इन दिनों बौलीवुड में खबरें गर्म हैं कि जॉन अब्राहम के लिए ‘‘विक्की डोनर’’ और ‘‘मद्रास कैफे’’ जैसी फिल्मों का सृजन करने वाले फिल्मकार शूजीत सरकार के साथ उनकी अनबन हो गयी है. जब से यह खबर बौलीवुड में फैली है, तब से लोग काफी आश्चर्य भी व्यक्त कर रहे हैं. पर इस तरह की खबरे फैलने की वजहें भी हैं. सर्वविदित है कि बतौर निर्देषक शूजीत सरकार की पहली फिल्म ‘‘यहॉं’’ 2005 में रिलीज हुई थी. उसके बाद उन्होने अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म ‘‘श् बाइट’’ बनाने का असफल प्रयास किया. पर जब फिल्म ‘यहॉ’ के रिलीज होने के पूरे सात साल बाद 2012 में जॉन अब्राहम व शूजीत सरकार एक साथ आए, तो शूजीत सरकार ने जॉन अब्राहम के लिए सफलतम फिल्म ‘‘विक्की डोनर’’ निर्देशित की.

इसके बाद जॉन अब्राहम ने शूजीत सरकार के साथ मिलकर 2013 में फिल्म ‘‘मद्रास कैफे’’ का निर्माण किया, जिसका निर्देशन शूजीत सरकार ने ही किया था. इस फिल्म को काफी सराहा गया. इस फिल्म के बाद उम्मीद थी कि जॉन अब्राहम और शूजीत सरकार की जोड़ी कई बेहतरीन फिल्में लेकर आएगी. मगर अफसोस उसके बाद जॉन अब्राहम ने निशिकांत कामत के साथ हाथ मिलाया तो वहीं शूजीत सरकार ने अमिताभ बच्चन के साथ हाथ मिलाकर सफलतम फिल्म ‘‘पीकू’’ बना डाली.

इतना ही नहीं अब शूजीत सरकार और अमिताभ बच्चन मिलकर फिल्म ‘‘पिंक’’ का निर्माण कर रहे हैं. जिसकी शूटिंग हाल ही में दिल्ली में संपन्न हुई. इस फिल्म में अमिताभ बच्चन के साथ तापसी पन्नू भी अभिनय कर रही हैं. तो क्या वास्तव में शूजीत सरकार और जॉन अब्राहम के रास्ते अलग हो गए हैं.

इस पर सफाई देते हुए जॉन अब्राहम ने कहा-‘‘शूजीत सरकार के साथ हमारे संबंधों में कोई फर्क नहीं आया है. मैं और शूजीत बेहद रोचक विषय पर काम कर रहे हैं, जिसके निर्माण की घोषणा हम बहुत जल्द करने वाले हैं. शूजीत सरकार मेरे बहुत करीब हैं. वह मेरे लिए परिवार जैसे हैं. मैं हमेशा उनसे कहता रहता हॅूं कि हमें एक साथ फिल्में बनाते रहना चाहिए. खैर ‘मद्रास कैफे’ से भी ज्यादा विस्फोटक और खास होगी हम दोनों की अगली फिल्म.’’