इन दिनों बौलीवुड में हर कलाकार खुद को सीमाओें से परे ले जाना चाहता है. इरफान खान, प्रियंका चोपड़ा, दीपिका पादुकोण, राज कुमार राव सहित हर कलाकार हौलीवुड या अंतर्राष्ट्रीय फिल्मों का हिस्सा बनना चाहता है. ऐसे में भला ‘फुगली’ और ‘सिंह इज ब्लिंग’ जैसी फिल्मों में हास्य किरदार निभा चुके अभिनेता अरफी लांबा कैसे पीछे रह जाते?

जी हां! अब अरफी लांबा भी अंतर्राष्ट्रीय कलाकार बन गए हैं. वे जर्मन फिल्मकार डेनियल हररिच के निर्देशन में जर्मन के सुपर स्टार हेनर लॉचरबाक के साथ जर्मन फिल्म में रोमांटिक किरदार निभाते हुए नजर आने वाले हैं, मगर यह उनकी पहली अंतर्राष्ट्रीय फिल्म नहीं है. थिएटर से अभिनय करियर की शुरूआत करने वाले अरफी लांबा फिल्मों में अपने अभिनय करियर की शुरूआत, साल 2008 में अंतर्राष्ट्रीय फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ से ही की थी. उसके बाद वे हिंदी फिल्मों में नजर आए. इतना ही नहीं, अरफी अपनी फिल्म प्रोडक्शन कंपनी ‘‘बांबे बर्लिन फिल्म प्रोडक्शन’’ के तहत सायकोलॉजिकल रोमांचक फिल्म ‘प्राग’ और ‘द रोड टू मेंडले’ का सह निर्माण तथा ‘एल वो ई वी’ का निर्माण कर चुके हैं.

अब जर्मन फिल्म में अभिनय करने की चर्चा चलने पर अरफी लांबा कहते हैं -‘‘मुझे उस वक्त खुशी का अहसास होता है जब किसी भारतीय कलाकार को विदेशों में सराहना मिलती है. मैं मूलतः भारतीय पंजाबी हूं, मगर मेरे फिल्मी अभिनय करियर की शुरूआत हौलीवुड फिल्म ‘स्लमडॉग मिलेनियर’ से हुई थी. जब में अपनी फिल्म ‘एल वो इ वी’ को लेकर अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोहों में गया, तो मेरी मुलाकात जर्मन फिल्मकार डेनियल से हुई. उन्होने मुझे जर्मन फिल्म का आफर दिया, मुझे यकीन नहीं था कि मैं ये कर पाउंगा, पर डेनियल को मुझ पर भरोसा था. अब जबकि मैं फिल्म की शूटिंग पूरी कर चुका हूं, तो कह सकता हूं कि मैंने अच्छा काम किया है. यह फिल्म अतिशीघ्र जर्मनी में प्रदर्शित होगी.’’