गिरगिट की तरह रंग बदलना तो कलाकारों की पुरानी खूबी है. अभी कुछ दिन पहले जब बंगलौर मं एक लड़की के साथ कुछ पुरूषों द्वारा छेड़छाड़ का मामला गरमाया और हर तरफ से विरोध के स्वर उभरे, तो उस वक्त शाहरुख खान ने भी आगे बढ़ कर कहा था, ‘‘मैं आर्यन और अबराम दोनों से कहता हूं कि किसी भी नारी को चोट मत पहुंचाना. यदि आपने ऐसा किया, तो मैं आपका सिर कत्ल कर दूंगा. लड़कियों के प्रति सम्मान दिखाएं….’’

मगर अब शाहरुख खान अपने इस बयान की सफाई देते फिर रहे हैं. हाल ही में महबूब स्टूडियो में पत्रकारों के एक समूह से बात करते हुए शाहरुख खान ने कहा, ‘‘मेरे कहने का अर्थ यह था कि अगर कोई औरत के साथ बदतमीजी करेगा, तो उसे दंड मिलेगा. फिर चाहे वह ‘अपना’ ही क्यों न हो. मेरा मानना है कि इंसान की परवरिश की जड़ें मजबूत होनी चाहिए. मैं अपने बेटों की बात कर रहा हूं, इसके यह मायनें नहीं है कि वह गुलाम है. पर उन्हें भी ऐसा नहीं करना चाहिए. छोटे कपड़े पहनने में कोई बुराई नहीं है. हम सभी को हर तरह के कपड़े पहनने का हक है.’’