सरिता विशेष

2010 में प्रदर्शित असफल फिल्म ‘‘आएशा’’ की निर्देशक राजश्री ओझा ने इस फिल्म के प्रदर्शन के पूरे छह वर्ष बाद अपना दर्द बयां किया है. जब यह फिल्म बन रही थी तब और फिल्म के प्रदर्शन से पहले फिल्म के प्रमोशन के दौरान भी बौलीवुड में खबरे उड़ी थीं कि निर्देशक राजश्री ओझा और फिल्म के निर्माता के बीच अनबन चल रही है.

ज्ञातब्य है कि फिल्म ‘‘आएशा’’ में सोनम कपूर की मुख्य भूमिका थी. इस फिल्म का निर्माण सोनम कपूर के करियर को संवारने के लिए ही सोनम कपूर के पिता अनिल कपूर और सोनम कपूर की बहन रिया कपूर ने किया था. उस वक्त चर्चाएं गर्म हुई थी कि फिल्म के कई दृश्यों को रिया व सोनम ने अपने हिसाब से पुनः फिल्माने पर निर्देशक को मजबूर किया. एडीटिंग में कई सीन इधर उधर किए गए. वगैरह वगैरह..मगर उस वक्त फिल्म की निर्देशक राजश्री ओझा चुप थी. उन्होंने इन खबरों को सिरे से झुठला दिया था.

पर अब पूरे छह वर्ष बाद फिल्म ‘आएशा’ की निर्देशक राजश्री ओझा ने मुंह खोला है. राजश्री ओझा का दावा है कि जो फिल्म रिलीज हुई थी, उसमें निर्देशक के तौर पर उनका नाम जरूर था, मगर हकीकत में यह वह फिल्म नहीं थी, जिसकी कल्पना उन्होंने की थी. राजश्री ओझा कहती हैं-‘‘यह वह फिल्म नहीं थी, जिसे मैंने विजन किया था. यह वह फिल्म नहीं थी, जिसे वास्तव में मैंने बनाया था. इस फिल्म के साथ  मेरी मर्जी के खिलाफ बहुत से बदलाव किए गए.’’

हो सकता है कि राजश्री ओझा का यह दावा एकदम सही हो. मगर सबसे बड़ा सवाल यह है कि उन्हे इस सच को बयां करने में छह वर्ष का समय क्यों लग गया?