सरिता विशेष

बौलीवुड में ऐसा बहुत कम होता है,जब कोई कलाकार किसी फिल्म में मुफ्त में काम कर ले. कई बार दिग्गज फिल्मकारों की पुल्मों में कुछ कलाकारो ने गेस्ट अपियरेंस में भले ही मुफ्त में काम किया हो. मगर किसी नए फिल्मकार के साथ नसिरूद्दीन शाह मुफ्त में यानी कि बिना पारिश्रमिक राशि लिए काम करेंगे, ऐसा लोग सोच भी नहीं सकते. लेकिन यह कटु सत्य है कि फिल्मकार अनूप कूरियन की फिल्म ‘‘ द ब्लू बेरी हंट’’ में नसिरूद्दीन शाह ने मुफ्त में अभिनय किया है. इस फिल्म में उनकी भूमिका छोटी नहीं है, बल्कि वह इस फिल्म के हीरो हैं.

वास्तव में मारिजुआना की फसल के इर्द गिर्द बुनी गई कहानी वाली फिल्म ‘‘ द ब्लू बेरी हंट’’ में नसिरूद्दीन शाह ने वैरागी बन चुके एक कर्नल की भूमिका निभायी है, जो कि केरला के वागामोन में अति उंचाई पर स्थिति अपने हरे भरे सुनसान स्टेट में जर्मन शेफर्ड कुत्ते के साथ रहते हैं. ‘इश्किया’ फेम अभिनेता नसिरूद्दीन शाह ने इससे पहले किसी भी रोमांचक फिल्म में इस तरह का चरित्र नहीं निभाया है. कर्नल किस तरह अपने स्टेट में मारिजुआना की ‘ब्लूबेरी स्कंक’’ की दुर्लभ और बेशकीमती फसल उगाने के लिए तैयार हो जाते हैं. फसल पूरी तरह से तैयार हो जाती है. अब उसे काटकर बेचने का दिन आ गया है. अब कर्नल अरबपति बनने वाले है. मगर रातों रात सब कुछ ऐसा बिगड़ता है कि कर्नल की सारी उम्मीदों पर पानी फिर जाता है.

निर्माता, निर्देशक व लेखक अनूप कूरियन की ‘‘ द ब्लू बेरी हंट’’ दूसरी फिल्म है. इससे पहले वह अतुल कुलकर्णी को हीरो लेकर 2005 में फिल्म ‘‘मानसरोवर’’ लेकर आए थे, तब ‘‘मानसरोवर’’ ने राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोहरत के झंडे गाड़ दिए थे. उस वक्त हर किसी को अहसास हुआ था कि बालीवुड को अब अनूप कूरियन नामक एक नया अति प्रतिभाशाली व नई सोच वाला फिल्मकार मिल गया है. मगर अफसोस ‘‘मानसरोवर’’ को तारीफें बहुत मिली, मगर बाक्स आफिस पर इस फिल्म ने कुछ खास कमायी नहीं की. जिसके चलते अनूप कूरियन को नई फिल्म बनाने से पहले धन जुटाने के लिए कनाडा जाकर केक बेचने का काम करना पड़ा. फिर कुछ समय उन्होंने अमरीका में साफ्टवेअर इंजीनियर के रूप में काम किया. लगभग पांच साल के कठोर श्रम के बाद उन्होने फिल्म बनाने के लिए धन जमा कर लिया. तब वह पुनः भारत लौटे. इस बार उन्होने अति नशीले पदार्थ ‘मारिजुआना’ को केंद्रित कर एक रोमांचक कथा लिखी. जिसे सुनकर नसिरूद्दीन शाह ने मुफ्त में अभिनय करने के लिए हामी भर दी.

जी हां! इस कहानी व अपने किरदार को सुनने के बाद नसिरूद्दीन शाह को जब पता चला कि लेखक, निर्देशक व निर्माता अनूप कूरियन इस फिल्म को पैसे की कमी के चलते लघु फिल्म के रूप में पटकथा में कांट छांट कर बनाना चाहते है, तो नसिरूद्दीन शाह ने निर्देशक अनूप कूरियन से कहा कि वह फिल्म को उसी तरह से बनाए, जिस तरह से उन्होने सोचा है और वह इसके लिए एक भी पैसा पारिश्रमिक राशि के तौर नहीं लेंगे.

इस बात को स्वीकार करते हुए अनूप कूरियन कहते हैं-‘‘पटकथा तैयार करने के बाद मुझे लगा कि मेरी फिल्म में नसिरूद्दीन शाह ही मुख्य भूमिका निभा सकते हैं. पर उनसे कैसे संपर्क किया जाए. यह दुविधा थी. इसके अलावा मेरे मन में शक था कि यदि नसिरूद्दीन शाह ने ज्यादा फीस मांग दी तो? पर मैं नसिरूद्दीन शाह से मिला. उन्होने पूरी कहानी व अपना किरदार सुना. उसके बाद नसिरूद्दीन शाह ने खुद कहा कि वह इस फिल्म से जुड़ना चाहते हैं तथा इसके लिए वह कोई फीस नहीं लेंगे. नसिरूद्दीन ने मेरी फिल्म में मुफ्त में अभिनय किया है. उनकी वजह से ही मैं एक घंटे और पचपन मिनट की अवधि वाली फिल्म बना सका. फिल्म का निर्माण करने के बाद इसके वितरण व थिएटरों में रिलीज को लेकर मुझे एक अलग तरह की लड़ाई लड़नी पड़ी. बहुत मुश्किलों के बाद अब मेरी फिल्म 8 अप्रैल को रिलीज होगी. यह इसलिए भी संभव हो पाया है, क्योंकि अब दर्शक अपरंपरागत फिल्में देखना पसंद करता है. मैं उम्मीद करता हूं कि मैं अपनी फिल्म जिन दर्शकों तक पहुंचाना चाहता हूं, वहां तक पहुंच सकेगी. हमारी फिल्म में नसिरूद्दीन शाह के अलावा विपिन शर्मा और आहाना कुमरा ने भी अभिनय किया है.’’

नसिरूद्दीन शाह की ही चर्चा करते हुए अनूप कूरियन आगे कहते हैं-‘‘हमारी फिल्म ‘‘ब्लू बेरी हंट’’ में नसिरूद्दीन शाह ने अपनी अब तक की सर्वाधिक बेहतरीन परफार्मेंस दी है. वह एक अविश्वसनीय अभिनेता हैं. यह फिल्म उनके बेहतर अभिनय के लिए हमेशा याद की जाएगी. वह पहली बार इस फिल्म में बंदूक के साथ नजर आएंगे. वह जबरदस्त एक्शन करते हुए दिखाई देंगे. इस असामान्य चरित्र में नसिरूद्दीन शाह को परदे पर देखना भी दर्शकों के लिए अनोखा अनुभव होगा.’’