सरिता विशेष

उड़ी हमले के बाद बदले हुए माहौल में पाकिस्तानी कलाकारों को बैन करने के मुद्दे पर भले ही बौलीवुड अभी भी दो खेमों में बंटा हुआ नजर आ रहा हो,लेकिन धीरे धीरे जो सच सामने आ रहा है, उससे भारतीय फिल्मों से पाकिस्तानी कलाकारों को हटाए जाने का सिलसिला लगातार जारी है.

यह एक कटु सत्य है. बौलीवुड के एक बहुत बड़े प्रोड्कशन हाउस ‘यशराज फिल्मस’ ने पाकिस्तानी कलाकार अली जफर के छोटे भाई दन्याल जफर को अपनी प्रोड्कशन कंपनी की फिल्म में अभिनय करने का अवसर देकर बौलीवुड में उसके करियर की शुरूआत करवाने का वादा किया था. फिल्म के लेखक व निर्देशक हबीब फैजल ने उसी हिसाब से कहानी भी लिखी थी.

लेकिन बदले हुए हालात में दन्याल जफर के साथ फिल्म की शूटिंग शुरू करना संभव नजर नहीं आ रहा है. सूत्र बताते हैं कि ‘यशराज फिल्मस’ अपनी इस फिल्म की शूटिंग नवंबर माह से शुरू करने जा रहा है और कलाकारों के लिए वर्कशॉप दस अक्टूबर से शुरू हो चुका है.

सूत्रों का दावा है कि हालातों पर पैनी नजर रखते हुए ‘यशराज फिल्मस’ के आदित्य चोपड़ा ने अपनी इस फिल्म से अली जफर के भाई दन्याल जफर को बाहर का रास्ता दिखाते हुए उसी किरदार को निभाने के लिए रणबीर कपूर के फुफेरे भाई आदार जैन को जोड़ लिया है. यानी कि एक कलाकार के भाई का नुकसान, तो दूसरे कलाकार के भाई की लॉटरी लग गयी.

पर बेचारे अली जफर के भाई दन्याल जफर का बौलीवुड करियर शुरू होने से पहले ही खत्म हो गया. सूत्रों पर यकीन किया जाए, तो आदार जैन ने इस फिल्म के लिए वर्कशॉप करना शुरू कर दिया है. यह एक अलग बात है कि ‘यशराज फिल्मस’ से जुड़ा हर शख्स इस मसले पर चुप्पी साधे हुए हैं.

आदार जैन ने फिल्म ‘हैप्पी न्यू ईअर’ के समय बतौर सहायक निर्देशक फरहा खान के साथ काम किया था. सूत्रों के अनुसार आदार जैन ने अमरीका से अभिनय व फिल्म  मेकिंग की पढ़ाई कर रखी है.

सर्वविदित है कि ‘यशराज फिल्मस’ की दो फिल्मों में अली जफर अभिनय कर चुके हैं. मगर अब अली जफर, फवाद खान व माहिरा खान का भी बौलीवुड करियर अधर में लटका हुआ है.