सरिता विशेष

फिल्म ‘कृष 3’ की असफलता के साथ ही रितिक रोशन के करियर का पतन शुरू हो गया था. फिल्म ‘बैंग बैंग’ की असफलता के बाद पिछले दिनों जिस तरह अपनी पत्नी से तलाक के बाद कंगना रनौत के साथ रिश्तों को लेकर रितिक रोशन विवादों में घिरे रहे हैं, उससे उनके इमेज के साथ-साथ करियर को भी नुकसान हुआ है.

सूत्रों के अनुसार रितिक रोशन ने स्वयं एक पी आर की सलाह पर इस विवाद को बेवजह का तूल दिया था, वह चाहते तो मसले को आराम से बैठकर बिना किसी को भनक लगे ही सुलझा सकते थे. पर पी आर की सलाह पर रितिक ने जिस तरह कुछ अंग्रेजी दैनिकों में अपने ईमेल वगैरह विज्ञापन की तरह छपवाया, उसका खामियाजा उन्हे भुगतना पड़ रहा है.

उनकी हालिया प्रदर्षित फिल्म ‘मोहनजोदड़ो’ भी बाक्स आफिस पर बुरी तरह से असफल हुई है. इस फिल्म में रितिक के अभिनय की भी काफी आलोचना हो रही है. कहा जा रहा है कि लगभग हर दृष्य में रितिक ने अपने आपको दोहराया ही है. वैसे फिल्मृ ‘मोहनजोदड़ो’ के प्रदर्शन से 1 सप्ताह पहले जब रितिक ने प्रेस से मुलाकात की, उस वक्त बातचीत के दौरान रितिक में कोई उत्साह नजर नहीं आ रहा था. ऐेसा लग रहा था कि वह निजी जीवन के विवादों व करियर में मिल रही असफलता से टूट चुके हैं, और जब वह प्रेस बात कर रहे थे,तब भी वह अंदर से फिल्म ‘मोहनजोदड़ो’ की सफलता को लेकर आश्वस्त नहीं थे.

यह सच है कि रितिक रोशन के गिरते करियर को और अधिक गिराने में कंगना के साथ उनके रिश्ते के विवाद ने भी अहम भूमिका निभायी. इसके लिए पूरी तरह से खुद रितिक रोशन ही दोषी हैं. एक पुरानी कहावत है,‘जब इंसान की सोच नकारात्मक हो जाती है, जब इंसान दूसरे को बर्बाद करने की सोचने लगता है, तो वह सबसे पहले खुद को बर्बाद करता है.’

इस मसले पर जब हमने कुछ दिन पहले कंगना रनौत के साथ दो सफल फिल्में कर चुके निर्देशक आनंद एल राय से पूछा था कि रितिक और कंगना के बीच जो कुछ हो रहा है, उसको लेकर वह क्या सोचते हैं? इस पर आनंद एल राय ने कहा, ‘मुझै लगता है दोनों समझदार हैं. इन दोनों को सुलझे हुए तरीके से व्यवहार करना चाहिए. मैं किसी की निजी जिंदगी को लेकर कोई बात हीं करना चाहता. आप लोकप्रिय हैं, तो आपकी जिंदगी की हर बात बहुत जल्द आम लोगों तक पहुंच जाती है. ऐसे में अनचाहे दबाव जिंदगी में बनते हैं. जरूरी होता है कि अनचाहे दबाव से बचकर रचनात्मक चीजों पर ध्यान लगाएं. इस तरह की घटनाएं देखकर दुःख होता है. हर कलाकार की अपनी निजी जिंदगी होती है, जिसका हानि लाभ उसे ही भुगतना पड़ता है.’

आनंद एल राय की यह बात फिलहाल रितिक पर पूरी तरह से सटीक बैठती है. कंगना विवाद पर बौलीवुड से रितिक को कोई सपोर्ट नहीं मिला. जबकि कंगना को कुछ कलाकारों का सपोर्ट भी मिला. बहुत कुरेदे जाने पर रितिक ने कहा,‘जब सच आपके साथ होता है, तो आपको किसी के सपोर्ट की जरुरत नहीं होती है. मुझे बचपन से सिखाया गया है कि मर्द की मर्दांनगी हमेशा औरत को प्रोटेक्ट करने में है. मैं दयालु हूं मगर किसी ने गलत किया, तो उसे ठीक करने का दायित्व भी मेरा ही है. मेरा सामाजिक दायित्व है कि मैं उसे सही करुं. इसके अलावा अन्याय के खिलाफ विद्रोह करना भी जरुरी है.’

रितिक अपने पक्ष में चाहे जो तर्क दें, मगर यह सच है कि वह अपने करियर को संभाल नहीं पा रहे है. सूत्रों की माने तो फिल्म मोहनजोदड़ो की बाक्स आफिस पर जो दुर्गति हुई है, उससे रितिक काफी टूट चुके हैं. रितिक ने फिल्मकार आशुतोष गोवारीकर के संग अपनी दोस्ती व सारे रिश्ते खत्म कर दिए हैं. इतना ही नही वह अपने घर के अंदर खुद को बंद कर अकेले रह रहे हैं.

यहां तक की वह अपने ही पिता राकेश रोशन के निर्देशन में बन रही फिल्म ‘काबिल’ की शूटिंग के लिए सेट पर नहीं जा रहे हैं. जिससे फिल्म के निर्माता को हर दिन 12 लाख रूपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है. उधर उन्हें ‘यशराज फिल्मस’ की फिल्म ‘ठग’ से भी हाथ धोना पड़ा है.

काबिल के साथ भी कई तरह की मुसीबतें हैं. रितिक पूरे मन से इस फिल्म की शूटिंग नहीं कर पा रहे हैं. तो वहीं काबिल के ही साथ शाहरूख खान की फिल्म ‘रईस’ भी रिलीज होने वाली है. काबिल के साथ प्रियदर्शन निर्देशित मोहनलाल के अभिनय से सजी मलयालम फिल्म ‘ओपम’ भी रिलीज होने वाली है. माना जा रहा है कि काबिल और ओपम की कहानी लगभग एक जैसी ही है. अक्षय कुमार भी ‘काबिल’ व ‘रईस’के साथ अपनी फिल्म ‘क्रैक’ को रिलीज करने वाले हैं. ऐसे में यदि खुदा न खास्ता काबिल भी बाक्स आफिस पर धराशायी हो गयी, तो रितिक का क्या होगा? इस सवाल का जवाब तो समय ही दे सकते हैं.