बालीवुड में अक्षय कुमार भले ही खुद को मार्शल आर्ट में माहिर बता रहे हैं. पर सबसे बड़ी हकीकत यह है कि अक्षय कुमार के बालीवुड से जुड़ने से पहले ही याग्नेश शेट्टी ने मार्शल आर्ट के क्षेत्र में न सिर्फ झंडे गाड़ दिए थे, बल्कि वह 1982 से ही बालीवुड के कलाकारों को मार्शल आर्ट सिखाते आ रहे हैं.

बालीवुड में चीता के रूप में मशहूर याग्नेश शेट्टी अब तक सौ से अधिक फिल्म कलाकारों को मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग दे चुके है. इसके अलावा करीबन एक लाख से अधिक महिलाओ व बच्चों को उन्होने मार्शल आर्ट सिखाया है. भारत में मार्शल आर्ट को लोकप्रियता दिलाने के मकसद से ही कुछ वर्ष पहले चीता उर्फ याग्नेश शेट्टी ने ‘‘चीता जीत कुन डू ग्लोबल स्पोर्ट्स फाउंडेशन’’ की स्थापना की थी. वह पिछले चार दशकों से महिलाओं को आत्मरक्षा की ट्रेनिंग देते आ रहे हैं.

याग्नेश शेट्टी की ताजा तरीन उपलब्धि यह है कि हाल ही में अमेरिका के ‘‘एम्प्टी हैंड काम्बेट’’के अध्यक्ष सिफू कास्मो जिमिक ने ‘‘मानव कल्याण में मार्शल आर्ट’’ के अति बेहतरीन उपयोग के लिए चीता उर्फ याग्नेश शेट्टी को अमेरिका बुलाकर सम्मानित करवाया. इसके लिए अमेरिका के नम्पा सिटी, आयडाहो में आयोजित भव्य समारोह में अमरीका के पूर्व मेअर टाम डाले ने शेट्टी को सम्मानित किया.

इससे पहले गत वर्ष उन्हे ‘‘युनाइटेड स्टेट आफ मार्शल आर्टस  हाल आफ फेम 2014’’ और ‘‘श्रीलंका ट्रेडीशनल इंडीजेन्स मार्शल आर्ट एसोसिएशन’’ द्वारा ‘‘स्टीमा अवार्ड आफ आनरेबल मेंशन 2014’’ से भी सम्मानित किया गया था.