सरिता विशेष

अपने अपराध की सजा काटने यानी कि जेल में लगभग पांच साल गुजारने के बाद संजय दत्त के अपने अभिनय करियर को संवारने के प्रयास विफल ही होते जा रहे हैं. जेल से बाहर निकलने के बाद संजय दत्त को लेकर कई फिल्मों की घोषणा होने के बावजूद अब तक एक भी फिल्म शुरू नहीं हो पा रही है. सूत्रों के अनुसार सिद्धार्थ आनंद की फिल्म की शूटिंग शुरू हो, इसके लिए फिल्म के अपने किरदार की मांग के अनुरूप अपने आपको तैयार करने के लिए संजय दत्त ने अपने बंगले के नीचे के हिस्से को ट्रेनिंग स्थल का रूप देकर कनिष्क शर्मा से ट्रेनिंग लेनी शुरू की थी.

लोगों की उन पर नजर पड़े, इसके लिए बंगले की चार दीवारी पर हरे रंग का परदा लगावा था. संजय दत्त ने इस बात को खूब प्रचारित करवाया था. मगर अफसोस उनकी सारी मेहनत बेकार गयी. क्योंकि सिद्धार्थ आनंद ने फिलहाल इस फिल्म को ठंडे बस्ते में डाल दिया है. अब सिद्धार्थ आनंद ने यह निर्णय क्यों लिया, यह रहस्य बना हुआ है. इसके अलावा अब संजय दत्त की किसी भी फिल्म के शूरू होने की कोई गुंजाइश नजर नहीं आ रही है. इसलिए अब संजय दत्त के नजदीकी सूत्र कहने लगे हैं कि संजय दत्त के सितारे अभी भी गर्दिश में ही चल रहे हैं.

उधर संजय दत्त के सितारे इतने गर्दिश में है कि संजय दत्त के जीवन पर बनने वाली बायोपिक फिल्म का निर्माण भी अधर में लटका हुआ है. सूत्रों के अनुसार संजय दत्त की बायोपिक फिल्म में संजय दत्त का किरदार रणबीर कपूर निभाने वाले हैं, मगर जहां एक तरफ रणबीर कपूर का अपना करियर डगमग नजर आ रहा है. वहीं दूसरी तरफ अभी तक इस बायोपिक फिल्म के लिए दो हीरोइनों की तलाश भी पूरी नहीं हो पायी है. मजेदार बात यह है कि इस फिल्म की शूटिंग की तैयारियां करने की बजाय फिल्म के निर्माता राज कुमार हिरानी विदेश जाकर बैठे हुए हैं. यानी कि इस बायोपिक फिल्म पर भी ग्रहण ही लगा हुआ है.

इतना ही नहीं सूत्रों की माने तो कभी संजय दत्त के जिगरी दोस्त रहे सलमान खान के साथ उनका शीतयुद्ध खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. तो दूसरी तरफ संजय दत्त के दूसरे यार अजय देवगन अपनी फिल्म में इस कदर व्यस्त हैं, कि उनके पास संजय दत्त की सुध लेने का समय ही नही है. बेचारे संजय दत्त उम्र के इस पड़ाव पर अपने करियर को संवारने की लड़ाई में अकेले पड़ गए है. सूत्रों की माने तो संजय दत्त की समझ में नहीं आ रहा है कि वह अपनी किस्मत के सितारों को गर्दिश से कैसे उबारें.