रविवार, ग्यारह दिसंबर की रात राजनैतिक दल ‘महाराष्ट् नव निर्माण’ सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे के मुंबई में उनके निवास स्थान ‘‘कृष्ण भुवन’’ जाकर शाहरुख खान की मुलाकात ने एक नया बवंडर खड़ा कर दिया है. यूं तो शाहरुख खान ने राज ठाकरे से मुलाकात को लेकर चुप्पी साध रखी है. उन्होनें पत्रकारो से इस मुलाकात को लेकर कुछ भी नहीं कहा. मगर जैसे ही मीडिया में खबर फैली कि शाहरुख खान रात के अंधेरे में राज ठाकरे से मिलने उनके घर पहुंचे हैं, वैसे ही मीडिया और बौलीवुड में चर्चाएं गर्म हो गई कि शाहरुख खान अपनी 25 जनवरी को प्रदर्शित होने वाली फिल्म ‘‘रईस’’ को सही सलामत प्रदर्शित करवाने में सफल होने के लिए राज ठाकरे के सामने घुटने टेकने गए हैं.

राज ठाकरे के घर के अंदर शाहरुख खान और राज ठाकरे के बीच क्या बात हुई, इस पर शाहरुख खान ने भले ही चुप्पी साध ली हो, मगर अपने घर से शाहरूख खान के विदा लेते ही राज ठाकरे ने मीडिया को बता दिया कि शाहरुख खान उनके पास अपनी फिल्म ‘‘रईस’’ की पाकिस्तानी हीरोईन माहिरा खान को लेकर सफाई देने आए थे.

राज ठाकरे ने मीडिया से कहा – ‘‘शाहरुख खान की फिल्म ‘रईस’ 25 जनवरी को रिलीज होने वाली है. पिछले कुछ समय से खबरें फैली हुई हैं कि फिल्म ‘रईस’ में अभिनय कर चुकी पाकिस्तानी अदाकारा माहिरा खान अब फिल्म का प्रचार करने के लिए भारत आ रही हैं. शाहरुख खान इसी बात पर सफाई देने आए थे. शाहरुख खान ने हमसे कहा है माहिरा खान भारत नहीं आएंगी और भविष्य में वह किसी भी पाकिस्तानी कलाकार के साथ काम नही करेंगे.’’

उड़ी पर आतंकवादी हमले के बाद पूरे देश में पाकिस्तानी कलाकारों के खिलाफ विरोध का माहौल बना हुआ है. राज ठाकरे की पार्टी ‘मनसे’ ने पाकिस्तानी कलाकारों के खिलाफ  विरोध का झंडा बुलंद करते हुए ऐलान कर रखा है कि उनकी पार्टी उन फिल्मों को प्रदर्शित नहीं होने देगी, जिन फिल्मों में पाकिस्तानी कलाकारों ने अभिनय किया है. इसके बाद करण जोहर ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देंवेन्द्र फड़नवीस की मौजूदगी में राज ठाकरे के साथ मिलकर समझौता किया था कि निर्माता ‘आर्मी वेलफेअर फंड’ में 5 करोड़ रूपए देगा और वह भविष्य में किसी भी पाकिस्तानी कलाकार को अपनी फिल्म का हिस्सा नही बनाएंगे. उसके बाद करण जोहर अपनी फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को प्रदर्शित कर पाए थे. फिल्म ने बाक्स आफिस पर अच्छा व्यापार किया. पर बौलीवुड से जुड़ा हर शख्स व मीडिया का मानना है कि यदि पाकिस्तान कलाकार फवाद खान के इस फिल्म में होने की वजह से फिल्म विवादों में न आती, तो इस फिल्म को इतनी सफलता मिलना मुश्किल था.

बहरहाल, करण जोहर का अपनी फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को रिलीज करने के लिए यह समझौता फरहान अख्तर को रास नही आया. फरहान अख्तर ने खुले आम घोषणा की कि वह अपनी कंपनी ‘‘एक्सेल इंटरटेनमेंट’’ की फिल्म ‘‘रईस’’, जिसमें शाहरुख खान व माहिरा खान की मुख्य भूमिका है, को  प्रदर्शित करेंगे, मगर वह ‘आर्मी वेलफेयर फंड’ में पांच करोड़ रूपए नहीं देंगे. उस वक्त फरहान अख्तर ने बयान दिया था-‘‘करण जोहर ने अपनी फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ को प्रदर्शित करने के लिए जो समझौता किया है, वह गलत परंपरा है. ‘आर्मी वेलफेअर फंड’ में पांच करोड़ देने का सवाल ही नहीं उठता, जब खुद वह इस तरह की रकम लेने से इंकार कर चुके हों.’’

इतना ही नहीं उसी वक्त फरहान अख्तर ने कहा था-‘‘हम टैक्स देते हैं. हमारी सुरक्षा सरकार का दायित्व है. फिल्म रिलीज हो सके, यह सरकार का दायित्व है.’’ उस वक्त बौलीवुड के बहुत बड़े तबके ने फरहान अख्तर की पीठ ठपठपायी थी. मगर तब ‘‘सरिता’’ पत्रिका ने 30 अक्टूबर को लिखा था कि,‘‘ क्या अडिग रहेंगे फरहान?’’

लेकिन रात के अंधेरे में जिस तरह फिल्म ‘रईस’ के मुख्य अभिनेता शाहरुख खान ने राज ठाकरे के घर जाकर उनसे मुलाकात की और पाकिस्तानी अभिनेत्री माहिरा को लेकर सफाई दी, उससे यह बात साफ तौर पर जाहिर होती है कि फरहान अख्तर ने राज ठाकरे के सामने अप्रत्यक्ष रूप से घुटने टेक दिए..बालीवुड में इस बात पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं कि शाहरुख खान ने राज ठाकरे से वार्ता करने के लिए रात का अंधेरा ही क्यों चुना?

बरहहाल, शाहरुख खान के इस कदम से यह बात साफ हो जाती है कि बौलीवुड से जुड़ा हर शख्स हमेशा राजनैतिक पार्टियों के सामने नतमस्तक रहता है.

तो वहीं बौलीवुड का एक तबका यह मानता है कि राज ठाकरे से इस तरह मुलाकात के पीछे शाहरुख खान का मकसद अपनी फिल्म ‘‘रईस’’ को विवादों में लाना है, जिसका फायदा वह बाक्स आफिस पर उठाना चाहते हैं. इसके अलावा उन्हे ‘काबिल’ का डर भी सता रहा है. इसलिए भी वह ऐन केन प्रकारेण ‘रईस’ को सुर्खियों में रखना चाहते हैं. पर शाहरुख खान यह भूल गए कि इससे फरहान अख्तर की कथनी और करनी का अंतर भी लोंगों की समझ में तो आएगा ही.