतीजे अर्जुन कपूर ने ‘यशराज फिल्म’ की फिल्म ‘इश्कजादे’ से अभिनय करियर की शुरूआत की थी. तब से ‘औरंगजेब’, ‘टू स्टेट्स’, ‘गुंडे’, ‘तेवर’, ‘की एंड का’ जैसी लगभग आठ नौ फिल्में कर चुके हैं. हर बार उनके अभिनय की तारीफ होती रही है. इन दिनों वह चेतन भगत के उपन्यास ‘‘हाफ गर्लफ्रेंड’’ पर बनी इसी नाम की फिल्म को लेकर उत्साहित हैं. तो दूसरी तरफ वह अपने चाचा अनिल कपूर के संग हास्य फिल्म ‘‘मुबारकां’’ में अभिनय कर काफी उत्साहित हैं.

हाल ही में जब अर्जुन कपूर से मुलाकात हुई, तो ‘‘सरिता’’ पत्रिका से खास बातचीत करते हुए अर्जुन कपूर ने अपने चाचा व अभिनेता अनिल कपूर के साथ फिल्म ‘मुबारकां’ में अभिनय करने के अनुभवों का जिक्र करते हुए कहा ‘‘ हकीकत यह है कि सबसे पहले ‘मुबारकां’ की पटकथा उन्होंने पढ़ी. उन्हें पसंद आ गयी, तो उन्होंने फिल्म साइन की. फिर मेरे पास भेजा और मुझसे फोन करके कहा कि उन्हें लगता है कि मैं यह किरदार निभा सकता हूं. मैं पटकथा पढ़ लूं. इससे मुझे लगा कि उनको मेरी प्रतिभा पर भरोसा है. उनके साथ मेरा रिश्ता हमेशा से इज्जत वाला था. वह मेरे लिए प्रेरणा के स्त्रोत भी हैं. मैं उनका बहुत बड़ा प्रशंसक हूं. लेकिन इस फिल्म में काम करते करते इज्जत के साथ साथ उनसे दोस्ती भी हो गयी.”

आगे अर्जुन ने कहा “चाचू के साथ प्रोफेशनली काम करके मेरी निजी जिंदगी के रिश्ते और बेहतर हो गए हैं. वह तो कॉमेडी जॉनर के राजा हैं. अनीस बजमी के साथ उनकी कमाल की ट्यूनिंग है. मेरे लिए तो कॉमेडी नया मामला था. तो जब उन्होंने गले लगाकर कहा कि मेरे साथ चल और इंज्वॉय कर. मेरे लिए कॉमेडी का जॉनर बहुत कठिन जॉनर रहा. पर अंदर से आत्मविश्वास था.”