सरिता विशेष

बौलीवुड में कौन, कब और कैसे फिल्म कलाकार बन जाए, कहा नहीं जा सकता. जब स्पोर्टस खासकर बाक्सिंग पर आधारित फिल्म ‘‘साला खड़ूस’’ की पटकथा के साथ अभिनेता आर माधवन मशहूर फिल्मकार राज कुमार हिरानी से मिले और उन्होने बताया कि वह इस पटकथा पर आधारित फिल्म को नवोदित निर्देशक सुधा कोंगरा के निर्देशन में करने जा रहे हैं, और वह चाहते हैं कि राज कुमार हिरानी इसका निर्माण करे. पटकथा पढ़ने के बाद जब राज कुमार हिरानी फिल्म ‘‘साला खड़ूस’’ का निर्माण करने के लिए तैयार हुए, तो उन्होने सपने में भी नहीं सोचा था कि उन्हे इस फिल्म की हीरोईन के रूप में किसी बॉक्सर को ही चुनना पड़ेगा.

फिल्म के कंटेंट की मांग का ख्याल रखते हुए राज कुमार हिरानी और सुधा कोंगरा ने करीबन 700 नवोदित कलाकारों के आडीशन लिए, पर संतुष्ट नहीं हुए. अंततः उनकी तलाश निजी जिंदगी की बाक्सर रितिका सिंह पर जाकर रूकी. जी हां! रितिका सिंह राष्ट्रीय स्तर की बाक्सर हैं. उन्होने बाक्सिंग के साथ साथ मार्शल आर्ट में भी ट्रेनिंग ले रखी है. वह राज कुंद्रा और संजय दत्त की ‘सुपर फाइट लीग’ का हिस्सा रही हैं.

रितिका सिंह ने किक बाक्सिंग, कराटे और एमएमए में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं. लेकिन फिल्म ‘‘साला खड़ूस’’में अभिनय करने के लिए रितिका सिंह को काफी मेहनत करनी पड़ी. खुद रितिका सिंह बताती हैं- ‘‘फिल्म की हीरोइन और निजी जिंदगी के बाक्सर की शारीरिक बनावट के साथ साथ दोनों की बॉडी लैंगवेज में काफी अंतर होता है. इसलिए मुझे वर्कशाप करना पड़ा और काफी मेहनत करनी पड़ी. इस फिल्म में मैने एक ऐसी मच्छीमार लड़की का किरदार निभाया है, जिसे बाक्सर कोच बने आर माधवन ट्रेनिंग देकर राष्ट्रीय स्तर का बाक्सर बनाते हैं.