जब बेडरूम को लेकर चर्चा होती है तो ज्यादातर लोग नॉटीनेस और रोमांटिक सी फीलिंग में डूब जाते हैं. असल में पति-पत्नी की टशन बेडरूम में भी साफ झलकती है.

आज के दौर में पति-पत्नी दोनों ही सोसाइटी के सामने अपने संबंधों को लेकर बहुत सजग होते हैं. अपने खराब संबंधों की झलक तक सोसाइटी के सामने नहीं आने देते. बेडरूम में इनका वह टशन बाहर निकलता है.

जीटीवी के सीरियल वो अपना साकी नायिका रिद्धी डोगरा कहती हैं, बेडरूम सीन में नॉटीनेस और रोमांस तो तमाम बार दिखता रहा है. पहली बार इस कहानी में बेडरूम का टशन दिखेगा. जहां पति-पत्नी लड़ते झगड़ते चीजें फेंकते दिखेंगे. पहले मुझे लगा कि यह स्टोरी राइटर की कल्पना भर होगी. जब सीरियल शुरू हुआ तो कई लेडीज ने यह स्वीकार किया कि बेडरूम नॉटीनेस और रोंमास ही नहीं टशन से भी भरा होता है. ज्यादातर लोग इन बातों को छिपा जाते हैं.

जम्मू की रहने वाली रिद्धी डोगरा राजनीतिक परिवार से हैं. उनके पिता जम्मू कश्मीर में मंत्री रहे हैं. रिद्धी के फूफा भाजपा के बड़े नेता अरूण कुमार जेटली हैं. रिद्धी के करियर की शुरूआत डांस शो से हुई थी. इसके बाद वह कई टीवी सीरियल कर चुकी हैं. नच बलियेऔर खतरों के खिलाड़ीमें उनकी पहचान बनी.

रिद्धी कहती है मैं कॉमेडी और रोमांटिक शो करना चाहती हूं. सीरियल वो अपना सामें मेरा किरदार निगेटिव दिखता जरूर है पर यह अलग सा है. टीवी की दूसरी निगेटिव किरदार से यह पूरी तरह अलग है.

निजी जीवन में रिद्धी अपने पति राकेश को लेकर बहुत पजेसिव है. राकेश भी बहुत पॉपुलर एक्टर हैं. रिद्धी कहती हैं कि मैं राकेश को अपना प्रॉपर्टी समझती हूं. राकेश अपने व्यवहार से बहुत स्वीट हैं. ऐसे में टीवी जगत और बाहर की कई लड़कियां उनको अप्रोच करने की कोशिश करती है. कई बार मुझे बहुत बुरा लगता है. पर हम भी जानते हैं कि एक्टिंग की फील्ड में यह जायज है.

टीवी पर दिखाई जाने वाली कहनियों के बारे में रिद्धी कहती हैं, आज टीवी का दर्शक यह कहता है कि अलग कहानी होनी चाहिये. पर जब कहानी आगे बढ़ती है तो दर्शकों को वही पुराना टेस्ट पंसद आने लगता है. टीवी के दर्शकों को स्पून फीडिंगपंसद होती है. जिससे कुछ दिन चलने के बाद शो वापस पुरानी कहानियों के ट्रेंड पर चल देती है.

रिद्धी कहती हैं कि टीवी सीरियलों को स्टोरी बेस्ड होना चाहिये. यह ज्यादा दिन तक नहीं चलने चाहिये. मुझे राइटिंग का शौक है. मैंने पति के साथ मिलकर कई कांसेप्ट तैयार किये हैं. समय आने पर उनको लेकर कुछ नया प्रयोग दिखेगा’.