सरिता विशेष

फिल्म के प्रचार के लिए जो न करना पड़े, वह कम है. जी हां! आमिर खान अभिनीत फिल्म ‘दंगल’ दिसंबर में प्रदर्शित होनी है जो कि अपने समय के मशहूर कुश्तीबाज महावीर सिंह फोगट व उनकी बेटियों की जीवनगाथा पर आधारित है.

इस फिल्म में आमिर खान ने महावीर सिंह फोगट का किरदार निभाया है. इसी के चलते आमिर खान, महावीर सिंह फोगट की बेटी गीता फोगट की शादी के अवसर पर न सिर्फ कुछ उपहार खरीदा बल्कि खुद भी गीता फोगट की शादी में शामिल होने के लिए 20 नवंबर को महावीर सिंह के गांव बलाली, हरियाणा भी गए.

मजेदार बात यह है कि आमिर खान ने पंद्रह दिन पहले से ही प्रचारित करना शुरू किया था कि वह गीता की शादी में शादी का जोड़ा लेकर जाएंगे. आमिर खान ने तो यहां तक प्रचारित करा दिया था कि वह गीता की शादी का जोड़ा खरीद चुके हैं. मगर अंततः वह शादी का जोड़ा लेकर नहीं गए.

इस पर अपनी सफाई देते हुए महावीर सिंह फोगट के गांव में पत्रकारों के सामने आमिर खान ने कहा, ‘‘हम शादी का जोड़ा लेकर आने वाले थे, पर बाद में हमें बताया गया कि इनके यहां रिवाज है कि शादी का जोड़ा मामा के घर से आता है, इसलिए हम शादी का जोड़ा लेकर नहीं आए. पर कुछ उपहार लेकर आए हैं, जो कि फोगट परिवार के लिए प्यार का इजहार है. मगर हम दिसंबर माह में फोगट परिवार को फिल्म ‘दंगल’ दिखाएंगे, उनके लिए हमारी तरफ से ‘दंगल’ ही असली तोहफा होगा.’’ यानी कि आमिर खान अपनी फिल्म ‘दंगल’ का ही प्रचार कर रहे थे.

सूत्रों के अनुसार इस मौके पर वह मुंबई से अपनी पीआर टीम व अपने खास फोटोग्राफर को ले जाना नहीं भूले. यहां तक कि दिल्ली से कुछ पत्रकारों को भी साथ ले गए. जब मामला फिल्म ‘दंगल’ से जुड़ा हो, तो स्वाभाविक तौर पर आमिर खान अकेले कैसे जाते. उनके साथ फिल्म ‘दंगल’ के निर्देशक नितेश तिवारी और फिल्म ‘दंगल’ में आमिर खान के साथ अभिनय करने वाली साक्षी तंवर और सान्या मल्होत्रा भी थीं.

वैसे आमिर खान का दावा है कि वह फिल्म ‘दंगल’ की शूटिंग व उसकी तैयारी के चलते पिछले दो साल में महवीर सिंह फोगट व उनकी बेटियों गीता फोगट बबिता फोगट के काफी करीब आ गए हैं. उनके लिए गीता का वह बहुत भावनात्मक अवसर था और वह चाहते थे कि गीता की जिंदगी के इस नए कदम पर वह अपना आशिर्वाद उसे दें. इस अवसर पर आमिर खान ने शेरवानी के उपर काले रंग की जैकट और लाल रंग की पगड़ी भी पहनी थी.

इस अवसर पर आमिर खान ने महावीर सिंह फोगट के परिवार के करीबन दो सौ लोगों से मुलाकात करने के साथ ही उनके परिवार के लोगों के साथ बैठकर मख्खन लगी मकई की रोटी और सरसों के साग का सेवन भी किया. बाद में गाजर का हलवा खाकर मुंह मीठा किया.