सरिता विशेष

‘‘स्टार प्लस’’ पर प्रसारित हो रहे सीरियल ‘‘जाना ना दिल से दूर’’ में सुजाता (शिल्पा तुलस्कर) के पति और अथर्व (विक्रम सिंह चौहान) के पिता रमाकांत के किरदार में प्रशांत भट्ट नजर आने के साथ ही प्रशांत भट्ट पर ‘‘लौट के बुद्धू घर को आए’ की कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं. जी हां! अभिनय के क्षेत्र में प्रशांत भट्ट ने लगभग 12 साल बाद वापसी की है. इतना ही नहीं पूरे 17 साल बाद प्रशांत भट्ट एक बार फिर शिल्पा तुलस्कर के साथ अभिनय कर रहे हैं. इससे पहले 1999 में दूरदर्शन पर प्रसारित सीरियल ‘‘बंधन’’ में प्रशांत भट्ट और शिल्पा तुलस्कर भाई बहन के किरदार में नजर आए थे और अब ‘‘जाना ना दिल से दूर’’ में यह दोनों पति पत्नी के किरदार में नजर आने वाले हैं.

दूरदर्शन के सीरियल ‘‘बंधन’’ के अलावा प्रशांत भट्ट ने ‘‘स्टार प्लस’’ के ही सीरियलों ‘‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’’, ‘‘कसौटी जिंदगी की’’ सहित कई सीरियलों में अभिनय किया था. पर बतौर अभिनेता किसी भी सीरियल में उनका किरदार लोकप्रिय नहीं हुआ. इसी के चलते प्रशांत भट्ट ने अभिनय को तिलांजली दे एकता कपूर की कंपनी ‘‘बालाजी टेलीफिल्मस’’ में क्रिएटिव निर्देशक की हैसियत से काम करना शुरू किया था. उस वक्त प्रशांत भट्ट ने दावा किया था कि वह अभिनय से बोर हो गए हैं. अभिनय में उन्हे कोई चुनौती नजर नही आती.

फिर वह ‘कलर्स’ सहित कुछ चैनलों में प्रोग्रामिंग हेड के रूप में कार्यरत रहे. बाद में प्रशांत भट्ट ने संजय मेमने के साथ मिलकर प्रोडक्शन कंपनी ‘‘स्टूडियो बी एंड एम’’ खोली और इस कंपनी के तहत ‘मस्तांगी’ सहित कुछ सीरियलों का निर्माण किया. पर प्रशांत भट्ट निर्मित किसी भी सीरियल को अच्छी टीआरपी नहीं मिल सकी.

बहरहाल, हर जगह हाथ पैर मारने के बाद अब प्रशांत भट्ट वापस अभिनय की तरफ मुड़ गए हैं. यानी कि लौट के बुद्धू घर को आए. मजेदार बात यह है कि अभिनय को तिलांजली देने के बाद प्रशांत भट्ट ने दावा किया था कि वह अभिनय से बोर हो गए हैं. अभिनय में उन्हे कोई चुनौती नजर नहीं आती. जबकि अब अभिनय में वापसी की चर्चा करते हुए प्रशांत भट्ट कहते हैं-‘‘यह सच है कि मैं एक बार कैमरे के सामने काम करने वाला हूं. यह मेरा एक खास कैमियो किरदार है.’’