सरिता विशेष

फिल्म ‘‘अकीरा’’ में खलनायक का किरदार निभाकर अभिनय के क्षेत्र में कदम रखने वाले फिल्मकार अनुराग कश्यप का दावा है कि अभिनय के क्षेत्र में करियर बनाना उनका मकसद नही है. वह तो पैसे के लिए अभिनय कर रहे हैं.

जी हां! अनुराग कश्यप ने एक समाचार एजेंसी से कहा है-‘‘यदि मुझे अच्छे पैसे मिलेंगे, तो मैं अभिनय करूंगा, अन्यथा अभिनय में मेरी कोई दिलचस्पी नही है. यदि एक निर्माता मुझे इतने पैसे देगा कि उन पैसों से मेरी दूसरी समस्याएं हल हो रही होंगी, तो ही मैं अभिनय करना पसंद करुंगा.’’

अनुराग कश्यप के इस बयान के आने के बाद बौलीवुड में अटकलों का बाजार गर्म है. चर्चाएं गर्म है कि बतौर निर्माता व निर्देशक अनुराग ने ‘उड़ता पंजाब’ व ‘रमन राघव 2’ जैसी फिल्मों में बाक्स आफिस पर जो नुकसान उठाया है, उस नुकसान की भरपायी करने के लिए ही उन्होंने फिल्म ‘‘अकीरा’’ में अभिनय किया है. तो वहीं यह चर्चा भी गर्म है कि अब अनुराग कश्यप दूसरे निर्माताओं का पैसा अभिनेता के तौर पर अपनी जेब में डालने के बाद उसे निर्माता व निर्देशक के तौर पर पानी की तरह बहाया करेंगे. वहीं कुछ लोग चर्चा कर रहे हैं कि अनुराग कश्यप भले ही खुले आम खुद को कला का सेवक बता रहे हैं और रचनात्मक स्वतंत्रता की दुहाई देते फिर रहे होंगे, मगर हकीकत में वह सब कुछ सिर्फ पैसे को अहमियत देते हुए ही करते हैं. और अब जाकर उन्होने इस सच को अपरोक्ष रूप से स्वीकार कर लिया है.

देखना यह है कि इन चर्चाओं के जवाब में अनुराग कश्यप क्या कहते हैं.