‘विक्की डोनर’, ‘मद्रास कैफे’ व ‘राकी हैंडसम’ जैसी हिंदी फिल्मों का निर्माण करने के बाद जान अब्राहम अब मराठी भाषा की फिल्मों का निर्माण करना चाहते हैं. इस तरह जान अब्राहम भी दूसरे कलाकारों की भांति क्षेत्रीय सिनेमा में कदम रखने जा रहे हैं. इससे पहले अभिनेता रितेश देशमुख मराठी भाषा में ‘‘बालक पालक’’ व ‘‘लय भारी’’ जैसी सफल व चर्चित फिलमों का निर्माण कर चुके हैं, तो वहीं एकता कपूर व संजय लीला भंसाली भी मराठी भाषा की फिल्म का निर्माण कर चुके हैं. जबकि अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा ने भी एक मराठी भाषा की फिल्म का निर्माण किया है, जो कि बहुत जल्द रिलीज होगी.

वास्तव में ‘नटंरग’ ,‘लय भारी’ जैसी मराठी फिल्मों के सुपर डुपर हिट होने के बाद हिंदी भाषी कलाकारों के मन में मराठी भाषा की फिल्में बनाने का जोश सवार हुआ है. इतना ही नहीं जिस तरह से महज दो करोड़ की लागत में बनी मराठी भाषा की फिल्म ‘‘सैराट’’ ने सौ करोड़ कमा लिए हैं, उससे भी लोग मराठी भाषा की फिल्मों के निर्माण की तरफ रूख कर रहे हैं.

खुद जान अब्राहम कहते हैं-‘‘मैं मराठी भाषा में फिल्म का निर्माण करना चाहता हूं. मैने ‘लय भारी’ व ‘सैराट’ सहित कुछ मराठी फिल्में देखी हैं. इससे मेरे मन में यह भाव पैदा हुआ कि मराठी संस्कृति व भाषा से ओतप्रोत फिल्म का निर्माण किया जाए.’’